वार्ता:माता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

माता पिता की सेबा करना उन पर कोंई अहसान नही माता-पिता के चरणों से बढ़कर दूजा कोंई स्थान नही छुले लेना उनके चरणों को तुम चारो धाम तीरथ हो जाएँ माता-पिता हीरे है ऐसे जिनका कोंई मोल नही माता-पिता से बढ़कर इस संसार में दूजा कोंई इन्शान नही माता-पिता की सेवा करना उन पर कोंई अहसान नही

Need more info[संपादित करें]

Please expand this article by adding more contents.

--Surya Prakash.S.A. १०:०१, १५ मार्च २०११ (UTC)