लज्जा (पुस्तक)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
लज्जा  
Cover of Book named Lajja.jpeg
लेखक तसलीमा नसरीन
देश बांग्लादेश
भाषा बंगाली
प्रकार उपन्यास
प्रकाशन तिथि 1993
अंग्रेजी में
प्रकाशित हुई
अक्टूबर 1997
मीडिया प्रकार प्रिंट
पृष्ठ 302
आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-57392-165-3
ओ॰सी॰एल॰सी॰ क्र॰ 37322498
लाइब्रेरी ऑफ़ कॉंग्रेस
वर्गीकरण
PK1730.3.A65 L3513 1997

लज्जा तसलीमा नसरीन द्वारा रचित एक बंगला उपन्यास है। यह उपन्यास पहली बार १९९३ में प्रकाशित हुआ था और कट्टरपन्थी मुसलमानों के विरोध के कारण बांगलादेश में लगभग छः महीने के बाद ही इस पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया। इस अवधि में इसकी लगभग पचास हजार प्रतियाँ बिक गयीं।

परिचय[संपादित करें]

बांग्लादेश की विवादित लेखिका तसलीमा नसरीन का बाँग्ला भाषा में लिखा गया यह पाँचवाँ उपन्यास सांप्रदायिक उन्माद के नृशंस रूप को रेखांकित करता है। धार्मिक कट्टरपन को उसकी पूरी बर्बरता से सामने लाने के कारण उन्हें इस्लाम की छवी को नुकसान पहुँचाने वाला बताकर उनके खिलाफ मौलवियों द्वारा सज़ा-ए-मौत के फतवे जारी किए गए। बाँग्लादेश की सरकार ने भी उन्हें देश निकाला दे दिया जिसके बाद उन्हें भारत में शरणार्थी बनकर रहना पड़ा।।

“लज्जा” का आरम्भ होता है ६ दिसम्बर १९९२ को बाबरी मस्जिद तोड़े जाने पर बांग्लादेश के मुसलमानों की आक्रामक प्रतिक्रया से। वे अपने हिन्दू भाई-बहनों पर टूट पड़ते है और उनके सैकडों धर्मस्थलों को नष्ट कर देते हैं।

संदर्भ श्रोत[संपादित करें]

==


हरी कड़ियाँ==