लोकतांत्रिक शांति सिद्धांत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
फ्रांस के राष्ट्रपति चार्ल्स डी गॉल से हाथ मिलाते हुए पश्चिमी जर्मनी के चांसलर कोनराड एडेनॉयर (बॉन, 1958)। इन दोनों के प्रयत्नों से फ्रांसीसी-जर्मन दुश्मनी को समाप्त हुई।

लोकतांत्रिक शांति सिद्धांत के अनुसार लोकतांत्रिक देश आपस में नहीं लड़ते, या सशस्त्र संघर्ष में संलग्न होने में संकोच करते हैं।[a] लोकतांत्रिक शांति सिद्धांत के समर्थक इसके पीछे कई कारण बताते हैं:

  • लोकतांत्रिक नेताओँ के लिए अपने देश की जनता के प्रति जवाबदेह होना अनिवार्य है, क्योंकि यदि उन्होंने ऐसा नहीं किया तो मतदाता उन्हें अगले चुनाव में हरवा देंगे। अतः युद्ध में जो भी कुछ नुक़सान हुआ, यह जनता को बताना और दोष स्वीकार करना उनके लिए (राजनीतिक) जीवन या मृत्यु का सवाल होता है;
  • सार्वजनिक रूप से जवाबदेह राज्यों के लोगों को अंतरराष्ट्रीय तनाव के समाधान के लिए राजनयिक संस्थानों की स्थापना और प्रयोग करने की अधिक इच्छा होती है;
  • मिलती-जुलती नीति और और व्यवस्थाओं के कारण लोकतंत्रों की आपस में बेहतर समझ पैदा होती है, जिससे वहाँ के लोगों का दूसरे देश के लिए शत्रुतापूर्ण सोच की ओर झुकाव नहीं होता;
  • अन्य राज्यों की तुलना में लोकतंत्र के पास अधिक सार्वजनिक संपत्ति होती है, और इसलिए बुनियादी ढांचे और संसाधनों को संरक्षित करने के लिए वे युद्ध करना अनुचित समझते हैं।

इस सिद्धांत के विरोधी को विवादित करते हैं, वे अक्सर इस आधार पर ऐसा करते हैं कि सह-संबंध में कारणता निहित नहीं होती (correlation does not imply causation)। अर्थात्, केवल इसलिए कि दो तथ्य एक-साथ सत्य हैं, यह नहीं कहा जा सकता कि एक तथ्य दूसरे के कारण हो रहा है। इसके अलावा उनका मत है कि यह कि 'लोकतंत्र' और 'युद्ध' की अकादमिक परिभाषा में हेरफेर किया जा सकता है ताकि एक कृत्रिम प्रवृत्ति का निर्माण किया जा सके (Pugh 2005)।

यह सभी देखें[संपादित करें]

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. Michael Doyle's pioneering work "Kant, Liberal Legacies, and Foreign Affairs" साँचा:Harvs initially applied this international relations paradigm to what he called "Liberal states" which are identified as entities "with some form of representative democracy, a market economy based on private property rights, and constitutional protections of civil and political rights." This theory has been alternately referred to as the "Liberal peace theory" For example, (Clemens, Jr. 2002).

सूत्र[संपादित करें]

आगे की पढाई[संपादित करें]

  • Archibugi, Daniele (2008). The Global Commonwealth of Citizens. Toward Cosmopolitan Democracy. Princeton: Princeton University Press. मूल से April 15, 2010 को पुरालेखित.
  • Beck, N.; Tucker R (1998). "Democracy and Peace: General Law or Limited Phenomenon?". Annual Meeting of the Midwest Political Science Association.
  • Brown, Michael E., Sean M. Lynn-Jones, and Steven E. Miller. Debating the Democratic Peace. Cambridge, MA: MIT Press, 1996. ISBN 0-262-52213-6.
  • Cederman, Lars-Erik (1 March 2001). "Back to Kant: Reinterpreting the Democratic Peace as a Macrohistorical Learning Process". American Political Science Review. 95.
  • Davenport, Christian. 2007. "State Repression and the Domestic Democratic Peace." New York: Cambridge University Press.
  • Davoodi, Schoresch & Sow, Adama: Democracy and Peace in Zimbabwe in: EPU Research Papers: Issue 12/08, Stadtschlaining 2008
  • Fog, Agner (2017). Warlike and Peaceful Societies: The Interaction of Genes and Culture. Open Book Publishers. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-78374-403-9. डीओआइ:10.11647/OBP.0128. मूल से 28 अक्तूबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 फ़रवरी 2020.
  • George, Alexander L.; Andrew Bennett (2005). Case studies and theory development in the social sciences. Cambridge, Mass.: MIT Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-262-57222-4.
  • Hayes, Jarrod (2012). "The democratic peace and the new evolution of an old idea". European Journal of International Relations. 18 (4): 767–791. डीओआइ:10.1177/1354066111405859.
  • Hook, Steven W., ed. Democratic Peace in Theory and Practice (Kent State University Press; 2010)
  • Huth, Paul K., et al. The Democratic Peace and Territorial Conflict in the Twentieth Century. Cambridge University Press: 2003. ISBN 0-521-80508-2.
  • Ish-Shalom, Piki. (2013) Democratic Peace: A Political Biography (University of Michigan Press; 2013)
  • Levy, Jack S. (1988). "Domestic politics and war". Journal of Interdisciplinary History. 18 (4): 653–73. JSTOR 204819. डीओआइ:10.2307/204819.
  • Lipson, Charles. Reliable Partners: How Democracies Have Made a Separate Peace. Princeton University Press: 2003. ISBN 0-691-11390-4.
  • Müller, Harald (2004). "The Antinomy of Democratic Peace". International Politics. 41 (4): 494–520. डीओआइ:10.1057/palgrave.ip.8800089.
  • Owen, John M. (Autumn 1994). "Give Democratic Peace a Chance? How Liberalism Produces Democratic Peace". International Security. 19 (2): 87–125. JSTOR 2539197. डीओआइ:10.2307/2539197.
  • Peterson, Karen K. (2004). "Laying to Rest the Autocratic Peace". Presented at "Journeys in World Politics," University of Iowa.
  • Terminski, Bogumil (2010). "The Evolution of the Concept of Perpetual Peace in the History of Political-Legal Thought". Perspectivas Internacionales. 10 (1): 277–291.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

पक्ष में

विरोध में