वर्ल्ड फैलोशिप ऑफ बुद्धिस्ट्स

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

द वर्ल्ड फैलोशिप ऑफ बुद्धिस्ट्स (डब्ल्यूएफबी; हिन्दी: विश्व बौद्ध सम्मेलन) एक अंतरराष्ट्रीय बौद्ध संगठन है। इसे गुनापाला पियासेना माललसेकेरा द्वारा शुरू किया गया, इसकी स्थापना 1950 में[1] कोलंबो, सिलोन में 27 देशों के प्रतिनिधियों द्वारा की गई थी।[2] यद्यपि थेरवादी बौद्ध अनुयायि संगठन में सबसे प्रभावशाली हैं, (इसका मुख्यालय थाईलैंड में है और इसके सभी अध्यक्ष श्रीलंका या दक्षिण पूर्व एशिया से हैं), सभी बौद्ध संप्रदायों के सदस्य डब्लूएफबी में सक्रिय हैं। परंपरागत बौद्ध देशों के अलावा अब भारत, संयुक्त राज्य अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका और यूरोप के कई देशों सहित 35 देशों में क्षेत्रीय केंद्र हैं।[3]

वर्तमान में फैलोशिप के अध्यक्ष के रूप में 1999 से थाईलैंड के फैन वन्नमेटी की सेवा कर रहे हैं, जबकि चीन गणराज्य के हिंग युन मानद अध्यक्ष के रूप में कार्य करते हैं।

अभिप्राय और उद्देश्य[संपादित करें]

विश्व बौद्ध फैलोशिप के अभिप्राय और उद्देश्य हैं:[2]

  1. सदस्यों के बीच बुद्ध की शिक्षाओं का सख्ती से पालन और अभ्यास को बढ़ावा देना
  2. बौद्धों के बीच एकता, एकजुटता और भाईचारे को सुरक्षित करना
  3. बुद्ध के उत्कृष्ट सिद्धांत का प्रचार करना
  4. सामाजिक, शैक्षिक, सांस्कृतिक और अन्य मानवीय सेवाओं के क्षेत्र में गतिविधियों को व्यवस्थित और संचालित करना
  5. पृथ्वी पर खुशी, सद्भाव और शांति के लिए काम करना और एक ही सिरों के लिए काम कर रहे अन्य संगठनों के साथ सहयोग करना

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]


  1. Olson, Carl (2009). The A to Z of Buddhism. Scarecrow Press. पपृ॰ 241–242. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780810870734.
  2. "About WFBHQ". World Fellowship of Buddhists. मूल से May 5, 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि April 2, 2015.
  3. Melton, J. Gordon; Baumann, Martin (2010). Religions of the World: A Comprehensive Encyclopedia of Beliefs and Practices [6 volumes]: A Comprehensive Encyclopedia of Beliefs and Practices. ABC-CLIO. पृ॰ 3132. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781598842043.