लाल टोपी सम्प्रदाय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पीली टोपियाँ धारण करे हुए गेलुग तिब्बती बौद्ध भिक्षु

लाल टोपी सम्प्रदाय (Red Hat sects) तिब्बती बौद्ध धर्म के वे सम्प्रदाय हैं जिनमें भिक्षु औपचारिक समारोहों में लाल रंग की टोपियाँ पहनते हैं। इस श्रेणी में तीन मुख्य सम्प्रदाय आते हैं:[1][2][3][4]

एक चौथा सम्प्रदाय गेलुग है, जो पीला टोपी सम्प्रदाय कहलाता है, क्योंकि इसके भिक्षु पीले रंग की टोपियाँ पहनते हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Hsaio-ting Lin (1 January 2011). Tibet and Nationalist China's Frontier: Intrigues and Ethnopolitics, 1928-49. UBC Press. पपृ॰ 94–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-7748-5988-2.
  2. American Journal of Chinese Studies. American Association for Chinese Studies. 2006. पृ॰ 222.
  3. Hsiao-ting Lin (13 September 2010). Modern China's Ethnic Frontiers: A Journey to the West. Routledge. पपृ॰ 52–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-136-92393-7.
  4. Journal of Asian History. O. Harrassowitz. 2003. पृ॰ 140.