वर्मी वाश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

वर्मीवाश (Vermiwash) एक तरल जैविक खाद है जो ताजा वर्मीकम्पोस्ट व केंचुए के शरीर को धोकर तैयार किय जाता है। वर्मीवाश के उपयोग से न केवल उत्तम गुणवत्ता युक्त उपज प्राप्त कर सकते हैं बल्कि इसे प्राकृतिक जैव कीटनाशक के रूप में भी प्रयोग किया जा सकता है। वर्मीवाश में घुलनशील नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश मुख्य पोषक तत्व होते हैं। इसके अलावा इसमें हार्मोन, अमीनो एसिड, विटामिन, एंजाइम, और कई उपयोगी सूक्ष्म जीव भी पाये जाते हैं। इसके प्रयोग से पच्चीस प्रतिशत तक उत्पादन बढ़ जाता है।

वर्मीवाश तैयार करने की विधि[संपादित करें]

वर्मीवाश बनाने के लिये भिन्न-भिन्न स्थानों पर विभिन्न संस्थाओं/व्यक्तियों द्वारा अलग-अलग विधियां अपनायी जाती हैं, किन्तु सबका मूल सिद्धान्त लगभग एक ही है। विभिन्न विधियों से तैयार वर्मीवाश में तत्वों की मात्रा व वर्मीवाश की सांद्रता में अन्तर हो सकता है।

बनाने की प्रक्रिया

वर्मीवाश इकाई बड़े बैरल/ड्रम, बड़ी बाल्टी या मिट्टी के घड़े का प्रयोग करके स्थापित की जा सकती है। प्लास्टिक, लोहे या सीमेन्ट के बैरल प्रयोग किये जा सकते हैं जिसका एक सिरा बन्द हो और एक सिरा खुला हो। सीमेंट का बड़ा पाईप भी प्रयोग किया जा सकता है। इस पाईप को एक ऊँचे आधार पर खड़ा रखकर नीचे की तरफ से बंद करें। नीचे की तरफ आधार के पास साईड में छेद (1 इंच चैड़ा) करें। इस छेद में T पाईप डालकर वाशर की मदद से सील करें। अंदर की ओर आधा इंच पाईप रखें तथा बाहर इतना कि नीचे बर्तन आसानी से रखा जा सके। बाहर T पाईप के छेद में नल फिट करें तथा दूसरे छेद में नट लगायें जोकि पाईप की समय-समय पर सफाई के काम आएगा। यह नल सुविधानुसार बैरल की पेंदी में भी लगाया जा सकता है।

नल को खुला छोड़ कर बैरल में 2-4 इंच मोटे ईंट के टुकड़े या रोड़ी की 10-12 इंच मोटी परत बिछायें। इस पर पानी डालें जोकि नीचे से निकल जाए। इसके ऊपर मोटे रेत की 8-12 इंच परत बिछायें। फिर पानी डालें तथा नीचे नल से निकालें। इसके ऊपर 1-1.5 फुट दोमट मिट्टी की परत बिछायें। इसे गीला करें तथा 50-50 एपिजेइक व एनिजेइक केंचुए डालें। अगर सिर्फ एपिजेइक केंचुओं का प्रयोग करना हो तो मिट्टी की आवश्यकता नहीं है। केवल 2-4 इंच मिट्टी की परत डाल सकते हैं। इसके ऊपर गोबर की परत डाल दें। धीरे-धीरे पानी डालें तथा अतिरिक्त पानी निकल जाने के बाद नल बन्द कर दें। 20-25 मिनट नल को खुला रखते हुए रोजाना इकाई को नम करें। इस दौरान केंचुए वर्मीकम्पोस्ट बनाना शुरू कर देंगे।

ड्रम के नल के नीचे वर्मीवाश इकट्ठा करने के लिए एक दूसरा पात्र रखें।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]