वक्री ग्रह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारतीय खगोलविद्या के सन्दर्भ में, वक्री ग्रह, सूर्य और चन्द्रमा के अलावा उन सौर मण्डल के ग्रहों को कहते हैं जो पीछे की ओर गति करते हुए दिखते हैं। यह आभासी गति पृथ्वी के घूर्णक की कक्षा के कारण होती है।

वक्रीगति[संपादित करें]

वक्रीगति का अर्थ है, 'पीछे की ओर गति'। जब धरती किसी ग्रह के पास से होकर गुजरती है तब वह ग्रह पीछे की ओर चलता हुआ लगता है (अर्थात तारों के बीच, पश्चिम की ओर)।