राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, वारांगल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान, वारांगल, आंध्र प्रदेश की स्थापना १९५९ में की गई थी और १० सितम्बर २००२ को इसे राष्‍ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, वारंगल को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान का दर्जा दिया गया था। यह संस्थान, क्षेत्रीय इंजीनियरी कालेजों की श्रृंखला में प्रथम था। संस्थान इंजीनियरी, विज्ञान और मानविकी की सभी शाखाओं में ८ अवर स्नातक कार्यक्रम, स्नातकोतर कार्यक्रम तथा पीएच डी कार्यक्रम संचालित करता है। संस्थान का केन्द्रीय पुस्तकालय, आन्ध्र प्रदेश राज्य के तकनीकी पुस्तकालय में से सबसे उत्तम माना जाता है। संस्थान के परिसर को नेटवर्क से जोड़ा गया है और सभी स्टाफ और विद्यार्थियों के लिए इंटरनेट सुविधाएं उपलब्ध हैं। सभी विद्यार्थियों और स्टाफ के अधिकतर सदस्यों को परिसर में आवासीय सुविधाएं प्रदान की जाती हैं।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान, वारांगल". संस्थान का आधिकारिक जालस्थल. अभिगमन तिथि ४ मई २००९. |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)