राष्ट्रमण्डल के प्रमुख

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
राष्ट्रमण्डल के प्रमुख
Personal flag of Queen Elizabeth II.svg
एलिज़ाबेथ द्वितीय का व्यक्तिगत ध्वज
पदाधिकारी
महारानी एलिज़ाबेथ द्वितीय

6 फ़रवरी 1952से 
सम्बोधन उनकी महिमा
कार्यकाल जीवन भर
पहली बार पद संभालने वाले जॉर्ज सष्टम
पद की उत्पत्ति 28 अप्रैल 1949
अधिकारिक वेबसाइट thecommonwealth.org


राष्ट्रमण्डल के प्रमुख, का पद, ५३ राष्ट्रों के राष्ट्रमण्डल का एक औपचारिक अध्यक्षात्मक पद है। राष्ट्रमण्डल या राष्ट्रकुल, ५३ मुख्यतः राष्ट्रों का एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन है, जो पूर्वतः यूनाइटेड किंगडम के उपनिवेश या परिराज्य हुआ करते थे। यह पद केवल एक रितिस्पद पद है, जिसके पदाधिकारी का इस संगठन के दैनिक कार्यों में किसी भी प्रकार की कोई भूमिका नहीं है। इस पद के कार्यकाल की कोई समय-सीमा नहीं है, और परंपरागत रूप से इस पद व उत्पाद को ब्रिटिश संप्रभु पर निहित किया गया है।

ब्रिटिश संप्रभु को पूर्वतः, राष्ट्रमण्डल के सारे देशों के शासक होने का दर्जा प्राप्त था, परंतु भारत की स्वतंत्रता के बाद, भारत ने स्वयं को एक गणराज्य घोषित कर दिया, और भारत के सम्राट के पद को खत्म कर दिया गया। बहरहाल, भारत ने राष्ट्रमण्डल का एक सदस्य रहना स्वीकार किया। इसके पश्चात, राष्ट्रमण्डल के प्रमुख के इस पद को एक गैर-राजतांत्रिक, औपचारिक अध्यक्षात्मक उपदि के रूप में स्थापित किया गया था। कथित तौर पर, राष्ट्रमण्डल के प्रमुख को, "स्वतंत्र सदस्य राष्ट्रों की मुक्त सहचार्यता का प्रतीक" माना गया है।

उपादि[संपादित करें]

इस उपादि को १९४८ में राष्ट्रमंडल के प्रधमंत्रियों की बैठक के बाद, लंदन घोषणा में प्रकल्पित किया गया था।[1] और १९५३ से, यह, प्रत्येक प्रदेश में एक शाही खिताब के रूप में उपयोग किया जाता है।

विभिन्न भाषाओं में प्रयोग
भाषा उपादि उपयोग
अफ्रिकान भाषा Hoof van die Statebond (शाब्दिक अर्थ 'महासंघ के प्रमुख') दक्षिण अफ़्रीका
चीनी भाषा 共和联邦元首(Gònghé Liánbāng Yuánshǒu)[n 1] (शाब्दिक अर्थ 'गणराज्य परिसंघ के प्रमुख') सिंगापुर
अंग्रेज़ी भाषा अंग्रेज़ी: Head of the Commonwelth अनेक
फ़्रांसिसी भाषा Chef du Commonwealth कैमरून, कनाडा, सेशेल्स, वानुअतु, तथा जर्सी और ग्वेर्नसे
यूनानी Αρχηγός της सायप्रस गणराज्य
हिंदी राष्ट्रमंडल के प्रमुख भारत
लैटिन भाषा Consortionis Populorum Princeps विभिन्ननन देशों में, ओरंपरिक उपदि के रूप में[n 2][2])
मलय भाषा Ketua Komanwel ब्रूनेई, मलेशिया, सिंगापुर
मोलतिज़ भाषा Kap tal-Commonwealth माल्टा
माओरी भाषा Upoko o Nga Herenga ki Ingarangi[3] न्यूज़ीलैण्ड
पुर्तगाली भाषा Chefe da Commonwealth मोज़ाम्बीक

पृष्ठभूमि व इतिहास[संपादित करें]

वर्त्तमान राष्ट्रमण्डल प्रमंडल

१८ वीं और १९वीं सदी के दौरान ब्रिटेन के औपनिवेशिक विस्तार द्वारा, ब्रिटेन ने विश्व के अन्य अनेक भू-भागों वे क्षेत्रों पर अपना कब्ज़ा जमा लिया। जिनमें से अधिकतर देशों ने मध्य २०वीं सदी तक ब्रिटेन से स्वतंत्रता हासिल कर ली। हालाँकि उन सभी देशों ने यूनाइटेड किंगडम की सरकार की अधिपत्यता को नकार दिया, परंतु उनमें से कई राष्ट्र, ब्रिटिश शासक को अपने अधिराट् के रूप में मान्यता देते हैं। ऐसे देहों राष्ट्रमण्डल प्रदेश या राष्ट्रमण्डल प्रजाभूमि कहा जाता है। वर्त्तमान काल में, यूनाइटेड किंगडम के अधिराट् केवल यूनाइटेड किंगडम के ही नहीं बल्कि उसके अतिरिक्त कुल १५ अन्य राष्ट्रों के अधिराट् भी हैं। हालांकि इन राष्ट्रों में भी उन्हें लगभग सामान पद व अधिकार प्राप्त है जैसा की ब्रिटेन में, परंतु उन देशों में, उनका कोई वास्तविक राजनीतिक या पारंपरिक कर्त्तव्य नहीं है, शासक के लगभग सारे कर्त्तव्य उनके प्रतनिधि के रूप में उस देश के महाराज्यपाल(गवर्नर-जनरल) पूरा करते हैं। ब्रिटेन की सरकार का राष्ट्रमण्डल प्रदेशों की सरकारों के कार्य में कोई भी भूमिका या हस्तक्षेप नहीं है। ब्रिटेन के अलावा राष्ट्रमण्डल आयाम में: एंटीगुआ और बारबुडा, ऑस्ट्रेलिया, बहामा, बारबाडोस, बेलिज, ग्रेनेडा, जमैका, कनाडा, न्यूजीलैंड, पापुआ न्यू गिनी, सोलोमन द्वीप, सेंट लूसिया, सेंट किट्स और नेविस, सेंट विंसेंट और ग्रेनेडाइंस और तुवालु जैसे देश शामिल हैं।

पूर्वतः राष्ट्रों के राष्ट्रमण्डल के सारे देश राष्ट्रमण्डल प्रजाभूमि के हिस्सा हुआ करते थे, परंतु १९५० में भारत ने स्वतंत्रता के पश्चात स्वयं को गणराज्य घोषित किया, और ब्रिटिश राजसत्ता की राष्ट्रप्रमुख के रूप में संप्रभुता को भी खत्म कर दिया। परंतु भारत ने राष्ट्रमण्डल की सदस्यता बरक़रार राखी। उसके बाद से, राष्ट्रमण्डल देशों में, ब्रिटिश संप्रभु को (चाहे राष्ट्रप्रमुख हों या नहीं) "राष्ट्रमण्डल के प्रमुख" का पद भी दिया जाता है, जो राष्ट्रमण्डल के संगठन का नाममात्र प्रमुख का पद है। इस पद का कोई राजनैतिक अर्थ नहीं है।[4]

धारकों की सूची[संपादित करें]

चित्र नाम जन्मतिथी मृत्युतिथी पदग्रहण की तिथी पदत्याग की तिथी पूर्व पदग्रही से संबंध
( विवरण)
King George VI.jpg महाराज जाॅर्ज (षष्ठम) 14 दिसंबर 1895 6 फ़रवरी 1952 28 अप्रैल 1949 6 फऱवरी 1952 निःशून्य
(प्रथम धारक)
Elizabeth II greets NASA GSFC employees, May 8, 2007 edit.jpg महारानी एलिज़ाबेथ (द्वितीय)[5] 21 अप्रैल 1926 6 फ़रवरी 1952 पदस्थ जॉर्ज षष्ठम की पुत्री

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. London Declaration 1949 (PDF), Commonwealth Secretariat, अभिगमन तिथि 2 April 2013
  2. "Biography of Elizabeth II (UK)". archontology.org.
  3. "Translation of Ingarangi at Māori Dictionary Online". अभिगमन तिथि 17 December 2013.
  4. London Declaration (PDF), Commonwealth Secretariat, 1949, अभिगमन तिथि 29 July 2013
  5. "Head of the Commonwealth". Commonwealth Secretariat.

नोट[संपादित करें]

  1. Written in Simplified Chinese. Mandarin Hanyu Pinyin: Gònghé Liánbāng Yuánshǒu. Mandarin is one of the four official languages of Singapore and Simplified Chinese is the official script.
  2. In the United Kingdom, the sovereign's titles in Latin have been regulated by laws.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]