रूमी दरवाजा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

निर्देशांक: 26°51′38″N 80°54′57″E / 26.860556°N 80.915833°E / 26.860556; 80.915833

लखनऊ में बड़ा इमामबाड़ा की तर्ज पर ही रूमी दरवाजे का निर्माण भी अकाल राहत प्रोजेक्ट के अन्तर्गत किया गया है। नवाब आसफउद्दौला ने यह दरवाजा 1784-86 ई. में अकाल के दौरान बनवाया था ताकि लोगों को रोजगार मिल सके। अवध वास्तुकला के प्रतीक इस दरवाजे को तुर्किश गेटवे कहा जाता है। रूमी दरवाजा कांस्टेनटिनोपल के दरवाजों के समान दिखाई देता है। यह इमारत 60 फीट ऊंची है।

चित्र दीर्घा[संपादित करें]