लुप्तप्राय प्रजातियां

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
साइबेरियाई बाघ, लुप्तप्राय बाघ की एक उप-प्रजाति है; बाघ की दो उप-प्रजातियां पहले से ही लुप्त हो चुकी हैं।[1]
संरक्षण स्थिति
विलुप्त होने का जोखिम
विलुप्त

विलुप्त
जंगल से विलुप्त

संकटग्रस्त

गंभीर रूप से विलुप्तप्राय
विलुप्तप्राय
असुरक्षित

कम जोखिम

संरक्षण पर निर्भर
संकटासन्न
खतरे से बाहर

यह भी देखें

प्रकृति संरक्षण हेतु अंतरराष्ट्रीय संघ
IUCN लाल सूची

विलुप्तविलुप्तजंगल से विलुप्तगंभीर रूप से विलुप्तप्रायविलुप्तप्राय प्रजातियांअसुरक्षित प्रजातियांसंकटासन्नसंकटग्रस्त प्रजातियांखतरे से बाहरखतरे से बाहरIUCN संरक्षण स्थितियां

लुप्तप्राय प्रजातियां, ऐसे जीवों की आबादी है, जिनके लुप्त होने का जोखिम है, क्योंकि वे या तो संख्या में कम है, या बदलते पर्यावरण या परभक्षण मानकों द्वारा संकट में हैं। साथ ही, यह वनों की कटाई के कारण भोजन और/या पानी की कमी को भी द्योतित कर सकता है। प्रकृति के संरक्षणार्थ अंतर्राष्ट्रीय संघ (IUCN) ने 2006 के दौरान मूल्यांकन किए गए प्रजातियों के नमूने के आधार पर, सभी जीवों के लिए लुप्तप्राय प्रजातियों की प्रतिशतता की गणना 40 प्रतिशत के रूप में की है।[2] (ध्यान दें: IUCN अपने संक्षिप्त प्रयोजनों के लिए सभी प्रजातियों को वर्गीकृत करता है।) कई देशों में संरक्षण निर्भर प्रजातियों के रक्षणार्थ क़ानून बने हैं: उदाहरण के लिए, शिकार का निषेध, भूमि विकास या परिरक्षित स्थलों के निर्माण पर प्रतिबंध. विलुप्त होने की संभावना वाली कई प्रजातियों में से वास्तव में केवल कुछ ही इस सूची में दर्ज हो पाते हैं और क़ानूनी सुरक्षा प्राप्त करते हैं। कई प्रजातियां विलुप्त हो जाती हैं, या बिना सार्वजनिक उल्लेख के संभावित रूप से लुप्त हो जाती हैं।

संरक्षण स्थिति[संपादित करें]

किसी प्रजाति के संरक्षण की स्थिति उन लुप्तप्राय प्रजातियों के जीवित न रहने की सूचक है। एक प्रजाति के संरक्षण की स्थिति का आकलन करते समय कई कारकों का ध्यान रखा जाता है; केवल बाक़ी संख्या ही नहीं, बल्कि समय के साथ-साथ उनकी आबादी में समग्र वृद्धि या कमी, प्रजनन सफलता की दर, ज्ञात जोख़िम और ऐसे ही अन्य कारक. IUCN लाल सूची सर्वाधिक ज्ञात संरक्षण स्थिति सूचीकरण है।

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर, 194 देशों ने लुप्तप्राय और अन्य जोख़िम वाली प्रजातियों के संरक्षण के लिए जैव विविधता कार्य-योजना तैयार करने के लिए सहमति जताने वाले समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका में इस योजना को आम तौर पर प्रजाति रिकवरी प्लान कहा जाता है।

लुप्तप्राय प्रजातियों की IUCN लाल सूची[संपादित करें]

IUCN लाल सूची में लुप्तप्राय प्रजाति, संकटग्रस्त प्रजातियों की विशिष्ट श्रेणी को संदर्भित करता है और इसमें गंभीर रूप से संकटग्रस्त प्रजाति भी शामिल हो सकते हैं।

संकटापन्न प्रजातियों की IUCN लाल सूची में जोख़िम की एक विशिष्ट श्रेणी के तौर पर लुप्तप्राय प्रजातियां शब्द का प्रयोग किया जाता है। IUCN वर्ग और मानदंडों के अधीन लुप्तप्राय प्रजाति, गंभीर रूप से संकटग्रस्त और असुरक्षित के बीच में है। इसके अलावा, गंभीर रूप से संकटग्रस्त प्रजाति को लुप्तप्राय प्रजाति के रूप में भी गिन सकते हैं और सभी मानदंडों को भर सकते हैं।

विलोपन की जोख़िम वाली प्रजातियों के लिए IUCN द्वारा प्रयुक्त अधिक सामान्य शब्द है संकटापन्न प्रजातियां, जिसमें लुप्तप्राय और गंभीर संकटग्रस्त सहित कम जोखिम वाली असुरक्षित प्रजातियों की श्रेणी भी सम्मिलित हैं। IUCN श्रेणियों में शामिल हैं:

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

ESA के तहत "संकटग्रस्त" की तुलना में "लुप्तप्राय".

संयुक्त राज्य अमेरिका में लुप्तप्राय प्रजाति अधिनियम के अंतर्गत, दो श्रेणियों में "लुप्तप्राय" अधिक संरक्षित है। साल्ट क्रीक बाघ बीटल (सिसिनडेला नेवाडिका लिकोलनियाना) ESA के तहत संरक्षित उप-प्रजाति का एक उदाहरण है।

अकेले संयुक्त राज्य अमेरिका में, "विलुप्त होने के ख़तरे वाली ज्ञात प्रजातियों की संख्या लुप्तप्राय प्रजाति अधिनियम के तहत संरक्षित संख्या से दस गुणा अधिक है" (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 414). अमेरिकी मछली और वन्य-जीव सेवा और साथ ही, राष्ट्रीय समुद्री मत्स्य सेवा को लुप्तप्राय प्रजातियों के वर्गीकरण और संरक्षण के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है, तथापि, सूची में किसी विशिष्ट प्रजाति को जोड़ना, काफ़ी लंबी, विवादास्पद प्रक्रिया है और वास्तव में यह जोख़िम वाले वनस्पति और प्राणी जीवन के केवल एक अंश का ही प्रतिनिधित्व करता है (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 414).

कुछ लुप्तप्राय प्रजातियों के क़ानून विवादास्पद रहे हैं। विवाद के विशिष्ट क्षेत्रों में शामिल हैं: लुप्तप्राय प्रजातियों की सूची में किसी प्रजाति को रखने के लिए मानदंड और उनकी आबादी की बरामदगी पर सूची में से किसी प्रजाति को हटाने के लिए मानदंड; भले ही भूमि विकास पर प्रतिबंध का मतलब सरकार द्वारा भूमि का "अधिग्रहण" हो; संबंधित सवाल है कि क्या निजी ज़मीन के मालिकों को उनकी भूमि के उपयोग के प्रति नुक्सान के लिए मुआवजा दिया जाना चाहिए और संरक्षण क़ानूनों के प्रति समुचित अपवाद हासिल करना चाहिए या नहीं.

बुश प्रशासन के तहत, संघीय अधिकारियों द्वारा लुप्तप्राय प्रजातियों को नुक्सान पहुंचाने वाली कार्रवाई से पूर्व, वन्य-जीव विशेषज्ञों से परामर्श लेने की पिछली नीति को हटा लिया गया। ओबामा प्रशासन के तहत, इस नीति को पुनः बहाल किया गया है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

लुप्तप्राय प्रजातियों के रूप में सूचीकरण का नकारात्मक प्रभाव हो सकता है, क्योंकि यह प्रजाति को विशेष रूप से संग्रहकर्ताओं और शिकारियों के लिए और अधिक वांछनीय बना सकती हैं।[3] इस प्रभाव को संभावित रूप से कम किया जा सकता है, जैसे कि चीन में व्यावसायिक रूप से कछुए उत्पन्न करने से, शिकार के प्रति संकटग्रस्त प्रजातियों पर दबाव कुछ कम हो रहा है।[4]

सूचीबद्ध प्रजातियों के साथ एक और समस्या, किसी ज़मीन से लुप्तप्राय प्रजातियों को साफ़ करने के 'गोली मारो, ठेलो और चुप रहो " तरीक़े के उपयोग को उकसाने के प्रति उसका प्रभाव है। संप्रति कुछ ज़मीन मालिक, अपनी ज़मीन पर लुप्तप्राय जानवर के पाए जाने के बाद उसकी क़ीमत में कमी अनुभव करते हैं। उन्होंने कथित तौर पर, अपनी ज़मीन से समस्या के निदान के लिए, चुपचाप जानवरों को मारने और दफनाने या उनके निवास स्थान को नष्ट करने का विकल्प चुना है, लेकिन ऐसे में उसके साथ-साथ, लुप्तप्राय प्रजातियों की आबादी भी कम हो जाती है।[5] लुप्तप्राय प्रजाति अधिनियमकी प्रभावशीलता पर, जिसने "लुप्तप्राय प्रजातियां" शब्द को गढ़ा है, व्यापार तथा उसके प्रकाशनों के समर्थक समूहों द्वारा सवाल उठाया गया है, लेकिन फिर भी इन प्रजातियों के साथ काम करने वाले, वन्य-जीव वैज्ञानिकों द्वारा, इसे व्यापक रूप से प्रभावी बरामदगी उपकरण के रूप में मान्यता दी गई है। उन्नीस प्रजातियों को सूची से हटाया तथा बरामद कर लिया गया है[6] और पूर्वोत्तर संयुक्त राज्य अमेरिका में सूचीबद्ध प्रजातियों में से 93% में पुनर्लाभ या स्थिर आबादी है।[7]

इस समय, दुनिया में 1,556 ज्ञात प्रजातियों की विलुप्त होने के रूप में पहचान की गई है और वे सरकारी क़ानून (ग्लेन, 2006, वेबपेज) द्वारा सुरक्षा के तहत हैं। यह सन्निकटन, बहरहाल, लुप्तप्राय प्रजाति अधिनियम जैसे क़ानूनों के संरक्षण के तहत असम्मिलित, संकटग्रस्त प्रजातियों की संख्या को हिसाब में नहीं लेता है। नेचरसर्व के वैश्विक संरक्षण की स्थिति के अनुसार, लगभग तेरह प्रतिशत कशेरुकी (समुद्री मछली को छोड़ कर), सत्रह प्रतिशत संवहनी पौधे और छह से अठारह प्रतिशत तक कवक जोख़िम के तहत माने गए हैं (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 415-416). इस प्रकार, कुल मिला कर, सात से अठारह प्रतिशत तक, अमेरिका के ज्ञात जानवर, कवक और पौधे, विलोपन के नज़दीक हैं (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 416). यह कुल संख्या संयुक्त राज्य अमेरिका में लुप्तप्राय प्रजाति अधिनियम के तहत संरक्षित प्रजातियों की संख्या से अधिक है, जिसका अर्थ है कि कई प्रजातियां धीरे-धीरे विलोपन के क़रीब होती जा रही हैं।

नैतिकता का प्रश्न[संपादित करें]

इन प्रजातियों के बारे में अधिक जानने की खोज के मामले में भी, कई परिस्थिति-विज्ञानी, पर्यावरण और निवासियों पर उनके प्रभाव पर विचार नहीं करते हैं। यह स्पष्ट है कि "पारिस्थितिकी ज्ञान का अन्वेषण, जो मूल्यवान पारिस्थितिकी तंत्र की संपत्ति और सेवाओं के साथ-साथ पृथ्वी की जैव विविधता के संरक्षण के बारे में समझने के प्रयासों के सूचनार्थ बहुत महत्वपूर्ण है, अक्सर जटिल नैतिक सवाल उठाता है",[8] और इन मुद्दों को पहचानने और उन्हें सुलझाने के लिए कोई स्पष्ट रास्ता नहीं है। पर्यावरणविद, व्यक्तिगत पशुओं के कल्याण की बजाय, समग्र पारिस्थितिकीय क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करते हैं। ऐसे व्यापक दृष्टिकोण पर ध्यान केंद्रित करने से प्रत्येक व्यक्तिगत प्राणी का मूल्य घट जाता है। "इस समय जैव-विविधता संरक्षण दुनिया के सतही क्षेत्र के 11.5% संसाधन प्रबंधन के लिए आधारभूत लक्ष्य है।[9] जीवन का अधिकांश भाग इन संरक्षित क्षेत्रों से बाहर आता है और यदि लुप्तप्राय प्रजातियों का संरक्षण प्रभावी होना है, तो उन पर विचार किया जाना चाहिए.[तथ्य वांछित]

जैव विविधता और लुप्तप्राय प्रजातियों पर प्रभाव[संपादित करें]

ग्रह की जैव विविधता के संरक्षण के लिए, हमें विचार करना होगा कि क्यों अनेक प्रजातियां लुप्त होती जा रही हैं। "अमेरिका में आवास नुक्सान प्रजातियों के संकटग्रस्त होने का सबसे व्यापक कारण है, जो जोखिम वाली प्रजातियों में 85% को प्रभावित करता है" (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 416). जब किसी जानवर के पारिस्थितिकी तंत्र का अनुरक्षण नहीं होता है, वे अपना घर खो बैठते हैं और नए परिवेश को अपनाने या नष्ट होने के लिए मजबूर हो जाते हैं। प्रदूषण एक और कारक है जो कई प्रजातियों के, विशेष रूप से बड़ी मात्रा में जलीय जीवों के लुप्तप्राय होने का कारण बनता है। इसके अलावा, अतिशोषण, बीमारी (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 416) और जलवायु परिवर्तन (कोटियाहो एट अल., 2005, पृ. 1963) के कारण कई प्रजातियां लुप्तप्राय हुई हैं।

बहरहाल, दुनिया में अधिकांश वन्य जीवों के लुप्तप्राय होने का प्रमुख महत्वपूर्ण कारक, प्रजातियों पर मानव प्रभाव और उनका परिवेश है। "पिछली कुछ सदियों से मानवों द्वारा संसाधन, ऊर्जा और स्थलों के उपयोग में तेज़ी आई है, दुनिया के अधिकांश भागों में जैव विविधता में पर्याप्त रूप से ह्रास हुआ है" (ईश्वरन एंड एर्डेलेन, 2006, पृ.179). मूलतः, पर्यावरण पर जैसे-जैसे मानव का प्रभाव बढ़ता है, जीवन की विविधता घटती जाती है। लोग लगातार अपने लिए अन्य प्रजातियों के संसाधनों और स्थलों का उपयोग करने लगे हैं, जो नकारात्मक रूप से कई जीवों के अस्तित्व दर को प्रभावित कर रहा है।

लोग अपने मानक भी तय करते हैं कि किन प्रजातियों को बचाया जाना चाहिए और कौन-सी प्रजातियां उनके लिए महत्वहीन या अवांछनीय हैं। उदाहरण के लिए, हवाई की आक्रामक प्रजाति कॉकी मेंढक, वहां इतनी आम है कि उसके 'रात के गाने' से घरों की क़ीमतें कम हो जाती हैं और वे जंगलों के निकट होटलों को कमरों का उपयोग करने से रोकते हैं। हवाई के लोगों ने मेंढक को नष्ट करने का प्रस्ताव किया है और कई वन्य जीव प्रबंधकों ने मेंढ़को को मारने के लिए एक रोगजनक छोड़ने का प्रस्ताव रखा है (मिनटीर एंड कॉलिन्स, 2005, पृ. 333). मेंढक ने घरों की क़ीमतें कम की हैं और कई होटलों के व्यापार को क्षति पहुंचाई है, इसलिए हवाई के लोगों ने फ़ैसला लिया है कि उनके निकट रहने वाले कॉकी मेंढ़कों के समूह से छुटकारा पाना उन्हें स्वीकार्य है।


एक अन्य उदाहरण जहां मानवीय प्रभाव ने किसी प्रजाति के लिंग की भलाई को प्रभावित किया है, वह है वरमॉन्ट के एरोहेड झील में खुद को बसाने वाले ग़ैर देशीय म्यूट हंस. जब हंसों की आबादी आठ पक्षियों तक बढ़ गई, तो वरमॉन्ट के मत्स्य और वन्य-जीव विभाग ने कार्रवाई करने का फ़ैसला किया। अंततः दो हंसों को मार डाला गया, जिससे पशु कल्याण संगठन और झील के पास रहने वाले लोग क्रोधित हुए (मिन्टीर एंड कॉलिन्स, 2005, पृ. 333). एरोहेड झील के हंसों का मामला यह दर्शाता है कि मानव मान्यताओं के आधार पर प्राकृतिक परिवेश पर विचार किया जाता है। सिर्फ़ इस कारण से कि प्राकृतिक रूप से हंस वहां नहीं बसे थे, इसका तात्पर्य यह नहीं कि वह उनके प्राकृतिक निवास स्थान का हिस्सा नहीं है और निश्चित रूप से केवल मानव असंतोष के कारण उन्हें नष्ट करने का कोई कारण नहीं बनता है।

लुप्तप्राय प्रजातियों के जीवन में मानव प्रभाव का एक और उदाहरण है प्रेबल घास के मैदानों में फुदकने वाले चूहे. अनुसंधानों से पता चला है कि चूहे, बेयर लॉज फुदकने वाले चूहों से वर्गिकीय रूप से अलग नहीं है और अमेरिकी मत्स्य और वन्य-जीव सेवा ने इस सूचना के आधार पर लुप्तप्राय प्रजातियों की सूची से प्रेबल चूहे को हटाने का प्रस्ताव रखा है (मिन्टीर एंड कॉलिन्स, 2005, पृ. 333). यह उदाहरण प्रजाति के अनुरक्षण के निर्धारण में विज्ञान की भूमिका को विचाराधीन लाता है। यह प्रश्न उठाता है कि क्या जैव विविधता के संरक्षण के समर्थन में संसाधन के तौर पर केवल वैज्ञानिक सबूत का ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

मौजूदा प्रजातियों पर मानव प्रभाव का एक अंतिम उदाहरण, पर्यावरण अनुसंधान में पैर के अंगूठे के कतरन का मुद्दा है। परिस्थिति-विज्ञानी जहां संरक्षण के तरीक़ों के प्रति अपने ज्ञान को आगे बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रजातियों पर शोध कर रहे हैं, वहीं इसके कारण जिन वन्य-जीवों का वे अध्ययन कर रहे हैं, उन पर पड़ने वाले प्रभाव पर भी विचार किया जाना चाहिए. पैर की अंगुली की कतरन के बारे में "रिपोर्ट किया गया है कि परिणामस्वरूप पाद और अंगों में सूजन तथा संक्रमण सहित पशुओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है " (मिन्टीर एंड कॉलिन्स, 2005, पृ. 334). यह उदाहरण दर्शाता है कि प्रजाति के संरक्षण में सहायतार्थ अनुसंधान से पूर्व कैसे लोगों को पशुओं की भलाई के बारे में भी विचार करना चाहिए. प्रजातियों और उनके परिवेश पर मानवीय प्रभाव का बहुत ही नकारात्मक असर पड़ता है। लोगों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि दुनिया में सभी प्रजातियों के अनुरक्षण और उनके विकास को बाधित ना करने में मदद करें.

प्रजातियों के अनुरक्षण का महत्व[संपादित करें]

"मानव जीवन के विकास के लिए जीवन और जीवन प्रणालियों की विविधता एक आवश्यक शर्त है" (ईश्वरन एंड एर्डेलेन, 2006, पृ.179). कई लोग आज की दुनिया में जैव-विविधता के अनुरक्षण के महत्व पर सवाल उठाते हैं, जहां संरक्षण प्रयास महंगे साबित होते हैं और जिनमें काफ़ी समय लगता है। तथ्य यह है कि मानव अस्तित्व के लिए सभी प्रजातियों का संरक्षण आवश्यक है। प्रजातियों को "सौंदर्य और नैतिक औचित्य के लिए; मानव कल्याण के लिए आवश्यक उत्पादों तथा सेवाओं के प्रदाता के रूप में जंगली प्रजातियों की महत्ता; विशिष्ट प्रजातियों का मूल्य पर्यावरणीय स्वास्थ्य सूचक रूप में या पारिस्थितिकी प्रणालियों के कार्य करने के लिए मूल तत्त्व प्रजातियों का महत्व; और वन्य जीवों के अध्ययन से हासिल वैज्ञानिक सफलताओं" के लिए बचाया जाना चाहिए. (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 418). दूसरे शब्दों में, प्रजाति कला और मनोरंजन के स्रोत के रूप में सेवा करते हैं, मानव की भलाई के लिए दवा जैसे उत्पाद उपलब्ध कराते हैं, समग्र पर्यावरण और पारिस्थितिकी के कल्याण का संकेत देते हैं और अनुसंधान उपलब्ध कराते हैं, जिनके परिणामस्वरूप वैज्ञानिक खोज संभव हो सके हैं। लुप्तप्राय प्रजातियों के संरक्षण के "सौंदर्यपरक औचित्य" का एक उदाहरण है, एल्लोस्टोन राष्ट्रीय उद्यान में भूरे भेड़िये का प्रवेश. भूरे भेडिए की वजह से उद्यान में पर्यटकों की संख्या भारी मात्रा में बढ़ी है और इसने संरक्षित क्षेत्र में जैव विविधता में योग दिया है। (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 418).

मानव की भलाई के लिए उत्पादों के प्रदाता के रूप में लुप्तप्राय प्रजातियों के संरक्षण के समर्थन का एक अन्य उदाहरण है, स्क्रब मिंट. यह पाया गया है कि स्क्रब मिंट में कवकरोधी कारक और प्राकृतिक कीटनाशक मौजूद है। (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 418) इसके अलावा, गंजे गिद्ध और बहरे बाज़ की अधोगति ने "DDT और अन्य स्थाई कीटनाशकों के व्यापक छिड़काव से जुड़े संभावित स्वास्थ्य खतरों के प्रति लोगों को सतर्क कर दिया" (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 418).

यह एक दृष्टांत के रूप में करता है कि कैसे कोई मछली पर्यावरणीय स्वास्थ्य की पहचान कराने वाले घटक के रूप में मददगार हो सकती है और मानव जीवन तथा अन्य प्रजातियों की रक्षा कर सकती है। अंत में, वैज्ञानिक खोजों में सहायक प्रजातियों में एक उदाहरण है प्रशांत यू, जो "टेक्सॉल का स्रोत बन गया, जोकि अब तक की खोजों में सबसे शक्तिशाली कैंसर-रोधी यौगिक है" (विलकोव एंड मास्टर, 2008, पृ. 418-419). लुप्तप्राय प्रजातियां मानव विकास, जैव विविधता के अनुरक्षण और पारिस्थितिकी प्रणालियों के संरक्षण में उपयोगी साबित हो सकती हैं।

लुप्तप्राय प्रजातियों की रक्षा में मदद[संपादित करें]

संरक्षण करने वालों का लक्ष्य है, लुप्तप्राय प्रजातियों का संरक्षण और जैव विविधता के अनुरक्षण के लिए तरीक़े बनाना और उनका विस्तार करना. दुनिया की विलुप्त होने जा रही प्रजातियों के संरक्षण में, कई तरीक़ों से सहायता की जा सकती है। इनमें एक तरीक़ा है, प्रजातियों के विभिन्न समूहों के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करना, ख़ास कर अकशेरूकी, कवक और समुद्री जीवों के बारे में, जहां पर्याप्त डाटा की कमी है।

उदाहरण के लिए, आबादी में गिरावट और विलोपन के कारणों को समझने के लिए, फ़िनलैंड में तितलियों की आबादी पर एक प्रयोग किया गया। इस विश्लेषण में, तितलियों का संकटग्रस्त सूची वर्गीकरण, वितरण, घनत्व, डिंभक विशिष्टता, प्रसारण क्षमता, वयस्क प्राकृतिक-वास का विस्तार, उड़ान अवधि और शरीर का आकार, सभी के संबंध में अभिलेख दर्ज और परीक्षण किए गए, ताकि प्रत्येक प्रजाति की संकट स्थिति का निर्धारण किया जा सके. यह पाया गया कि तितलियों के वितरण में साढ़े एक्यावन प्रतिशत तक की गिरावट आई है और उनका प्राकृतिक-वास गंभीर रूप से प्रतिबंधित हैं। विशिष्ट तितलियों के वितरण दर में गिरावट का एक उदाहरण है, फ़्रिग्गा का फ़्रिटिलरी और ग्रिज़ल्ड स्किपर, जो दलदल के व्यापक निकासी के फलस्वरूप उनके प्राकृतिक-वास क्षतिग्रस्त होने के कारण प्रभावित हुए हैं। (कोटियाहो एट अल., 2005, पृ. 1963-1967). इस प्रयोग से साबित होता है कि जब हमें जोखिम के कारण ज्ञात हों, तो हम सफलतापूर्वक जैव विविधता प्रबंधन के लिए समाधान तैयार कर सकते हैं।

लुप्तप्राय प्रजातियों के संरक्षण में मदद का एक अन्य तरीक़ा है, पर्यावरणीय नैतिकता को समर्पित एक नए व्यावसायिक समाज का निर्माण. इससे परिस्थिति-विज्ञानियों को जैव विविधता के अनुसंधान और प्रबंधन में नैतिक निर्णय लेने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा, पर्यावरण नैतिकता पर अधिक जागरूकता पैदा करने से प्रजातियों के संरक्षण को प्रोत्साहित करने में सहायता मिल सकती है। "छात्रों के लिए नैतिकता पाठ्यक्रम और परिस्थिति-विज्ञानियों और जैव विविधता प्रबंधकों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रमों" से पर्यावरण संबंधी जागरूकता पैदा हो सकती है और अनुसंधान तथा प्रबंधन में आचार संहिता के उल्लंघन को रोका जा सकता है (मिन्टीर एंड कॉलिन्स, 2005, पृ. 336). लुप्तप्राय प्रजातियों के संरक्षण का एक अंतिम उपाय है, संघीय एजेंसी निवेश और संघीय सरकार द्वारा संरक्षण अधिनियमन के माध्यम से बचाव. "परिस्थिति-विज्ञानियों ने जैव विविधता संरक्षण एकीकृत करने और वर्धमान बड़े पैमाने पर सामाजिक आर्थिक विकास के लिए, जैविक गलियारों, जैव मंडल भंडार, पारिस्थितिकी तंत्र प्रबंधन और पर्यावरण-क्षेत्रीय योजना प्रस्तावित किया है " (ईश्वरन एंड एर्डेलेन, 2006, पृ.179).

संघीय अधिदेशाधीन संरक्षण अंचल का एक उदाहरण है, उत्तर-पश्चिमी हवाई द्वीपों का समुद्री राष्ट्रीय स्मारक, जो कि दुनिया में सबसे बड़ा समुद्री संरक्षित क्षेत्र है। अंतर्जलीय समुदायों और अधिक मछलीमारी वाले क्षेत्रों के संरक्षण के लिए स्मारक ज़रूरी है। केवल इस क्षेत्र में काम कर रहे अनुसंधानकर्ताओं को मछली मारने की अनुमति दी गई है, मूंगे हटाए नहीं जा सकते हैं और होमलैंड सुरक्षा विभाग, उपग्रह इमेजिंग के ज़रिए पानी से गुजरने वाले जहाज़ों पर प्रतिबंध लागू करते हैं। स्मारक अनुमानित सात हज़ार प्रजातियों के लिए, अधिकांशतः जो दुनिया में और कहीं भी नहीं पाए जा सकते, निवास का कार्य करेगा (रेलॉफ़, 2006, पृ. 92). यह पर्यावरणीय स्मारक यह तथ्य दर्शाता है कि लुप्तप्राय प्रजातियों के लिए एक सुरक्षित वातावरण का निर्माण, साथ ही दुनिया के सबसे बड़े पारिस्थितिकी प्रणालियों में से कुछ का अनुरक्षण संभव है।

बंदी प्रजनन कार्यक्रम[संपादित करें]

बंदी प्रजनन, वन्य-जीव परिरक्षित क्षेत्रों, चिड़ियाघरों और अन्य संरक्षण सुविधा स्थलों जैसे प्रतिबंधित मानव नियंत्रित वातावरण में दुर्लभ या लुप्तप्राय प्रजातियों के प्रजनन की प्रक्रिया है। बंदी प्रजनन का प्रयोजन विलुप्त होने वाली प्रजातियों को बचाना है। इससे अपेक्षा की जाती है कि प्रजाति की आबादी स्थिर हो, ताकि वह लुप्त के लिए ख़तरे से बच सके.[1]

कुछ समय के लिए इस तकनीक का सफलतापूर्वक प्रयोग किया गया, संभवतः प्राचीनतम ज्ञात बंदी संभोग के ऐसे उदाहरणों के लिए यूरोपीय और एशियाई शासकों की व्यवस्था को श्रेय दिया जा सकता है, चर्चाधीन मामला है पेरे डेविड का मृग. बहरहाल, बंदी प्रजनन तकनीक, आम तौर पर कुछ प्रवासी पक्षियों (उदा. सारस) और मछलियों (उदा. हिल्सा) जैसी अत्यंत गतिशील प्रजातियों के लिए लागू करना मुश्किल होता है। इसके अतिरिक्त, यदि बंदी प्रजनन की आबादी बहुत कम है, तो न्यून जीन पूल के कारण अंतःप्रजनन हो सकता है; इससे आबादी में रोगों के लिए प्रतिरक्षा की कमी संभव है।

लाभ के लिए वैध निजी उत्पादन[संपादित करें]

जहां अवैध शिकार के कारण लुप्तप्राय जानवरों की आबादी में काफ़ी कमी हो सकती है, वहीं लाभार्थ वैध निजी उत्पादन का विपरीत प्रभाव पड़ता है। वैध निजी उत्पादन से दोनों, दक्षिणी काले गैंडा और सफेद गैंडा की आबादी में काफी वृद्धि हुई है। IUCN के एक वैज्ञानिक अधिकारी, डॉ॰ रिचर्ड एम्सली ने ऐसे कार्यक्रमों के बारे में कहा, "मुख्यतः निजी स्वामित्व वाले जानवरों की वजह से, प्रभावी कानून का प्रवर्तन अब बहुत ही आसान हो गया है।.. हम संरक्षण कार्यक्रम में स्थानीय समुदायों को लाने में सक्षम हो गए हैं। पारिस्थितिकी पर्यटन या लाभार्थ बेचने के लिए केवल अवैध शिकार की जगह, गैंडे की देख-रेख से आर्थिक प्रोत्साहन जुड़े हैं। अतः कई मालिक उन्हें सुरक्षित रख रहे हैं। निजी क्षेत्र, हमारे काम में सहायतार्थ महत्वपूर्ण है। "[10]

गैलरी[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

नोट[संपादित करें]

  1. सुंदरवन बाघ परियोजना. बाघों के विलुप्त होने की जानकारी, वेब-साइट के बाघों पर अनुभाग में उपलब्ध है
  2. IUCN Red-list statistics (2006)
  3. Courchamp, Franck; Elena Angulo, Philippe Rivalan, Richard J. Hall, Laetitia Signoret, Leigh Bull, Yves Meinard. "Rarity Value and Species Extinction: The Anthropogenic Allee Effect". PLoS Biology. http://biology.plosjournals.org/perlserv/?request=get-document&doi=10.1371%2Fjournal.pbio.0040415. अभिगमन तिथि: 2006-12-19. 
  4. Dharmananda, Subhuti. "Endangered Species issues affecting turtles and tortoises used in Chinese medicine.". Institute for Traditional Medicine, Portland, Oregon. http://biology.plosjournals.org/perlserv/?request=get-document&doi=10.1371%2Fjournal.pbio.0040415. अभिगमन तिथि: 2006-12-19. 
  5. "Shoot, Shovel and Shut Up" (html). Reasononline. Reason Magazine. 2003-12-31. http://www.reason.com/news/show/34933.html. अभिगमन तिथि: 2006-12-23. 
  6. "USFWS Threatened and Endangered Species System (TESS)". U. S. Fish & Wildlife Service. http://ecos.fws.gov/tess_public/DelistingReport.do. अभिगमन तिथि: 2007-08-06. 
  7. Success Stories for Endangered Species Act
  8. मिन्टीर एंड कॉलिन्स, 2005, पृ. 332
  9. ईश्वरन एंड एर्डेलेन, 2006, पृ. 179
  10. He's black, and he's back!Private enterprise saves southern Africa's rhino from extinction, द इंडिपेन्डेंट, 17 जून 2008
  • ग्लेन, C. R. 2006. "Earth's Endangered Creatures" अभिगम 9/30/2008
  • ईश्वरन, N. और एर्डेलेन, W. (2005, मई). Biodiversity Futures, पारिस्थितिकीय कार्य-क्षेत्र और पर्यावरण, 3 (4), 179. 23 सितंबर 2008 को पुनःप्राप्त.
  • कोटियाहो, J. S., कैतला, V., कोमोनेन, A., पाइविनेन, J. P. और एहर्लिच, P. R.(2005, 8 फरवरी). Predicting the Risk of Extinction from Shared Ecological Characteristics, संयुक्त राज्य अमेरिका की राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी की कार्यवाहियां, 102 (6), 1963-1967. 23 सितंबर 2008 को पुनःप्राप्त.
  • मिन्टीर, B. A. और कॉलिन्स, J. P. (2005, अगस्त). Why we need an “Ecological Ethics”.

पारिस्थितिकी कार्य-क्षेत्र और पर्यावरण, 3 (6), 332-337. 22 सितंबर 2008 को पुनःप्राप्त.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]