राशिदून ख़लीफ़ा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(राशिदुन ख़िलाफ़त से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search

खलीफ़ा राशिदून : (خلیفۃ راشدون) - रुष्द व हिदायत पाये खलीफ़ा। सुन्नी मुसलमानों के लिए पैगम्बर मुहम्मद की मृत्यु के बाद, सन् ६३२ से लकर सन् ६६१ के मध्य के खलीफ़ा (प्रधानों) को राशिदून या अल खलीफ़ उर्र-राशिदून (सही दिशा में चलते हुए) कहते हैं। कार्यकाल के अनुसार ये चार खलीफ़ा हैं। (इब्न माजा, अबी दाऊद) [1]

खलीफ़ा, इस्लाम का राजनैतिक तथा धार्मिक प्रधान होता था जिसकी नियुक्ति एक समिति द्वारा या उसके पूर्व के खलीफ़ा द्वारा होती थी। हसन को सन् ६६१ में खलीफ़ा बनाया गया था और उसी साल उनकी मृत्यु हो गई थी। कुछ सुन्नी मुसलमान उन्हें भी राशिदुन खलीफ़ा मानते हैं।

इतिहास[संपादित करें]

एमिनोनु, इस्तानबुल में नई मस्जिद के गुंबद में अंकित चारों खलीफाओं के नाम, निर्माण सफ़िया सुल्तान के राज प्रतिनिधित्व के दौरान शुरू किया गया था और तुर्हान हेट वैलांस सुल्तान, मेहमेद चतुर्थ सुल्तान की माता द्वारा पूरा किया गया।

पहले चार ख़लीफ़ा जिन्होने मुहम्मद की मौत के बाद शासन किया उन्हे अक्सर खलीफ़ा राशिदून के रूप में उल्लिखित किया जाता हैं रशीदुन या तो एक परिषद द्वारा(उस्मान और इस्लामी लोकतंत्र के चुनाव को देखें) चुने गए या उनके पूर्ववर्ती की इच्छा के आधार पर चुनें गए थे। उत्तराधिकार के क्रम में, रशीदुन थे[2][3]:

  1. अबू बक्र (632-634 ईस्वी)।
  2. उमर इब्न अल-ख़त्ताब, (उमर і, 634-644 सीई) - उमर अक्सर कुछ पश्चिमी विद्या में उमर वर्तनी है।
  3. उस्मान इब्न अफ़्फ़ान (644-656 सीई) - उथमान अक्सर वर्तनी है कुछ गैर अरबी विद्वान में ओथमान (या उस्मान)
  4. अली इब्न अबी तालिब (656-661 सीई) - इस अवधि तथापि, मुआवियाह इब्न अबी सुफ़ियान (मुआवियाह ई) सह दौरान शाम और मिस्र क्षेत्र में अली के स्वतंत्र रूप से नियंत्रित किया। 

इस के अलावा, वहाँ अतिरिक्त(कार्यवाहक) रशीदुन के संबंध में कई बार देखें गए हैं:

ख़िलाफ़त काल पट्टी[संपादित करें]

अली इब्न अबी तालिब उस्मान इब्न अफ्फ़ान उमर अबू बक्र

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. admin@inter-islam.org. "Taraweeh: 8 or 20?". Inter-islam.org. http://www.inter-islam.org/Actions/taraweeh.htm. अभिगमन तिथि: 2014-04-16. 
  2. شبارو, عصام محمد (1995). First Islamic Arab State (1 – 41 AH/ 623 – 661 CE). Arab Renaissance House – Beirut, Lebanon. प॰ 370. 
  3. Madelung, Wilferd (1997). The Succession to Muhammad: A Study of the Early Caliphate. Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-64696-0. 
  4. "The Four Caliphs – SHAYKH AL ISLAM". Islam786.org. http://www.islam786.org/thefourcaliphs.htm#37515864. अभिगमन तिथि: 2014-04-16. 
  5. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; عصام محمد شبارو 19954 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  6. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Madelung19974 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।

बाहरी कड़ीयां[संपादित करें]