लखीराम अग्रवाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
लखीराम अग्रवाल
Lakhiram-agrawal

छत्तीसगढ़ से राज्यसभा सदस्य
पद बहाल
1नवम्बर 2000 – 9 अप्रैल 2002

मध्य प्रदेश से राज्यसभा सदस्य
पद बहाल
10 अप्रैल 1990 – 31 अक्टूबर 2000

जन्म 13 फ़रवरी 1932
खरसिया, रायगढ़ जिला, मध्य प्रदेश
मृत्यु 24 जनवरी 2009(2009-01-24) (उम्र 76)
बिलासपुर, छत्तीसगढ़
राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी
जीवन संगी मरवां देवी
बच्चे अमर अग्रवाल
व्यवसाय व्यवसायी

लखीराम अग्रवाल (13 फरवरी 1932 – 24 जनवरी 2009) भारत के एक राजनेता थे। वे १९९० से २००२ तक राज्यसभा के सदस्य रहे, पहले मध्य प्रदेश से और बाद में छत्तीसगढ़ से। १९९० से २०० तक वे मध्य प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष रहे। छत्तीसगढ बनने के बाद वे छत्तीसगढ भाजपा के अध्यक्ष बने।

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लखीराम अग्रवाल को याद करना सही मायने में राजनीति की उस परंपरा का स्मरण है जो आज के समय में दुर्लभ हो गयी है। वे सही मायने में हमारे समय के एक ऐसे नायक हैं जिसने अपने मन, वाणी और कर्म से जिस विचारधारा का साथ किया, उसे ताजिंदगी निभाया। यह प्रतिबद्धता भी आज के युग में असाधारण नहीं है।

जीवन परिचय[संपादित करें]

छत्तीसगढ़ में भाजपा के ‘पितृ पुरूष’ कहे जाने वाले श्री लखी राम अग्रवाल का जन्म खरसिया में श्री मनसा राम अग्रवाल रांव एवं श्रीमती रूक्मणी देवी अग्रवाल के परिवार में हुआ। इनका विवाह श्रीमती मरबन देवी से 1950 में हुआ। ये पाँच पुत्र और एक पुत्री के गौरवशाली पिता रहे। इनकी शिक्षा-दिक्षा नहरपाली विद्यालय खरसिया में हुई। वर्तमान में इनके पुत्र श्री अमर अग्रवाल जी छत्तीसगढ़ शासन में केबिनट मंत्री हैं।

श्री अग्रवाल का सक्रिय राजनीति में आगमन 1960 में हुआ। वे 1964 से 1969 तक खरसिया नगर पालिका पद पर रहे तथा डिस्ट्रिक कार्पोरेटिव बैंक रायगढ़ के प्रमुख 1977 से 1980 तक रहे। साथ ही वे मध्यप्रदेश स्टेट मार्केटिक एसोशियेशन के उपाध्यक्ष भी रहे। 1977 में आपातकाल के दौरान उन्हे मीसा एक्ट के तहत बंदी बनाया गया।

मध्यप्रदेश भाजपा के प्रदेश महासचिव के पद पर 1983 में लखीराम जी सुशोभित हुये। साथ ही वे 10 अप्रेल 1990 से 31 अक्टूबर 2000 तक मध्यप्रदेश राज्य सभा के अध्यक्ष रहें। पुनः 1 नवम्बर 2000 से 9 अप्रैल 2002 तक उन्होंने राज्य सभा में छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व किया। पृथक छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण एवं छत्तीसगढ़ अस्मिता के निर्माण में लखीराम जी की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण रही।

श्री अग्रवाल जी का निधन 24 जनवरी 2009 को बिलासपुर के अपोलो अस्पताल में हुआ। उनका दाह संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया गया। उनकी स्मृति में 2013 में रायगढ़ में मेडिकल काॅलेज की स्थापना की गयी।

विचार को समर्पित एक जीवन[संपादित करें]

लखीराम अग्रवाल सही मायने में राज्य भाजपा के अभिभावक होने के साथ छत्तीसगढ़ में एक नैतिक उपस्थिति भी थे। उनके पास जाकर किसी भी स्तर का कार्यकर्ता अपनी बात कह सकता था। वे परिवार के एक ऐसे मुखिया थे जिनके पास सबकी सुनने का धैर्य और सबको सुनाने का साहस था। वे अपने कद और परिवार की मुखिया की हैसियत से किसी को भी कोई आदेश दे सकने की स्थिति में थे। उनकी बात प्रायः टाली नहीं जाती थी। वे एक ऐसा कंधा थे जिसपर आप अपनी पीड़ाएं उड़ेल सकते थे। असहमतियों के बावजूद वे सबके साथ संवाद करने के लिए दरवाजा खुला रखते थे। रायपुर से दिल्ली तक उन्होंने जो रिश्ते बनाए उनमें कृत्रिमता और बनावट नहीं थी। वे हमेशा अपने जीवन और कर्म से केवल और केवल पार्टी की सोचते रहे। उनके पुत्र अमर अग्रवाल ने अपने गृहनगर खरसिया और रायगढ़ को छोड़कर छत्तीसगढ़ के एक अलग शहर बिलासपुर को अपना कार्यक्षेत्र बनाया, युवा मोर्चा के कार्यकर्ता के नाते काम प्रारंभ किया और वहां कांग्रेस की परंपरागत सीट पर चुनाव जीतकर अपनी जगह बनाई। आज वे छत्तीसगढ़ के सक्षम मंत्रियों में गिने जाते हैं। उनकी क्षमताओं पर किसी को संदेह नहीं है। ऐसे कठिन समय में जब राजनीति में मर्यादाविहीन आचरण के चिन्ह आम हैं। हर तरह का पतन राजनीतिक क्षेत्र में दिख रहा है। लखीराम अग्रवाल जैसे नायक की याद हमें प्रेरित करती है और बताती है कि कैसे व्यापार में रहकर भी शुचिता बनाए रखी जा सकती है। गृहस्थ होकर भी किस तरह से समाज के काम पूरा समय देकर किए जा सकते हैं। क्या आप इसे साहस नहीं मानेंगें कि किस तरह मप्र के सबसे कद्दावर मुख्यमंत्री रहे अर्जुन सिंह के खिलाप अपने क्षेत्र में व्यूह रचना तैयार करते और जिसके परिणामों की चिंता नहीं करते? अजीत जोगी जैसे ताकतवर मुख्यमंत्री के सामने तनकर खड़ा होते है और अपने दल की सरकार की स्थापना के लिए पूरा जोर लगा देते है। आज लखीराम अग्रवाल की याद बहुत स्वाभाविक और मार्मिक लगती है।

असाधारण बनने का कथा[संपादित करें]

लखीराम अग्रवाल ने छत्तीसगढ़ के एक छोटे से नगर खरसिया से जो यात्रा शुरू की वह उन्हें मध्य प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष जैसे महत्वपूर्ण पद तक ले गयी। वे राज्यसभा के दो बार सदस्य भी रहे। लेकिन ये बातें बहुत मायने नहीं रखतीं। मायने रखते हैं वे संदर्भ और उनकी जीवन शैली जो उन्होंने पार्टी का काम करते समय लोगों को सिखायी। मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की भारतीय जनता पार्टी के लिए उनका योगदान किसी से छिपा नहीं है। वे अंततः एक कार्यकर्ता थे और उनका दिल संगठन के लिए ही धड़कता था। भाजपा दिग्गज कुशाभाऊ ठाकरे से उनकी मुलाकात ने सही मायने में लखीराम अग्रवाल को पूरी तरह रूपांतरित कर दिया। वे संगठन को जीने लगे। खरसिया नगर पालिका के अध्यक्ष के रूप में प्रारंभ हुयी उनकी राजनीतिक यात्रा में अनेक ऐसे पड़ाव हैं जो प्रेरित करते हैं और प्रोत्साहित करते हैं। वे यह भी बताते हैं कि कैसे एक साधारण परिवार का व्यक्ति भी एक असाधारण शख्सियत बन सकता है। लखीराम अग्रवाल के हिस्से बड़ी राजनीतिक सफलताएं नहीं हैं, खरसिया से वे विधानसभा का चुनाव नहीं जीत सके। उनका इलाका कांग्रेस का एक ऐसा गढ़ है जहां आजतक भाजपा का कमल नहीं खिल सका। किंतु अपनी इस कमजोरी को उन्होंने अपनी शक्ति बना लिया। वे छत्तीसगढ़ में कमल खिलाने के प्रयासों में लग गए। आज पूरे राज्य में कार्यकर्ताओं का पूरा तंत्र उनकी प्रेरणा से ही काम कर रहा है। वे कार्यकर्ता निर्माण की प्रक्रिया को समझते थे। उनके निर्माण और उनके व्यवस्थापन की चिंता करते थे। संगठन की यह समझ ही उन्हें अपने समकालीनों के बीच उंचाई देती है।

आप देखें तो लखीराम अग्रवाल के पास ऐसा कुछ नहीं था जिसके आधार पर वे महत्वपूर्ण बनने की यात्रा शुरू कर सकें। खरसिया एक ऐसा इलाका था, जहां भाजपा का कोई आधार नहीं है। एक छोटा नगर जहां की राजनीतिक अहमियत भी बहुत नहीं है। इसके साथ ही लखीराम जी किसी विषय के गंभीर जानकार या अध्येता भी नहीं थे। किंतु उनमें संगठन शास्त्र की गहरी समझ थी। अपने निरंतर प्रवास और श्रम से उन्होंने सारी बाधाओं को पार किया। जशपुर के कुमार साहब दिलीप सिंह जूदेव, कवर्धा के एक डाक्टर रमन सिंह से लेकर तपकरा के एक नौजवान आदिवासी नेता नंदकुमार साय से लेकर आज की पीढ़ी के राजेश मूणत जैसे लोगों को साथ लेने और खड़ा करने का माद्दा उनमें था। छत्तीसगढ़ के हर शहर और क्षेत्र में उन्होंने ऐसे लोगों को खड़ा किया जो आज पार्टी की कमान संभाले हुए हैं। आलोचनाओं से अविचल रहकर उन्होंने सिर्फ बेहतर परिणाम दिए। खरसिया के उस उपचुनाव को याद कीजिए जिसमें कुमार दिलीप सिंह जूदेव को मध्य प्रदेश के कद्दावर मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह के खिलाफ मैदान में उतारा गया था। वह उपचुनाव हारकर भी भाजपा ने छत्तीसगढ़ क्षेत्र में जो आत्मविश्वास अर्जित किया, वह एक इतिहास है। इसके बाद भाजपा ने छत्तीसगढ़ में पीछे मुड़कर नहीं देखा।

छत्तीसगढ़ राज्य का उदय[संपादित करें]

छत्तीसगढ़ राज्य का गठन इस क्षेत्र के निवासियों का एक बड़ा सपना था। इसमें दिल्ली में भाजपा की सरकार बनना एक सुखद संयोग साबित हुआ। यह भी संयोग ही था कि दिल्ली में राज्यसभा के सदस्य के नाते ही नहीं, एक संगठनकर्ता के नाते लखीराम अग्रवाल अपनी एक साख पहचान बना चुके थे। उनके प्रभाव और क्षमताओं का पूरा दल लोहा मानने लगा था। राज्य गठन को लेकर उनकी पहल का भी एक खास असर था कि तत्कालीन गृहमंत्री लालकृष्ण आडवाणी छत्तीसगढ़ राज्य के गठन के लिए सहमत हो गए। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ का अपना भूगोल प्राप्त हो गया। राज्य में कांग्रेस विधायकों की संख्या के आधार पर अजीत जोगी राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री बने। उनकी कार्यशैली से भाजपा का संगठन हिल गया। भाजपा के 12 विधायकों का दलबदल करवाकर जोगी ने भाजपा की कमर तोड़ दी। ऐसे में संगठन के मुखिया के नाते लखीराम अग्रवाल के संयम, धैर्य और रणनीति ने भाजपा को सत्ता में लाने के लिए आधार तैयार किया। सरकारी आतंक के बीच भाजपा की वापसी साधारण नहीं थी। किंतु लखीराम अग्रवाल, डा. रमन सिंह, दिलीप सिंह जूदेव, नंदकुमार साय, रमेश बैस, बलीराम कश्यप, बृजमोहन अग्रवाल, वीरेंद्र पाण्डेय, बनवारीलाल अग्रवाल, प्रेमप्रकाश पाण्डेय जैसे नेताओं की एकजुटता और सतत श्रम ने भाजपा को अपनी सरकार बनने का मार्ग प्रशस्त कर दिया। यह विजय साधारण विजय नहीं थी। ऐसे कठिन समय में संगठन में प्राण फूंकने और उसे नया आत्मविश्वास देने के लिए लखीराम अग्रवाल और तत्कालीन संगठन मंत्री सौदान सिंह के योगदान के बिसराया नहीं जा सकता। यह वही समय था जब लोग राज्य में भाजपा के समाप्त होने की घोषणाएं कर रहे थे और भाजपा का मर्सिया पढ़ रहे थे। किंतु समय ने करवट ली और भाजपा ने डा. रमन सिंह के नेतृत्व में अपनी सरकार बनायी।

वर्तमान आयोजन[संपादित करें]

मुख्यमंत्री रमन सिंह ने रायगढ़ में आयोजित विशाल स्वास्थ्य शिविर में कहा की-किसी गरीब को भटकना नहीं पड़ेगा। उम्मीद है रमन सिंह की बात सही साबित हो और जल्द ही ऐसा दिन आये की किसी गरीब को इलाज के लिए अथवा अपने किसी करीबी के इलाज के लिए किसी को भी भटकना न पड़े क्योंकि मुख्यमंत्री निवास में साप्ताहिक जनदर्शन कार्यक्रम में कई लोग अपने किसी करीबी के बेहतर इलाज के लिए सहायता की आस लेकर पहुचते है जो भारी भरकम खर्च वहन करने की स्थिति में नहीं होते वही दूसरी तरफ गरीब मजबूर और पहुच वाले रशुखदार के मध्य बड़े अंतर बताने वाली एक बात हाल फ़िलहाल ही हुई जो मैंने पढ़ी थी और शायद सही थी जब 108 पर सहायता के लिए बात हुई तो जवाब मिला था ऑटो से ले जाओ वही एक VIP को रातो रात बेहतर इलाज के हवाईजवाज पहुच जाता है। उदाहरण और भी बहुत से है जिन्हें गिनाया जा सकता है पर इतनी ही गुजारिश है मुख्यमंत्री महोदय से जो आपने कहा है वह जल्द से जल्द कर के दिखाए ताकि किसी गरीब की समुचित इलाज के आभाव में जान न जायें।-आजाद-।