लक्ष्मी कांठम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

माननेपल्ली लक्ष्मी कांठम एक भारतीय वैज्ञानिक हैं।[1][2][3][4][5][6] वह सीएसआईआर-आईआईसीटी की निर्देशक हैं और १९८२ में प्रो. वी. यतीराजम के मार्गदर्शन में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र से पीएचडी की डिग्री प्राप्त की। वह १९८४ में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में एक वैज्ञानिक के रूप में शामिल हुई।

उनके २६० से अधिक शोध प्रकाशन हैं। इसके अतिरिक्त ४३ अमरीकी पेटेंट का श्रेय उनको प्राप्त है। कांठम ने उच्चतम संभावित परमाणु अर्थव्यवस्था को प्राप्त करने के लिए नवीन वैज्ञानिक इनपुट के साथ रासायनिक प्रतिक्रियाओं के लिए विशेष रूप से डिजाइन किए सजातीय / विषम उत्प्रेरक के विकास की ओर उत्कृष्ट योगदान दिया है।

पुरस्कार[संपादित करें]

  • प्लैटिनम जयंती पुरस्कार व्याख्यान, आईएससी -२०१०
  • वापेस्चु एन्डोमेंट लेक्चर अवार्ड- २०१०
  • सीएसआईआर फाउंडेशन दिवस, आईआईसीटी, उच्चतम बाह्य नकद प्रवाह पुरस्कार- २०१०
  • आरएमआईटी फाउंडेशन फैलोशिप पुरस्कार, आरएमआईटी विश्वविद्यालय, मेलबोर्न, ऑस्ट्रेलिया - २००८
  • सीएसआईआर फाउंडेशन दिवस, आईआईसीटी, २००८ के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पुरस्कार
  • सीएसआईआर फाउंडेशन दिवस, आईआईसीटी, २००६,२००५,२००२,२००१ के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पुरस्कार

सम्मान[संपादित करें]

  • २०११ लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड, इंडियन केमिकल सोसाइटी, २०११
  • २०१० पूर्ण अध्यक्ष, टोकाट / एपीसीएटी, साप्पोरो, जापान
  • २००८ नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज, भारत के फैलो
  • आईआईसीटी-आरएमआईटी रिसर्च सेंटर के संयुक्त निदेशक आईआईसीटी, हैदराबाद
  • २००८ बीडी तिलक विजिटिंग फेलो, २००८, यूआईसीटी, मुंबई
  • सदस्य, चयन समिति, जेएनटीयू हैदराबाद
  • सदस्य, बोर्ड ऑफ स्टडीज, जेएनटीयू हैदराबाद

सन्दर्भ[संपादित करें]