राष्ट्रीय राइफल्स

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

राष्ट्रीय राइफल्स या "आरआर" भारतीय रक्षा मंत्रालय के अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत भारतीय सेना की एक शाखा है।

यह एक आतंकवाद विरोधी / राजद्रोह विरोधी बल है जो राष्ट्रीय राइफल्स में सेवारत भारतीय सेना के अन्य भागों से प्रतिनियुक्त सैनिकों से बना है। आरआर के आधे भारतीय सेना की पैदल सेना से आते हैं, और भारतीय सेना के बाकी हिस्सों से बाकि आधे। यह बल जम्मू-कश्मीर में तैनात किया गया है।

चिह्न[संपादित करें]

राष्ट्रीय राइफल्स के प्रतिक चिह्न में एक अशोक चक्र, के साथ दो टोपी युक्त क्रॉस्ड राइफल हैं व दृढ़ता और वीरता - नीचे, एक बैनर में इस बल का आदर्श वाक्य छपा हुआ है।

इतिहास[संपादित करें]

यह बल कश्मीर में उग्रवाद से लड़ने के लिए और क्षेत्र में कमजोर स्थानीय सुरक्षा बलों को बेहतरीन बनाने के लिए समर्पित, 1990 में जनरल एस एफ रोड्रिग्स द्वारा उठाए गए और जनरल बी सी जोशी द्वारा ढाला गया था। 1994 तक इसमें 5,000 सैनिकों, जिनमें से सभी ने जम्मू एवं कश्मीर में सेवा दी थी। कुछ पर्यवेक्षकों ने इसमें तीस बटालियनों तक विकसित होने और करीब 25,000 कर्मियों के होने की उम्मीद जताई थी।

मार्च 1995 में, भारतीय टेलीविजन "नयी" राष्ट्रीय राइफल्स की डेल्टा फोर्स के बारे में बताया। यह बताया गया कि यह बल दक्षिण-मध्य जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों और डोडा जिले में विदेशी आतंकवादियों के खिलाफ अभियान चला रहा था। [1]

प्रारंभिक आरआर इकाइयों ने अपने वर्ग और संरचना में निहित कुछ कमजोरियों के बावजूद अच्छा प्रदर्शन किया। वे अखिल भारतीय सेना भर से सैनिकों के साथ सभी वर्गों के आधार पर उठाए गए थे। तर्क दिया गया कि जब ये इकाइयों एक विद्रोह से लड़ने के लिए जाएँ तो वहाँ एक वर्ग या क्षेत्रीय विशेषताओं के आधार पर पक्षपात का आरोप की कोई गुंजाइश नहीं होनी चाहिए। दुर्भाग्य से, इस कदम से इस क्षेत्र में समस्याएँ पैदा होने लगीं। प्रारंभिक आरआर इकाइयों में सैनिक नियमित अंतराल पर आते व जाते रहते रहते थे उनके के बीच सामंजस्य नहीं था। प्रशासन की कई समस्याएं और अनुशासनहीनता भी देखी गयी थी। पैदल सेना बटालियनों के सीओ जिन्हें मानव शक्ति प्रदान करने के लिए कहा जाता था वो मुसीबत खड़ी करने वालों से छुटकारा पाने के लिए एक अवसर के रूप में इसका प्रयोग करते थे। अगर बटालियन प्रतिकूल परिस्थितियों में अच्छा प्रदर्शन करती भी थी तो, यह मुख्य रूप से अधिकारियों के नेतृत्व व उनकी पेशेवर क्षमता की वजह से ही था।

इसे ध्यान में रखते हुए, आरआर बटालियन की बुनियादी संरचना को बदलने के लिए निर्णय लिया गया था। अपनी इकाइयाँ जो सभी सेना भर के सैनिकों से बनीं थीं ,की जगह, दो आरआर बटालियन पैदल सेना रेजिमेंट बना दीं गयीं जो एक दूसरे का अभिन्न हिस्सा बनायीं गयी एक रेजिमेंट की मुख्य टुकड़ी थी व बाकि सभी रेजिमेंट से मिला कर बनाया जाता था। अब न केवल दो आरआर रेजिमेंट, लेकिन उनके कमांडिंग अधिकारी या 2IC भी उसी रेजिमेंट से होता था। इस प्रयोग ने उत्कृष्ट परिणाम का उत्पादन किया, यहाँ तक कि जब इकाइयों सबसे दुर्गम क्षेत्रों में तैनात किया गया था तब भी।

आरआर सेक्टर की लोकेशन्स
  • सेक्टर 1 - अनंतनाग
  • सेक्टर 2 - कुलगाम
  • सेक्टर 3 - मानसबल
  • सेक्टर 4 - डोडा
  • सेक्टर 5 - बारामूला
  • सेक्टर 6 - पुंछ
  • सेक्टर 7 - कुपवाड़ा
  • सेक्टर 8 - कुपवाड़ा
  • सेक्टर 9 - किस्तवार
  • सेक्टर 10 - बारामूला
  • सेक्टर 11 - बनिहाल
  • सेक्टर 12 - बड़गाम
कुछ ज्ञात आरआर बटालियन से जुड़ी रेजिमेंट्स
  • 4 आरआर - बिहार
  • 7 आरआर - पंजाब
  • 10 आरआर - राजपूत
  • 11 आरआर - डोगरा
  • 12 आरआर - ग्रेनेडियर्स
  • 13 आरआर - कुमाऊं
  • 14 आरआर - गढ़वाल राइफल्स
  • 15 आरआर - 1 गोरखा
  • 17 आरआर - मराठा
  • 21 आरआर - गार्ड
  • 22 आरआर - पंजाब
  • 32 आरआर - 3 गोरखा
  • 36 आरआर - गढ़वाल राइफल्स
  • 48 आरआर - गढ़वाल राइफल्स

[2]

संरचना[संपादित करें]

राष्ट्रीय राइफल्स में 65 बटालियन शामिल हैं। [3]

एक आरआर बटालियन की प्रभावशाली तथ्य यह है कि पारंपरिक सेना बटालियनों के विपरीत, यह चार के बजाय छह राइफल कंपनियों को रखते हैं और अपने क्षेत्र में अपनी भारी हथियार को भी रखते हैं।

मूल रूप से इसमें चार 'उग्रवाद रोधी बल' हैं, जो प्रत्येक कश्मीर घाटी और जम्मू के क्षेत्र में कार्यरत हैं, आरआर ने पांचवें बल की वर्दी 2003-04 में अपनाई

  • आतंकवाद विरोधी बल (सीआईएफ) आर / रोमियो फोर्स - राजौरी और पुंछ
  • आतंकवाद विरोधी बल (सीआईएफ) डी / डेल्टा फोर्स - डोडा
  • आतंकवाद विरोधी बल (सीआईएफ) वी / विक्टर फोर्स - अनंतनाग, पुलवामा और बड़गाम
  • आतंकवाद विरोधी बल (सीआईएफ) कश्मीर / किलो फोर्स - कुपवाड़ा, बारामूला और श्रीनगर
  • आतंकवाद विरोधी बल (सीआईएफ) यू / समान बल - उधमपुर और बनिहाल

राष्ट्रीय राइफल्स एक्शन में[संपादित करें]

प्रारंभिक आरआर आतंकवाद प्रभावित जम्मू एवं कश्मीर के अनंतनाग और पंजाब के तरनतारन के क्षेत्रों में तैनात बटालियन बेहद कारगर साबित हुई। पंजाब में सेना और आरआर इकाइयों की तैनाती ने स्थिति में बदलाव के लिए योगदान किया। तब से आरआर तेजी से कश्मीर में सेना की ओर से कम तीव्रता वाले युद्ध लड़ रही है। हताहत आंकड़ों से संकेत मिलता है कि 1991 में 44 से बाहर 3 शहीद सैनिक आरआर से थे। यह आंकड़ा निरंतर बढ़ा है।

अपनी 8 वीं वर्षगांठ तक यह सेना में सबसे सजाया गया संगठन बन गया था। इस रेजिमेंट ने 500 से अधिक ​​वीरता पुरस्कार प्राप्त किये हैं। वास्तव में 25% इकाई को पहले से ही अपने अभिनय के लिए प्रतिष्ठित आर्मी चीफ ऑफ स्टाफ द्वारा यूनिट प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया जा चुका है। [4]

भर्ती[संपादित करें]

आरआर को एक अर्धसैनिक बल के रूप में बनाया गया था और यह परिकल्पना की गई थी कि उसके कर्मी, असम राइफल्स के सामान सामान्य आर्मी , पूर्व सैनिकों और विभिन्न अर्धसैनिक बलों और नियमित रूप से सेना के स्वयंसेवक व पुलिस संगठन से शामिल होंगे। बहरहाल, यह कभी नहीं हुआ और इस बल में सेना के अधिकारियों और जवानों के अनेक रेजिमेंट्स से शामिल किया गया जैसे राजपूताना राइफल्स, गोरखा रेजिमेंट, गढ़वाल राइफल्स, मराठा लाइट इन्फैंट्री, सिख लाइट इन्फैंट्री और सिख रेजिमेंट। अधिकारियों और सैनिकों को 2-3 साल की अवधि के लिए प्रतिनियुक्ति कर आरआर के लिए भेजा जाता है। आरआर कर्मियों को नियमित रूप से सेना के जवानों से तुलना में अतिरिक्त लाभ व 25% अधिक वेतन प्राप्त होता है, इस प्रकार अक्सर यह एक प्रतिष्ठित रेजिमेंट माना जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. http://lcweb2.loc.gov/cgi-bin/query/r?frd/cstdy:@field%28DOCID+in0197%29
  2. [1]
  3. P361 The Military Balance, 2010, The International Institute for Strategic Studies
  4. [2]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:Law enforcement in India साँचा:Border guards