लारूंग गार बौद्ध एकेडमी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
लारूंग गार बौद्ध विद्यापीठ का उत्तरी दृश्य
लारूंग गार बौद्ध विद्यापीठ का दक्षिणीय दृश्य
लारूंग गार बौद्ध विद्यापीठ का पूर्वी दृश्य
लारूंग गार बौद्ध विद्यापीठ का पश्चिमी दृश्य

लारूंग गार बौद्ध एकेडमी, चिनी: 喇荣五明佛学院) सन् १९८० में, तिब्बती बौद्ध विद्वान खनपो जिगमेद फुनछोगस् द्वारा स्थापित एक ञिङमा साम्प्रदायिक तिब्बती बौद्ध विद्यापीठ है। यह विद्यालय सेरता काउंटी, गरजे, सिचुआन प्रांत में स्थित है। इस शैक्षिक संस्थान उद्देश्य तिब्बती बौद्ध धर्म में एक दुनियावी प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए और, सन १९६६-७६ की चिनिया सांस्कृतिक क्रांति द्वारा किया गया विनाशकारी प्रभाव का ध्यान में लेकर तिब्बती बौद्ध छात्रवृत्ति नवीकरण के जरूरत को पूरा करने के लिए किया गया है। इसके दूरस्थ स्थान के बावजूद, यह दुनिया में तिब्बती बौद्ध अध्ययन के लिए सबसे बड़ा और सबसे प्रभावशाली केन्द्रों में से एक है, यह की छात्रों का संख्या में १०,००० से अधिक भिक्षुओं, भिक्षुणियों है।[1]

बीजिंग. चीन के चेंगदू से करीब 600 किमी दूर यह स्कूल 1980 में एक इमारत में शुरू हुआ था। अब फैलकर कस्बे में बदल गया है। कस्बे का निर्माण सिर्फ दान से हुआ है।

नाम है लारुंग गार बुद्धिस्ट एकेडमी। यह दुनिया का सबसे बड़ा रिहायशी बौद्ध विद्यालय है। यहां पर तिब्बत के पारंपरिक बौद्ध शिक्षा का अध्ययन करने के लिए कई देशों से बच्चे आते हैं। यहां सभी घरों के रंग लाल और भूरे हैं। लड़के-लड़कियों के रहने वाले इलाकों को सड़कों से बांटा गया है।

बुद्धिस्ट एकेडमी के कुछ तथ्य[संपादित करें]

  • 40,000 छात्र रहते हैं यहां पर
  • 12,500 फीट ऊंचाई पर बसा है
  • टीवी देखना यहां पर बैन है, लेकिन स्मार्टफोन की अनुमति है
  • ज्यादातर बच्चों के पास सेकंड हैंड आईफोन जरूर मिल जाएगा

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Faison, Seth (28 July 1999). "A 'Living Buddha' Plants an Academy". New York Times. मूल से 6 January 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 March 2013.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]