वार्ता:मलयालम भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यह पृष्ठ मलयालम भाषा लेख के सुधार पर चर्चा करने के लिए वार्ता पन्ना है। यदि आप आप अपने संदेश पर जल्दी सबका ध्यान चाहते हैं, तो यहाँ संदेश लिखने के बाद चौपाल पर भी सूचना छोड़ दें।

लेखन संबंधी नीतियाँ

शीर्षक के संबंध में[संपादित करें]

Pronunciation of second ल in Malayalam is ळ so the article may be renamed to मलयाळम भाषा--Vssun १५:४१, २९ जुलाई २०१० (UTC)

The correct pronunciation of the word Malayalam in Malayalam language is मलयाळम् (മലയാളം). But I am not sure whether the alphabet is used in Hindi. But I am sure it is used in Marathi. So as far as Hindi language/wiki is concerned, it is better to keep it as मलयालम itself since ळ is not used in Hindi. I think this is a unique case for all the languages that use Devanagri script.
A general suggestion. It is better not to include the word भाषा (bhasha) in the title of all the language articles unless there is some ambiguity. Earlier days English wikipedia used the word language with all the language article titles, since there are so many name of the languages in English that represent the people that speak that language also. Later they changed it. My suggestion would be keep the article title for language without this extra word. --Shijualex ०३:५९, ३० जुलाई २०१० (UTC)


Dear Mr. Vssun and Mr. ഷിജു അലക്സ്‌, First of all thanks for your feedback on this article.

Mr. ഷിജു അലക്സ്‌. is right in this regard that ळ is not present in Hindi. Though, in Devanagari script it is there, because Devanagari is used as a script for other languages also which use this sound (ळ), e.g.- Marathi. Even Sanskrit does not permit this sound. On the other hand, Vedic Sanskrit uses ळ freely, e.g.- 'अग्निमीळे पुरोहितम्... ' is the first verse of the Rigveda.

So, every such sound which is not present is a language, is represented by symbol of nearest equivalent sound, e.g.- ल is regarded as one such equivalent. Hence the usage of ल in मलयालम.

Thanks, and please keep up helping us by your such useful feedbacks.-Hemant wikikosh avishesh ०६:१९, ३० जुलाई २०१० (UTC)

Happy to see shiju here. I suggested this change due to the usage of pronunciation symbols in enwiki. Please see the article en:Śatakatraya in enwiki. Enwiki uses such pronuciation symbols widely in article names (especially for indian/sankrit words) to differentiate usage of s,l and so on. As Devanagiri Script provide the exact symbols, I think, usage of such symbols will contribute to the growth of Hindi language. Thanks --Vssun १२:३०, ३० जुलाई २०१० (UTC)

Suffix[संपादित करें]

Regarding your suggestion on "language suffix", you have not told the reason why English Wikipedians have changed the naming convention, while you have presented the counter-argument for the case ("since there are so many name of the languages in English that represent the people that speak that language also"), which is precisely the reason for writing the names like that in Hindi also. One thing is true that for unambiguous terms we can do so, but those are very few and doing so for fewer languages will deteriorate the naming convention. Also this is helpful in distinguishing the articles on 'X भाषा' and 'X साहित्य' (i.e. literature). Thanks again۔ -Hemant wikikosh avishesh ०६:३१, ३० जुलाई २०१० (UTC)

My suggestion would be to remove this extra word from the language articles and keep the extra words (for example literature, people, and so on) for other articles related to a language (For example Tamil (for the original language article), Tamil people (article about tamil people), Tamil Literature, and so on).
Any way final decision should be from Hindi wikipedia community. This is just my suggestion since we follow this method in Malayalam wikipedia. I have no claim that this is the best method --Shijualex ०७:०७, ३० जुलाई २०१० (UTC)

गूगल अनूवादित हिस्सा[संपादित करें]

परिचय[संपादित करें]

मल्यालम , भारत के केरल राज्य मे मुक्य रूप से बोलि जाने वालि एक भाशा है। यह भारत का २२ अनुसूचित भाशाओं मे से एक हे , और २०१३ मै भारत सरकार द्वारा एक शास्त्रिय भाशा घोशित किय गया था। मल्यालम केरल के रज्य मै और लकशदीप और पोन्दिछेरि के संघ राज्य क्शेत्रोम मै अधिकरिक भाशा का दर्जा प्रप्थ किया है। यह भाशा द्रिविद परिवार मे से आति है। २००१ कि जनगनन के अनुसर हमै यह पथा छल्ता है कि लाग्बग ३३ लाक लोगो से बोलि जाति हे। मल्यालम , केरकल के अलवा यह भाशा तमिल्नादु के निल्गिरि , कन्यकुमरि , कोयंबटूर जिल्ला कर्नतक के दक्शिन कन्नद , कोध्गु जिल्ला और लक्शदीप थथा अन्य कई देशो मे बसे मल्यलियै द्वार बोलि जाति है। मलयालम कि सम्भावना सबसे अधिक ६ वि शताब्प्थि मै , माध्यम तमिल से जन्म लिय है। मलयालम , भाश और लिपि के विचार से तमिल भाशा के काफि निकथ है। इस पर सन्स्रक्रिथि क प्रभाव ईसा के पूर्व पेहलि सदि से हुआ हे। सन्स्क्रिथ शब्धो को मल्यामलम शैलि के अनुकुल बनाने के लिये सन्स्क्रुथ से अवथरिथ शब्धो को साम्शोदिथ किया हे। अरबो के सात सदियोन से व्यापार सम्बन्ध अज्रेजि थथा पूर्थ्गालि उपनिवेशावाध क असर भि भाशा पर पदा हे। मलयालम के अस्थित्व आने से पेहले , पुरने तमिल साहिथ्य को एक क्शेत्र कि अदालथोम मे इस्तैमाल किय गय है , जिस्को तमलिकम कह जाता हे। एक प्रसिध उधाहरन सिलपतिकरम है। सिलपतिकरम कोछिन से छेरा राज्कुमर इल्लगो अधिगल द्वारा लिका गया है , और इस्को सनगम साहिथ्य मै एक क्लासिक माना जाता है। आधुनिक मलयालम अभि भि सानगाम साहिथ्य के प्राछीन तमिल शब्ध वालि से कई शब्धो को बरकरार रखा है। मल्यालम स्वतन्त्र रूप से सन्स्र्कुथ व्यकरन के नियमो के रूप मै अछि तरह से शब्ध उधार ले करने के लिये शुरु से वुव्प्थ्पन किय था , और बाध मै अर्थ एऴुथ के रूप मै माना जाता है। यह आधुनिक मलयालम लिपि मैन विकासिथ किय हैन।

आचार्यविग्ञन[संपादित करें]

मल्यालम शायध मल्यालम / तमिल शब्ध से शुरु हुआ है। "माला" क अर्थ है पहाडि और एलम क अर्थ शेत्र। इस प्रकार मल्यालम "पहाडि शेत्र" के रूप् मे उल्लेक किया जाता है , और बाध मे य्स नाम भाशा बन गया। इस भाशा क मध्य १९ वि सधि मै नाम मल्यालम मिल।

विकास[संपादित करें]

द्र हेर्मन्न गुन्देर्त (१८१४-१८९३) एक गेर्मन मिस्सिओनेर्य और विग्ञन मल्यालम साहित्य के विकास मै एक प्रथ्यक भूमिक निबायि है। अनेक प्रमुख ग्रन्थोन "केरलोल्पथि" (१८४३) , "पऴन्छोलमला" (१८४५) , "मल्याल भाशा व्याकरनम" (१८५१) , "पाथमाल"(१८६०) , पेहलि मल्यालम स्छूल पात्य पुस्थक लिक गया था। पविथ्र बिब्ले को भि माल्यालम मै अनुवाध किया। एक साथ तमिल , तोदा कन्न्द और तुलु साथ मल्यालम द्रिविद भाशावोन के धक्शिनि समूह के अन्थ्गर्थ आता है। १८२१ मै कोत्तयम मै चर्च मिस्सिन सोचिएति के मल्यालम मै मुध्रन किथाबे शुरु कर दिया , बेञमिन बैलि एक अग्रेज़ि पातरि पेहलि मल्यालम प्रकार बनाया था।कुछ प्रोटो तमिल , प्राचीन तमिल और मलयालम की सामान्य शेयर , आद्य तमिल से अलग एक भाषा के रूप मंए मलयालम के उद्भव , जिसके परिणामस्वरूप पर ९ वीं शताब्दी से चार या पाँच सदियों की अवधि में भिन्नताएं विश्वास करते है। तमिल ब्राह्मी लिपि और वत्तेलुत्तु में लिखा गया था , जो छात्रवृत्ति और प्रशासन की भाषा , आद्य तमिल , बाद में , बहुत मलयालम के प्रारंभिक विकास को प्रभावित किया है. केरल में पहले छपी किताब लिंगुआ मालाबार तमुलु में हेनरिक हेनरिक्स ने लिखा द्थाओच्त्रिअम छ्रिस्तिअम। यह लिप्यांतरणऔर अनुवाद मलयालम में , और १५७८ में पुर्तगालियों द्वारा मुद्रित किया गया था । बेंजामिन बेली , एक अंगरेज़ी पादरी , पहली मलयालम प्रकार बनाया जब १८२१ में कोट्टायम में चर्च मिशन सोसायटी (सीएमएस) के मलयालम में मुद्रण किताबें शुरू कर दिया . इसके अलावा, वह गद्य के मानकीकरण के लिए योगदान दिया। स्टटगार्ट , जर्मनी , से हरमन गुन्द्रेत तलसेर्रि में १८४७ में पहली मलयालम समाचार पत्र, राज्य स्मछरम् शुरू कर दिया । यह बेसल मिशन पर छपा था।

इथिहास:[संपादित करें]

मल्यालम भाशा केरल और आस्पास के जिल्लावोम के राज्य मे बोलि जाति है। मलयालम शब्ध के "माला" को पहाड केह्ते है और मल्यालम को , लोग या फिर पहाडि प्रदेश कि भाशा केह्ति है। पूरान से हमे पता चल्ता है कि मल्यालम साहिथ्य कि शुरुवाध "राम चरितम" से हुआ है। मल्यालम और तेलुगु साहिथ्य के चरिथ्र पर नज़र डल्ने से हमे पता चल्ता है कि दोनो मे समन्ता है , जैसे मलयालम "रम चरित" से और तेलगु ननैआ के महभारथम से हि कहा जा सक्ता हैन। पेहले मल्यालम भाश सिर्फ शिध तमिल कि एक स्तानीय बिलि से अधिक नहि था। राग्नीतिक अल्गाव और स्थनिय सग्र्श , ईसाई दर्म और इस्लम के प्रभव , और एक छोत सा एक हज़ार से अधिक साल पेहले नम्बूदरि भ्रामन के आग्मन से ये सारि व्यवस्ता स्थानिय बोलि मल्यालम भाशा के विकास के लिये अनुकूल बनाया था। नमबूधरि लोगो के आगमन से प्रसिध भक्थि गानो क उथ्पन हुआ है। "थुन्छतु रामानुजन एऴुथछन"१६ वि सदि को मल्यालम भाश के आधुनिक पिता माना जाता है। रामानुजन जि कै आग्मन से हि मल्यालम भाशा मै एक परिवर्थन आया है। तब तक मल्यालम भाशा दो विबागो से झुडा था , वो हे सन्स्रक्रुथ और तमिल। मल्यालम भाशा , बक्थि साहिथ्य के एक नये प्रकार कि शुरुवाध के साथ , फोर्म और सामग्रि मे दोनो , एक कायापलट लिय , और यह आम थोर पर मल्यालम भाशा और साहिथ्य मै आधुनिक्था शुरु किय जाता है। मल्यालम साहित्य के पेहले काव्य जो आज उपलब्ध है , वो "छनक्य के अर्थशास्त्र"पर एक गध्य है। मल्यालम भाशा के और भि प्रसिध कव्यगत् भि १४ वि सधि का है। ये दोनो काव्यगत एक खास गध्य मै झोदा है , वो है मनिप्रवलम , यह भाशावो के सागम है , एक केरल क भाशा और दूसरा सन्स्रक्रित। इस सन्कर शैलि मै एक व्याकरन और लप्फाजि , सन्स्क्रिथ और काम मै १४ वि सधि मै कुछ समय लिका है और उसे "लैलातिलकम" बुलया जाता है। साहिथिय्क और भाशायि इथिहास के एक छात्र के लिये जान्कारि क मुख्य स्त्रोथ है। इस पुस्थक के अनुसार साहिथ्य रचनवोन का "मनिप्रवलम" और "पत " शैलियो इस अवधि के दोरन प्रछलन मै थे। " पट्टू " क अर्थ गीत और अधिक या कम शुध मल्यालम स्कूल का प्रथिनिधिथ्व करता है। "लीलायतिलकम" मै " पट्टू " शैलि कि परिभाशा से , यह इस अवधि के दोरन केरल कि भाशा तमिल के साथ झुदा है , और अधिक या कम था कि अनुमन लगय जा सक्ता है , लेकिन मल्यालम इस अवधि के दोरान तमिल मे हि था , गलत तरिके से विश्वास हे कि कयि लोगो को गुम्रराह किय आज और पेहले।नवीनतम अनुसंधान मलयालम केरल में एक अलग बोली जाने वाली भाषा के रूप में ही होने के कारण पाठ्यक्रम में तमिल के साहित्यिक रूप है, अर्थात् सेन को जन्म दिया , जो जल्द से जल्द द्रविड़ जीभ , के इदिओस्य्न्च्रसिएस् के संरक्षण अपने पैतृक जीभ तमिल से विकास की स्वतंत्र लाइनों दिखाने लगे कि पता चलता है तमिल और मलयालम , जिनमें से मौखिक रूप केरल में प्रचलित है . हालांकि, १३ वीं सदी तक केरल की भाषा लोक गीतों में छोड़कर एक साहित्यिक परंपरा थी कि दिखाने के लिए कोई ठोस सबूत नहीं है। साहित्यिक परंपरा केरल के वैश्यालय पर तीन जल्दीमनिप्रवलम चम्पुस्, कुछ सन्देस कव्यस् और असंख्य कामुक रचनाओं के शामिल तो सामाजिक स्थिति के संबंध में उनके बारे में यथार्थवाद की एक मछली स्पर्श के साथ संयुक्त साहित्यिक सौंदर्य और कविता पसंद , साथ जो धड़कन। पौराणिक प्रकरणों पर टिप्पणियों के रूप में कई गद्य निर्माण मलयालम में शास्त्रीय निर्माण के थोक के रूप में।

पट्टू स्कूल भी क्नन्न्कासस्स् एक परिवार से संबंधित कवियों का एक सेट रामचरितम् (१२ वीं सदी ) , और गीता ( १४ वीं सदी ) जैसे प्रमुख काम करता है ( इस पैटर्न को परिभाषित करने के लिए समर्पित एक सूत्र एक पट्टू कहा जाता है )। तरह उनमें से कुरामचरितम्छ इस अवधि के दौरान तमिल भाषा के लिए एक करीबी सादृश्य है। यह तमिल तमिल देश के करीब है कि झूठ क्षेत्रों से संबंधित मूल निवासी कवियों पर काम करता है के प्रभाव के लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। यह बाद में कम्पुस् कव्यास् गया है कि १६ वीं और १७ वीं शताब्दी के दौरान किया गया। उनकी विशेषता है कि वे एक समान डिग्री करने के लिए संस्कृत विषयक और कविता के स्वदेशी तत्वों दोनों निहित था , और उस तरीके में अद्वितीय थे। जिसका नलछरितन अत्तकथा लोकप्रिय है आज भी उन्नयी वार्यर् , कथकली लेखकों न केवल बीच 18 वीं सदी की सबसे प्रमुख कवि था , लेकिन यह भी केरल के शास्त्रीय कवियों के बीच । वह अक्सर केरल के कालिदास के रूप में जाना जाता है। कथकली एक नृत्य नाटिका है और इसकी साहित्यिक फार्म कम या ज्यादा नाटक के बाद मॉडलिंग की जानी चाहिए हालांकि , एकात्तक्कथ और संस्कृत नाटक के बीच आम में अधिक कुछ नहीं है। यह कहना है , संस्कृत नाटक की एक विशेष प्रकार के लेखन में मनाया जा नाट्य शास्त्र के सिद्धांतों को पूरी तरह के एक लेख एकात्तक्कथक ने ध्यान नहीं दिया जाता। एक में एकात्तक्कथ सभी प्रमुख रसस् पूर्ण उपचार दिया , और एक साहित्यिक काम के रूप में देखा परिणामस्वरूप जब एक का एकात्तक्कथ विषय अक्सर अपनी अखंडता और कलात्मक एकता खो देता है जबकि एक विशेष रासा के चित्रण , संस्कृत नाटक के साथ एक अनिवार्य विशेषता है।