वर्कला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Varkala (വര്‍ക്കല)
—  town  —
Paragliding at Varkala Beach.
Paragliding at Varkala Beach.
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य Kerala
ज़िला Thiruvananthapuram
तहसील Chirayinkeezhu taluk
Chairperson K.R.Biju
संसदीय निर्वाचन क्षेत्र Attingal
जनसंख्या
घनत्व
42,273 (2001 के अनुसार )
• 2,528/किमी2 (6,547/मील2)
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)
15.42 कि.मी² (6 वर्ग मील)
• 190 मीटर (623 फी॰)
आधिकारिक जालस्थल: www.varkalamuncipality.in

निर्देशांक: 8°43′59″N 76°43′01″E / 8.733°N 76.717°E / 8.733; 76.717 वर्कला (मलयालम: വര്ക്കല) भारत के केरल राज्य में स्थित तिरुवनंतपुरम जिले में एक तटीय शहर और नगर पालिका है। यह तिरुवनंतपुरम (त्रिवेंद्रम) के उत्तर-पश्चिम में 51 किलोमीटर दूर (लगभग 32 मील) और कोल्लम के दक्षिण-पश्चिम में 37 किलोमीटर पर स्थित है।

वर्कला, दक्षिणी केरल में ऐसी एकमात्र जगह है जहां ऊंची चट्टानें अरब सागर से सटे मिलती हैं।[1] इन तृतीयक तलछटी चट्टानों का गठन, केरल के अन्यथा सपाट तटीय इलाके में एक अद्वितीय भूवैज्ञानिक विशेषता है और भूवैज्ञानिकों के बीच यह वर्कला संरचना के रूप में जाना जाता है और एक भूवैज्ञानिक स्मारक जैसा की भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण द्वारा घोषित किया गया है। इन चट्टानों की ढाल पर पानी के कई सोते और स्पा हैं।

वर्कला बीच पर एक प्राकृतिक जल धारा

वर्कला, 2,000 वर्ष पुराने जनार्दन स्वामी मंदिर के लिए भी प्रसिद्ध है जो भारत में वैष्णवों का एक महत्वपूर्ण तीर्थ है और इसे अक्सर दक्षिण काशी (दक्षिण का बनारस) के रूप में संबोधित किया जाता है। यह मंदिर पापनासम तट के नज़दीक स्थित है जहां माना जाता है पवित्र जल है जो पापों को धो देता है और यह एक महत्वपूर्ण आयुर्वेद उपचार केंद्र है। इस प्राचीन मंदिर में एक प्राचीन घंटी है जिसे एक ध्वस्त जहाज़ से निकाला गया था जिसे डच पोत के कप्तान द्वारा दान किया गया था, उसका पोत बिना किसी हताहत के वर्कला के पास डूब गया था।

वर्कला में एक अन्य प्रसिद्ध स्थल है समाज सुधारक श्री नारायण गुरु द्वारा स्थापित सिवगिरी मठ. पहाड़ी की चोटी पर स्थित श्री नारायण गुरु की समाधि केरल में सबसे प्रसिद्ध स्मारकों में से एक है। आसन्न पहाड़ियों पर ईस्ट-वेस्ट यूनिवर्सिटी ऑफ़ ब्रह्मविद्या और श्री नारायण गुरूकुलम स्थित है।

इतिहास[संपादित करें]

किंवदंतियां[संपादित करें]

यह माना जाता है कि भगवान ब्रह्मा द्वारा एक पांड्या राजा को अपने पापों से मुक्ति पाने के लिए इसी स्थान पर एक मंदिर के निर्माण का निर्देश मिला. लेकिन वर्कला के जन्म के साथ कई अन्य मिथक जुड़े हुए हैं। एक अन्य कथा के अनुसार - जब तीर्थयात्रियों के एक समूह ने ऋषि नारद के पास जाकर उनसे कहा की उन्होंने पाप किया था, तब नारद ने अपना वॉलकलम (पेड़ के चाल से बना कटी वस्त्र) फेंका जो इस रमणीय गांव पर आकर गिरा और इसीलिए यह वर्कला के नाम से जाना जाने लगा. नारद ने अपने पापों से मुक्ति के लिए उन तीर्थयात्रियों से पापनासम में प्रार्थना करने को कहा, पापनासम का वास्तविक अर्थ होता है पापों से मुक्ति.[2]

भूगोल[संपादित करें]

वर्कला स्थित है8°44′N 76°43′E / 8.73°N 76.71°E / 8.73; 76.71[3].

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

शिवगिरी सड़क से वर्कला रेलवे सुरंग का एक दृश्य

वर्कला एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। इस शहर की दूरसंचार सुविधाएं उत्कृष्ट हैं, इसमें एक औसत स्तरीय पानी की आपूर्ति प्रणाली, फायर स्टेशन, कई डाकघर और पुलिस स्टेशन है। इस शहर में 10 निजी अस्पताल, क्लीनिक और कुछ दंत चिकित्सा क्लिनिक के अलावा सरकार द्वारा संचालित आधुनिक चिकित्सा, आयुर्वेद और प्रकृतिक इलाज की व्यवस्था है।

वर्कला शिवगिरी रेलवे स्टेशन में ट्रेने

सरकार द्वारा संचालित प्रकृतिक इलाज का अस्पताल पापनासम की चोटी के निकट भी काम कर रहा है।

वर्कला में जिला आयुर्वेदिक अस्पताल भी स्थित है।

तिरुवनन्तपुरम सेंट्रल स्टेशन के बाद, वर्कला, तिरुवनंतपुरम का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण अंतिम स्टेशन है। वर्कला अपने पड़ोसी जगहों के लिए एक महत्वपूर्ण केंद्र है जिनमें शामिल है अत्तिंगल, कदाकावुर, एडावा, कालमबालम, कपिल, पारिपाली और किलीमनूर.

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

2001 की भारतीय जनगणना के अनुसार[4], वर्कला की आबादी 42,273 है। जनसंख्या में पुरुषों की भागीदारी 49% और महिलाओं की 51% है। वर्कला की औसत साक्षरता दर 88% है, जिसमें से 92% पुरुष और 85% महिलाएं साक्षर है। जनसंख्या का 11% लोग 6 वर्ष से कम आयु के हैं। नगरपालिका ने कई योजनाओं को शुरू किया जो सफल रहे.

वर्कला के लोग आम तौर पर सेवा क्षेत्र में कार्यरत हैं। उनमें से एक बड़ी संख्या में भारत से बाहर काम करती है, विशेष रूप से, मध्य पूर्व, सिंगापुर, ब्रुनेई, मलेशिया, अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम में.

परिवहन[संपादित करें]

त्रिवेन्द्रम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा (55 किमी) निकटतम हवाई अड्डा है। वर्कला शिवगिरी रेलवे स्टेशन, तिरुवनन्तपुरम और भारत के कुछ प्रमुख स्थानों के साथ नियमित ट्रेनों द्वारा भली भांति जुडी हुई हैं। दी प्राइवेट और केरला राज्य सड़क परिवहन निगम (KSRTC) रेलवे स्टेशन बस डिपो के पास है।[5]

पर्यटन[संपादित करें]

वर्कला बीच की चट्टाने

पिछली सदी के अंत तक वर्कला बीच (पापनासम) पर पर्यटन पनपने लगा, जो पहले बीच पर किये जाने वाली एक हिंदू प्रथा वावू बेली के लिए प्रसिद्ध थी। एक और बीच तिरुवम्बादी में है, जो एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और पुराने महल जाने के मार्ग पर है। वहां बीच के पास एक हेलिपैड है। बीच के निकट कई आयुर्वेदिक मसाज पार्लर हैं .

प्रमुख दर्शनीय-स्थल[संपादित करें]

वर्कला बीच[संपादित करें]

वर्कला बीच धुप सकने और तैराकी के लिए स्वर्ग माना जाता है। शाम के सूर्यास्त का दृश्य देखने लायक होता है। पापस्नानम बीच के निकट कई छोटे रेस्तरां और स्नैक की दुकाने हैं, जो वक्त बिताने आये और धार्मिक कारणों से आये दोनों प्रकार के पर्यटकों में से अधिकतम लोगों को आकर्षित करते हैं।

कपिल झील[संपादित करें]

एडावा-नादयारा झील

कपिल झील वर्कला शहर से लगभग 4 किलोमीटर (3.75 मील) उत्तर की ओर स्थित है। यह शांत नदमुख, अरब सागर में मिलने से पहले घने नारियल के पेड़ों के बीच से होते हुए गुज़रता है। झील के ऊपर के पुल से दूर नीले क्षितिज में सफेद और नीले होते जल को बड़ी खूबसूरती से देखा जा सकता है। इस शांत जलमार्ग का आनंद लेने के लिए नौका विहार एक और शानदार तरीका है।

अन्जेंगो किला[संपादित करें]

अन्जेंगो किला वर्कला के नज़दीक एक किला है। यह ऐतिहासिक महत्व का स्थल है और साथ ही साथ सुंदर प्राकृतिक वातावरण भी है, अन्जेंगो उन लोगों के लिए एक आदर्श स्थान है जो चारों ओर पैदल घूमना पसंद करते हैं और देखते हैं कि वहां की क्या खासियत है। अन्जेंगो का ऐतिहासिक महत्व विदेशी शासनों से पनपा है जैसे कि पुर्तगाली, डच और अंत में अंग्रेजी ईस्ट इंडिया कंपनी. वर्ष 1684 में, अंग्रेजी ईस्ट इंडिया कंपनी ने केरल में अपने प्रथम व्यापार अड्डे की स्थापना के लिए अन्जेंगो को चुना.अन्जेंगो में, पुराने अंग्रेजी किलों के अवशेष देखे जा सकते हैं, जिस पर कई बार अन्य विदेशी शक्तियों द्वारा निशाना साधा गया था, जो उस वक्त केरल में एक दृढ़ आधार निर्मित करने के लिए एक-दूसरे से लड़ रहे थे। यह किला अब राष्ट्रीय विरासत स्मारक के संरक्षण के अंतर्गत है। किले के अन्दर एक कब्रिस्तान भी है, जिसमें संभवतः वे लोग हैं जो इस किले के स्वामी रहे होंगे और इन कब्रों में सबसे पुरानी का समय 1704 है।

वर्कला सुरंग[संपादित करें]

वर्कला सुरंग

वर्कला सुरंग एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है। यह एक 924 फीट लंबी सुरंग है जो 1867 में त्रावणकोर के दीवान टी. महादेव राव द्वारा बनाई गई थी और इसके पूर्ण होने में 14 वर्ष लग गए। वर्कला प्रकाशस्तंभ आसपास के क्षेत्र का एक और पर्यटन आकर्षण है।

पोंमथुरुत द्वीप[संपादित करें]

पोंमथुरुत द्वीप एक खूबसूरत जगह जहां क्रूज नाव के द्वारा पहुंचा जा सकता है। इस द्वीप में एक शिवपार्वती मंदिर है।

धार्मिक केन्द्र[संपादित करें]

जनार्दन स्वामी मंदिर[संपादित करें]

जनार्दन स्वामी मंदिर का तालाब
शिवगिरी मठ

जनार्दन स्वामी मंदिर एक बहुत ही महत्वपूर्ण वैष्णव मंदिर है जो हजारों की तादाद में तीर्थयात्रियों को अपनी ओर आकर्षित करता है। मंदिर लगभग 2000 साल पुराना है। मंदिर का मुख पापस्नानम बीच की ओर है जहां भक्तगण इस विश्वास के साथ स्नान करते हैं कि यह पवित्र जल उनके पापों को धो देगा. एक विशाल घंटी जो एक डच सौदागर जहाज के मलबे से बह कर आया था मंदिर में प्रदर्शन पर रखा है।

शिवगिरी मठ[संपादित करें]

शिवगिरी मठ वर्कला का एक प्रसिद्ध आश्रम है, जो दार्शनिक और समाज सुधारक श्री नारायणा गुरु द्वारा स्थापित की गयी थी। श्री नारायण गुरु की समाधि भी यहीं स्थित है। गुरु की समाधि (अंतिम विश्राम स्थल) पर यहां प्रत्येक वर्ष 30 दिसम्बर से 1 जनवरी तक चलने वाले शिवगिरी तीर्थयात्रा के दौरान हजारों की तादाद में श्रद्धालु आते हैं। 1904 में बनाया गया शिवागिरी मठ, वर्कला के पास शिवगिरी पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। 1928 में गुरु के अंतिम सांस लेने के दशकों बाद भी; उनकी समाधि पर पीले वस्त्र पहने हजारों भक्तों की भीड़ एकत्रित होती है, जो प्रत्येक वर्ष केरल और बाहर के अन्य स्थानों से, 30 दिसम्बर से 1 जनवरी तक चलने वाले शिवगिरी तीर्थयात्रा के दौरान वहां आते हैं। शिवगिरी मठ, श्री नारायण धर्म संघम का मुख्यालय है, जो उनके शिष्यों और संतों का एक संगठन है, यह गुरु द्वारा अपने एक जाती, एक धर्म, एक इश्वर, के सिद्धांत का प्रचार करने के लिए स्थापित किया गया था। गुरु देव जयंती, जो गुरु के जन्मदिन के उपलक्ष में मनाया जाता है और समाधि दिवस क्रमशः अगस्त और सितम्बर में हर साल मनाया जाता है। इस उपलक्ष्य में रंगारंग जुलूस, वाद विवाद और सेमिनार, सार्वजनिक बैठकों, सांस्कृतिक कार्यक्रमों, भोजों, सामूहिक विवाह और अनुष्ठान का आयोजन किया जाता है।

सरकारा देवी मंदिर[संपादित करें]

सरकारा देवी मंदिर एक प्रसिद्ध पुराना मंदिर है जो वर्कला के निकट चीराईनकीज्हू में स्थित है। यह मंदिर मलयालम महीने कुमभम (मार्च) में मनाये जाने वाले कलियूत त्योहार के लिए प्रसिद्ध है।

जलवायु[संपादित करें]

वर्कला की जलवायु सामान्य है, जिसमें जून से अगस्त के दौरान दक्षिण पश्चिम मानसून के कारण भारी वर्षा होती है। सर्दियां दिसंबर से शुरू होती है और फरवरी तक जारी रहती हैं। गर्मियों में, अधिकतम तापमान 35 डिग्री सेल्सियस और सर्दियों में 25 डिग्री सेल्सियस तक हो जाता है। वार्षिक औसत वर्षा 310cm होती है।[6]

दीर्घा[संपादित करें]

राजनीति[संपादित करें]

वर्कला विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र आतींगल (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र का हिस्सा है।[7]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.karthikaplaza.com/varkala.html | वर्कला का विवरण
  2. http://www.indiatravelphotos.com/kerala/beach/varkala-beach.html Legend of Varkala
  3. Falling Rain Genomics, Inc - Varkala
  4. "भारत की जनगणना २००१: २००१ की जनगणना के आँकड़े, महानगर, नगर और ग्राम सहित (अनंतिम)". भारतीय जनगणना आयोग. अभिगमन तिथि 2007-09-03.
  5. http://www.ssynayurveda.com/index.php/About-Varkala.html
  6. http://www.dazzlingindia.com/travel/about.aspx?destination=वर्कला जलवायु स्थिति
  7. "Assembly Constituencies - Corresponding Districts and Parliamentary Constituencies" (PDF). Kerala. Election Commission of India. अभिगमन तिथि 2008-10-21.

साँचा:Waters of Kerala