लिंगानुशासन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

लिङ्गानुशासन, पाणिनीय पंचांग व्याकरण का एक भाग है। लोक के अनुसार लिङ्ग (पुँल्लिंग, स्त्रीलिंग, नपुंसकलिंग) का अनुशासन करने वाला शास्त्र लिङ्गानुशासन कहलाता है। (लिङ्गानाम् अनुशासनं क्रियतेऽनेनेति लिङ्गानुशासनम् । ) पाणिनी प्रणीत इस शास्त्र में संस्कृत भाषा में व्यवहृत शब्दों के लिङ्ग का उपदेश किया गया है ।

यह शास्त्र भी छः अधिकारों में विभक्त है। इस शास्त्र में कुल १९१ सूत्र हैं।

  • १. स्त्रीलिङ्गाधिकार - ३४ सूत्र
  • २. पुँल्लिङ्गाधिकार - ८३ सूत्र
  • ३. नपुंसकलिङ्गाधिकार - ५५ सूत्र
  • ४. स्त्रिलिङ्गपुँल्लिङ्गाधिकार - ५ सूत्र
  • ५. पुँल्लिङ्गनपुंसकलिङ्गाधिकार - ७ सूत्र
  • ६. अविशिष्टलिङ्गाधिकार - ७ सूत्र


इसी प्रकार हेमचन्द्राचार्य द्वारा रचित 'सिद्धहेमशब्दानुशासनम्' के भी पाँच भाग हैं- सूत्रपाठ, गणपाठ, धातुपाठ, उणादिसूत्रपाथ और लिङ्गानुशासन ।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]