वज़ीर अली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सैयद वज़ीर अली (15 सितंबर 1903 - 17 जून 1950) प्रारंभिक भारतीय क्रिकेट में एक प्रमुख व्यक्ति थे। वह दाएं हाथ के बल्लेबाज और मध्यम गति के गेंदबाज थे।[1] वज़ीर ने उन सभी टेस्ट मैचों में खेला जो भारत ने दूसरे विश्व युद्ध से पहले खेलें थे। 1932 में इंग्लैंड के दौरे में, उन्होंने प्रथम श्रेणी मैचों में 1229 रन बनाए और कुल मिलाकर 1725 रन बनाए।

वजीर ने 1935/36 में एक ऑस्ट्रेलियाई इलेवन के खिलाफ दो अनौपचारिक टेस्ट में भारत की कप्तानी की थी। नायडू ने श्रृंखला के पहले दो मैचों में टीम की कप्तानी की और उन मैचों से बाहर हो गए जिनमें वज़ीर ने टीम की कप्तानी की। 1947 में पाकिस्तान की स्वतंत्रता के बाद, वज़ीर पाकिस्तान चले गए और उनका बाकी जीवन गरीबी में बीता।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "वज़ीर अली की जीवनी". क्रिकइन्फो (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 24 जून 2019.