लिनस का नियम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सॉफ्टवेयर के विकास में लिनस का नियम या सिद्धान्त यह दावा करता है कि "लगभग हर समस्या को चित्रित किया जाएगा, और उसे हल किया जाएगा"।

इस नियम को एरिक एस॰ रेमंड ने अपने निबंध और द कैथेड्रल एंड द बाज़ार (1999) पुस्तक में सूत्रबद्ध किया था, और इसका नाम लीनस तोरवाल्ड्स के सम्मान में रखा गया था।[1][2]

प्रामाणिकता[संपादित करें]

फ़ेक्ट्स एंड फ़ेल्लासीज़ अबाउट सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में, रॉबर्ट ग्लास ने इस कानून को मुक्त स्रोत के आंदोलन के "मंत्र" के रूप में संदर्भित किया है। लेकिन उन्होने इसे 'भ्रम' कहा है, जिसके मुख्य कारण 'साक्ष्यों की कमी' और एक अनुसंधान में उजागर बात है। अनुसंधान ने संकेत दिया है कि जिस दर पर अतिरिक्त बग/समस्याओं/त्रुटियों को उजागर किया गया है, वह समीक्षकों की संख्या के साथ रैखिक रूप से मेलजोल नहीं खाती; उन्होने कहा, केवल दो से चार के बीच उपयोगी समीक्षकों की एक छोटी संख्या ही है, बाकी जो भी अतिरिक्त समीक्षक हैं वे बहुत कम दर पर बग को उजागर करते हैं।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. रेमंड, एरिक एस॰. "कैथेड्रल और बाजार". catb.org.
  2. रेमंड, एरिक एस॰ (1999). कैथेड्रल और बाजार. ओ'रेली मीडिया. पृ॰ 30. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-56592-724-9.
  3. ग्लास, रोबर्ट एल॰ (2003). फ़ेक्ट्स एंड फ़ेल्लासीज़ अबाउट सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग. Addison-Wesley. पृ॰ 174. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-321-11742-5. ISBN 978-0321117427.