वाचिक परंपरा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यह एक ऐसी परम्परा है जिसमे वेदो को पत्रो पर लिख्ने कि बजाय याद करके सदियो तक सुरक्षित रखा जात था। गुरु अपने शिष्य को मोखिक रूप से सम्पूर्ण वेदिक साहित्य का अधय्यन करवाता था और शिष्य उसे याद कर लेता था

टिप्पणी[संपादित करें]

  • इसका उल्लेख विद्यानिवास मिश्र द्वारा रचित अनछुए बिंदु  (ISBN-10 8170165644 और ISBN-13 9788170165644) नामक पुस्तक में भी मिलते हैं।