वार्षिक राशिफल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

ज्योतिष शास्त्र के माध्यम से जीवन की बारीक से बारीक घटना को देखने का प्रयास किया जाता है। वार्षिक राशिफल में एक पूरे वर्ष में होने वाली मुख्य घटनाओं का आकलन किया जाता है। राशिफल का आधार जन्म राशि (जन्म कुण्डली में चन्द्रमा जिस राशि में स्थित हो) उस राशि को लग्न भाव में रखकर आने वाले वर्ष की घटनाओं का फलित किया जता है। प्राचीन काल में जन्म राशि के वर्ण के अनुसार नाम रखे जाते थें, इसलिये नाम को प्रथम वर्ण को ध्यान में रखकर भी लोग अपना राशिफल जान लेते थे। इसलिये कह दिया जाता था कि इस वर्ण से नाम शुरु हो रहा है तो आने वाला वर्ष इस प्रकार का रहेगा। जन्म समय का विचार किये बिना आज भी जब जन्म कुण्डली में ग्रह योग, दशा लगाये बिना अनेक व्यक्तियों के जीवन में आने वाले वर्ष की मुख्य घटनाओं को निकालना हों, तो चन्द्र राशि को केन्द्र में रख कर अन्य गोचर के अन्य ग्रहों को कुण्डली में बिठाया जाता है। उदाहरण के लिये अगर किसी व्यक्ति की जन्म राशि मेष हों, तो कुण्डली के लग्न में चन्द्रमा मेष राशि में स्थापित करने के बाद, अन्य ग्रहों को यथाराशि, यथा भाव में स्थित कर दिया जाता है। वर्तमान 2010 में शनि कन्या राशि में गोचर कर रहे है, तो कुण्डली में चन्द्र की स्थिति कन्या राशि में छठे भाव में होगी। गुरु दिसम्बर प्रथम माह में मीन राशि में गोचर कर रहे है, इसके कारण गुरु मेष राशि के द्वादश भाव में स्थित होगें। इसी प्रकार अन्य सभी ग्रहों को भी स्थापित कर लिया जाता है।

वार्षिक एवं राशिफल शनि व गुरु[संपादित करें]

वार्षिक लग्न के लिये सबसे पहले मन्द गति से चलने वाले ग्रहों के फलों का विचार किया जाता है। इसमें शनि जीवन की बडी घटनाओं को बताता है, क्योकि यह एक राशि में लगभग ढाई वर्ष तक रहता है। गुरु एक राशि में लगभग वर्ष तक रहते है, इसलिये ये भी जीवन की लम्बी घटनाओं को दर्शाते है। वार्षिक राशिफल देखने के लिये चन्द्र से ग्रहों की स्थिति देखी जाती है।

वार्षिक राशिफल एवं लग्न केन्द्र में चन्द्र राशि[संपादित करें]

जन्म राशि को लग्न भाव अर्थात शरीर का भाव माना जाता है। संयुक्त परिवार कि घटनाओं को देखने के लिये चन्द्र से द्वितीय भाव, चन्द्र से तृ्तीय भाव मित्र, यात्राओं का भाव है, चन्द्र से चौथा भाव माता, सुख व वाहन का भाव है, चन्द्र से पंचम भाव प्रेम प्रसंग और शिक्षा का भाव है। चन्द्र से छठे भाव को रोग व ऋण का भाव कहते है। चन्द्र से सप्तम भाव दांपत्य जीवन का भाव है, चन्द्र से अष्टम भाव आयु व दुर्घटनाओं का भाव है। चन्द्र से नवम भाव भाग्य व बडी यात्राओं का है। इसी प्रकार चन्द्र से दशम भाव आजीविका का भाव है। आय के लिये चन्द्र से एकादश भाव को देखा जाता है। गोचर में सभी ग्रह चन्द से एकादश भाव में होने पर सदैव शुभ फल देते है। इस प्रकार शनि, गुरु व अन्य ग्रहों की स्थिति को देखते हुए व्यक्ति के लिये वर्ष भर की परिस्थितियों का आकलन किया जाता है। सूर्य एक माह में एक राशि बदलता है, एक अन्य मत के अनुसार सूर्य राशि को लग्न केन्द्र में रख कर भी वार्षिक राशिफल निकाला जाता है। परन्तु चन्द्र राशि से सूक्ष्म घटनाओं को अधिक बारीकी से देखा जा सकता है।

बाहरी कड़िया[संपादित करें]

वार्षिक राशिफल पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें