सामग्री पर जाएँ

वसुंधरा दोरास्वामी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
वसुंधरा दोरास्वामी
जन्म 1949
मुदाबिद्री, कर्नाटक
राष्ट्रीयता भारतीय
पेशा भरतनाट्यम नृत्यांगना
जीवनसाथी स्वर्गीय श्री एच.एस. डोरास्वमी
माता-पिता पी.नागराज (पिता)
श्रीमती वरदा देवी (माता)

वसुंधरा दोरस्वामी (जन्म 1949) वसुंधरा प्रदर्शन कला केंद्र, मैसूर (भारत) के संस्थापक / निदेशक हैं। वह एक निपुण भरतनाट्यम नृत्यांगना, कोरियोग्राफर और सम्मानित गुरु हैं जिन्होंने पिछले छह दशकों से उच्चतम स्तर पर कला के रूप में योगदान दिया है। वह स्वर्गीय के अग्रणी शिष्यों में से एक हैं।[1]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

वसुंधरा का जन्म मूदाबिद्री में हुआ, दक्षिण कनारा (कर्नाटक) में पी.नागराज और श्रीमती वरदा देवी के यहां। वसुंधरा को मुरलीधर राव ने 4 वर्ष की उम्र में भरतनाट्यम से परिचित कराया और मार्गदर्शन किया। इन्होंने 5 राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता, जिसने उनकी क्षमता को उजागर किया।[2] उनके माता-पिता ने पंडनल्लूर मीनाक्षी सुंदरम पिल्लई, जो स्वर्गीय श्री रजारतनम पिल्लई की छात्रा थी; उन्हें उनकी देखरेख करने के लिए प्रेरित किया, जो उनके गुरु की भूमिका में रही।[3]

वसुंधरा ने अपने प्रशिक्षण के माध्यम से कर्नाटक माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित विश्वनाथ परीक्षा में प्रथम रैंक का अर्जित किया और लगातार तीन स्वर्ण पदक जीते। उनका विवाह स्वर्गीय श्री एच.एस.दोरास्वामी और उनका एक बेटा है जो अपनी परंपरा में जारी अपनी बहू मेघला हिरासेव के साथ ऑस्ट्रेलिया में रहता है। मेघला हिरासेव की एक प्रसिद्ध स्कूल है, जिसे कला का विन्यास कहा जाता है, जहाँ वह छात्रों को कला के प्रति बहुत लगन और समर्पण के साथ नृत्य सिखाती हैं।

व्यवसाय[संपादित करें]

1988 में वसुंधरा ने अपने अध्ययन के लिए योग और भरतनाट्यम के बीच संबंध पर पीएचडी अर्जित की। वह लोकगीत में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त की है और-तांग-ता ’और कलारिपयट्टु’ की मार्शल आर्ट की एक घाघ प्रतिपादक है जो नृत्य के लिए बहुआयामी दृष्टिकोण के लिए अपनी खोज के लिए प्रतिज्ञा करती हैं। डॉ० वसुंधरा ने योग और नृत्य के सहसंबंध पर एक ग्रंथ जारी किया है जिसे "नाट्य योग दर्शन" कहा जाता है। उनकी कोरियोग्राफियों के लिए, `पांचाली` को यक्षगान संगीत (कर्नाटक राज्य के लोक संगीत का एक रूप) भरतनाट्यम के विलक्षण रूपांतर के लिए जाना जाता है। गंगा लहरी, अम्बे, दक्षिणायनी, पांचाली, शकुनताकुंजना (उदावरा माधव आचार्य की साहित्यिक कृतियाँ) और अब ज्योति शंकर की क्षत्रप द्रौपदी-जैसे एक मजबूत महिला उन्मुख विषय की एकल प्रस्तुतियों की प्रशंसा अर्जित की हैं।

वसुंधरा प्रदर्शन कला केंद्र[संपादित करें]

वसुंधरा ने मैसूर में एक प्रदर्शन कला केंद्र की स्थापना की है, जो पल्लवोत्सव,[4]नटराजनोत्सव,[5] परसोत्सव और परंगाओत्सव।पिछले 25 वर्षों से चिगुरु संगे में हर साल ४ क्लासिक संगीत और नृत्य महोत्सव आयोजित करती आई हैं।[6]

पुरस्कार[संपादित करें]

  • कर्नाटक संगीत नृत्य अकादमी[7]
  • "नाट्य रानी शांताला" पुरस्कार कर्नाटक राज्य सरकार द्वारा नृत्य के लिए सर्वोच्च राज्य पुरस्कार
  • राज्योत्सव पुरस्कार कर्नाटक राज्य
  • "कर्नाटक कला तिलक" की सबसे कम उम्र की प्राप्तकर्ता हैं * श्री कृष्ण मठ, उडुपी के लिए "आस्ताना नृत्य रत्न" का एकमात्र प्राप्तकर्ता।
  • दूरदर्शन इंडिया द्वारा "चंदना अवार्ड", पद्म बसन सरोजा वैद्यनाथन नई दिल्ली[8]
  • कला विपनची "पद्म विभूषण श्री बालमुरली कृष्णा चेन्नई, नाट्य ज्योति
  • ऑस्ट्रेलिया से" चंदन अवार्ड
  • मिलेनियम अवार्ड के कलाकार यूएसए

बाहरी कड़ियां[संपादित करें]

वसुंधरा दोरास्वामी वेबसाइट

वसुंधरा की देश - विदेश की प्रस्तुतियां

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Archana, Nathan. "The sacred framework". The Hindu. अभिगमन तिथि 2/27/2020. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. SANGEETA, CAVALE. "Yoga and the energy of dance". मूल से 27 मई 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 मार्च 2020.
  3. Archana, Nathan. "The sacred framework". अभिगमन तिथि 31 मार्च 2020.
  4. Sudha, Harish. "Vasundharotsava: A memorable dance and music festival". Narthaki.com. मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 मार्च 2020.
  5. "Dance festival enthrals people". मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 मार्च 2020.
  6. "Dance festivals". Narthaki.com. मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 मार्च 2020.
  7. "Dr.Vasundhara Doraswamy". Art of Vinyasa. मूल से 14 अगस्त 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 मार्च 2020.
  8. "'Shreshta Kala Pracharak' award to Dr. Vasundhara". Banglore First. मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 मार्च 2020.