राष्ट्रीय समर स्मारक (भारत)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
राष्ट्रीय समर स्मारक
राष्ट्रीय समर स्मारक

राष्ट्रीय समर स्मारक या युद्ध स्मारक भारत सरकार द्वारा नई दिल्ली के इंडिया गेट के आसपास के क्षेत्र में अपने सशस्त्र बलों को सम्मानित करने के लिए बनाया गया एक स्मारक है। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 25 फरवरी 2019 को इंडिया गेट के पास 44 एकड़ में बना नेशनल वॉर मेमोरियल राष्ट्र को समर्पित किया।[1]

स्मारक को इंडिया गेट के पास मौजूदा छतरी (चंदवा) के आसपास बनाया गया है। स्मारक की दीवार को जमीन के साथ और मौजूदा सौंदर्यशास्त्र के साथ सामंजस्य स्थापित किया है।[2] 1947-48, 1961 (गोवा), 1962 (चीन), 1965, 1971, 1987 (सियाचिन), 1987-88 (श्रीलंका), 1999 (कारगिल), और युद्ध रक्षक जैसे अन्य युद्धों में शहीदों के नाम इस प्रकार आजादी के बाद शहीद हुए १३,३००[3] भारतीय सैनिकों के नाम यहां पत्थरों पर लिखे गए हैं।[4]

वास्तुकला और डिजाइन[संपादित करें]

1960 में सशस्त्र बलों ने पहली बार एक राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का प्रस्ताव रखा था।[4]

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का मुख्य वास्तुकार वीबी डिजाइन लैब (WeBe Design Lab), चेन्नई के योगेश चंद्रहासन है। वेब डिज़ाइन लैब को वास्तुशिल्प डिजाइन की अवधारणा के लिए और परियोजना के निर्माण के समन्वय के लिए चुना गया था।

इस हेतु एक वैश्विक डिजाइन प्रतियोगिता आयोजित की गई थी और परिणाम अप्रैल २०१७ की शुरुआत में घोषित किया गया था और चेन्नई स्थित आर्किटेक्ट्स, वीबी डिजाइन लैब के प्रस्ताव को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के लिए विजेता घोषित किया गया था। [5]

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. rohitashwa.mishra (२५ फरवरी २०१९). "मोदी ने कहा- सैनिकों से अन्याय हुआ, पिछली सरकार के लिए सिर्फ एक परिवार पहले था". Dainik Bhaskar (हिन्दी भाषा में). मूल से 25 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २५ फरवरी २०१९.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  2. Gokhale, Nitin A. (July 11, 2014). "Fulfilling a sacred contract with the soldier". News Warrior. मूल से 3 सितंबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 August 2014.
  3. "National War Memorial: जानें आखिर क्यों खास है राष्ट्रीय युद्ध स्मारक, जरूरी बातें". Times Now Hindi (हिन्दी भाषा में). २५ फरवरी २०१९. मूल से 26 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २५ फरवरी २०१९.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  4. Pandit, Rajat (1 January 2019). "Delhi: War memorial ready, 60 years after it was first proposed". The Times of India. मूल से 3 जनवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-01-30.
  5. "संग्रहीत प्रति". मूल से 30 जनवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 25 फ़रवरी 2019.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]