राष्ट्रीय डेरी अनुसन्धान संसथान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
राष्ट्रीय डेरी अनुसन्धान संस्थान
National Dairy Research Institute Logo.png
चित्र:National Dairy Research Institute Logo.png

स्थापित१९२३
प्रकार:शोध संस्थान
निदेशक:आर. आर. बी. सिंह
अवस्थिति:करनाल, हरियाणा, भारत
परिसर:१३८४ एकड़
जालपृष्ठ:www.ndri.res.in

राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान (NDRI), करनाल भारत की प्रमुख डेयरी अनुसंधान संस्थान है .[1] इस संस्थान को वर्ष 1989 में मानद विश्वविद्यालय दर्जा दिया  गया.

इतिहास[संपादित करें]

राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान, करनाल, मूल रूप से पशुपालन और डेयरी के शाही संस्थान के रूप में १९२३ में बैंगलोर में शुरू गया था है।

१९३६ में इसका विस्तार किया गया था और इसका नाम नाम इम्पीरियल डेयरी संस्थान रखा गया. १९४७ में आजादी के बाद से यह राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान के रूप में जाना जाने लगा. इसके बाद, १९५५ में, एन. डी. आर. आई. मुख्यालय करनाल में स्थानांतरित कर दिया गया था. बैंगलोर की सुविधाओं को दक्षिणी राज्यों के लिए एक क्षेत्रीय स्टेशन के रूप में बनाए रखा गया है

१९७० में, अनुसंधान के क्षेत्र में प्रबंधन कार्य में अधिक से अधिक परिचालन स्वायत्तता प्रदान करने के लिए एन. डी. आर. आई. को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के अंतर्गत लाया गया. 

१९८९ में, मानव संसाधन विकास के लिए शैक्षणिक कार्यक्रम को और मजबूत करने के लिए संस्थान को मानद विश्वविद्यालय के दर्जे से सम्मानित किया गया था .

१९९० में, "प्रथम", दुनिया के पहले आईवीएफ भैंस के बछड़े, के जन्म के साथ , एन. डी. आर. आई. एक महत्वपूर्ण मील के पत्थर पर पहुंच गया है।

एन. डी. आर. आई. में आयोजित कार्यक्रम [संपादित करें]

आँठवा दीक्षांत समारोह; ए. पी. जे. अब्दुल कलम जी का सन्देश[2].

१३वां दीक्षांत समारोह; १४ फरवरी २०१५.
कृषि विज्ञान सभा: २०१५

पशु जैव प्रौद्योगिकी केंद्र की उपलब्धियां[संपादित करें]

  • प्रथम: दुनिया में पहला आईवीएफ (इन विट्रो निषेचन में) भैंस बना कर राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान ने   विश्व ख्याति अर्जित कर ली है.
  • समरूप: दुनिया की पहली क्लोन भैंस के बछड़े के साथ, भारत ने डॉली भेड़ का जवाब दिया था. लेकिन डॉली के विपरीत, सम्रूपा एक फेफड़ों के संक्रमण से पांच दिनों के बाद ही मर गयी.[3]
  • पहला क्लोन बछड़ा: फ़रवरी ६, २००९ को पहला क्लोन बछड़ा पैदा हुआ था; यह केवल छह दिन के लिए जिया  [4]
  • गरिमा: विश्व के दूसरे क्लोन भैंस के बछड़े का जन्म उन्नत हाथ-गाइडेड क्लोनिंग तकनीक के माध्यम से एन. डी. आर. आई. करनाल में ६ जून, २००९ को हुआ  था।
  • Gamini: अगस्त २२, २०१० में, एक बछड़ा क्लोन की भैंस 'गरिमा-2' उपनाम Gamini से पैदा हुआ था।
  • श्रेष्ठ: अगस्त २६, २०१० एक बछड़ा क्लोन की भैंस 'श्रेष्ठ' से पैदा हुआ था.
  • नूरी: ९ मार्च २०१२, को विश्व की पहली पशमीना बकरी नूरी पैदा हुई . 
  • महिमा: २५ जनवरी २०१३ में 1.51 बजे सामान्य प्रसव द्वारा क्लोन भैंस गरिमा ने एक महिला बछड़ा "महिमा" को जन्म दिया। दुनिया में, पहली बार क्लोन भैंसों के माध्यम से बछड़ा जन्मा। महिमा का वजन 32 किलो है,
  • स्वर्ण: मार्च १८, २०१३, का एक क्लोन पुरुष भैंस 'स्वर्ण' पैदा हुआ; यह जिंदा है और स्वस्थ है।
  • पूर्णिमा: सितम्बर ६, २०१३, को एक क्लोन मादा भैंस 'पूर्णिमा' पैदा हुई 
  • Lalima: २ मई, २०१४ को लालिमा "हाथ-गाइडेड क्लोनिंग तकनीक" के माध्यम से पैदा हुई थी.
  • Rajat: "हाथ-गाइडेड क्लोनिंग तकनीक" के माध्यम से २३ जुलाई, २०१४ को 'रजत' नाम का एक बछड़ा पैदा किया गया था.

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Page 127, The Directory of Scientific Research Institutions in India, By T. S. Rajagopalan, R. Satyanarayana, Published 1969 by Indian National Scientific Documentation Centre
  2. "Address during the Convocation of National Dairy Research Institute > Dairy Technology Empowers National Economic Development and National Health" (PDF). India: National Dairy Research Institute. 2010-03-13. मूल (PDF) से 21 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-05-18.
  3. Kounteya Sinha, TNN, Feb 13, 2009, 12.33am IST (2009-02-13). "India clones world's first buffalo". The Times of India. मूल से 2 फ़रवरी 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-05-18.सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)CS1 maint: Multiple names: authors list (link)
  4. "Second Cloned Buffalo Calves "GARIMA" born at N.D.R.I., Karnal" (PDF). India: National Dairy Research Institute. June 2009. मूल (PDF) से 21 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-05-18.