लचीलापन (शारीरिक)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पूर्व ओलम्पिक जिम्नास्ट इरिना चाचीना (Irina Tchachina) अतिनम्यता का प्रदर्शन करते हुए

शारीरिक लचीलापन से आशय उस क्षमता से है कि शरीर के एक अंग या अनेक अंगों को उनके सामान्य रूप से हटकर कितना बदला जा सकता है। शरीर का लचीलापन मुख्यतः दो बातों पर निर्भर करता है- एक या अधिक जोड़ों की गति की सीमा कितनी है तथा जोड़ों पर लगी मांसपेशियों की लम्बाई कितनी बढ़ायी जा सकती है। अलग-अलग लोगों का शारीरिक लचीलापन अलग-अलग होता है। व्यायाम के द्वारा कुछ जोड़ों का लचीलापन कुछ सीमा तक बढ़ाया जा सकता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]