रावतभाटा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रावतभाटा
शहर
उपनाम: अणु नगरी
देशFlag of India.svg भारत
राज्यराजस्थान
जिलाचित्तौड़गढ़
संभागउदयपुर संभाग
शासन
 • प्रणालीलोकतांत्रिक
 • सभानगर पालिका रावतभाटा
 • लोकसभा सांसद चित्तौरगढ़चंद्र प्रकाश जोशी (भारतीय जनता पार्टी)
क्षेत्रफल
 • कुल21.53 किमी2 (8.31 वर्गमील)
ऊँचाई325 मी (1,066 फीट)
जनसंख्या (2011)[1]
 • कुल37,701
 • घनत्व1,751 किमी2 (4,540 वर्गमील)
भाषा
 • आधिकारिकहिन्दी, मेवाड़ी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)
पिन कोड323307
वाहन पंजीकरणRJ-09
वेबसाइटhttp://rawatbhata.co.in/ http://www.rawatbhata.webs.com

रावतभाटा भारतीय राज्य राजस्थान के चितौड़गढ़ जिले का एक शहर ,तहसील एवं नगर पालिका क्षेत्र है। इसका निकटतम नगर कोटा, यहाँ से 50 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। रावतभाटा, देश के अधिकतर हिस्सों से कोटा के माध्यम से ही जुड़ता है। रावतभाटा नगर पालिका क्षेत्र 25 वार्ड में विभाजीत है जिसके चुनाव हर 5 साल में होते है शहर में 8 परमाणु ऊर्जा केंद्र हैं,और एक निर्माणधीन नाभिकीय ईंधन सयंत्र हैं और एक भारी पानी संयंत्र है। रावतभाटा में राजस्थान के सबसे बडे बांधों में से एक है राणा प्रताप सागर, जो कि चंबल नदी पर बनवाया गया था। बांध पर 172 मेगावॉट का पन बिजलीघर है। रावतभाटा नगर पालिका में कुल मिलाकर 8,397 मकान हैं, जिनमें से यह पानी और सीवरेज की तरह बुनियादी सुविधाओं की आपूर्ति करता है। यह नगर पालिकाओं की सीमाओं के भीतर सड़कों का निर्माण करने और उसके अधिकार क्षेत्र में आने वाली संपत्तियों पर करों को अधिरोपित करने का अधिकार भी प्रदान करता है।रावतभाटा परमाणु विद्युत गृह की स्थापना 1975 में कनाडा के सहयोग से की गई, यह भारत का दूसरा परमाणु विद्युत गृह है,भारत का प्रथम परमाणु विद्युत गृह तारानगर महाराष्ट्र में है इसकी स्थापना 1969 में की गई थी।

भौगिलिक स्थिति[संपादित करें]

रावतभाटा 24°56′N 75°35′E / 24.93°N 75.58°E / 24.93; 75.58 पर स्थित है[2] और इसकी मानक समुद्र तल से ऊँचाई 325 मीटर (1066 फुट) है।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

रावतभाटा में धर्म
Religion Percent
हिन्दू
  
81.96%
मुस्लिम
  
13.33%
जैन
  
2.43%
सिख
  
0.90%
ईसाई
  
0.58%
बौद्ध
  
0.23%
अन्य
  
0.0%

भारत की 2011 की जनगणना के अनुसार रावतभाटा की कुल जनसंख्या 37,701 है जिसमें 51.8% पुरुष और 48.2% महिलायें हैं। रावतभाटा की औसत साक्षरता दर 85.82% है जो राष्ट्रीय औसत 74.04% से अधिक है। यहाँ पुरुष साक्षरता दर 92.19% तथा महिला साक्षरता दर 79.01% है। रावतभाटा में 12.27% जनसंख्या 6 वर्ष से कम आयु के बच्चों की है।

यह स्थान चम्बल नदी पर स्थित इस दूरस्थ स्थान हैं जहाँ स्थानीय जनजाति समुदाय का विरोध बहुत कम होता है। अतः1960 के दशक में कनाडा आधारित एईसीएल कंपनी की सहायता से इस स्थान को परमाणु ऊर्जा केन्द्र के रूप में बदला गया।

विद्यालय[संपादित करें]

ग़ैरसरकारी विद्यालय[संपादित करें]

परमाणु ऊर्जा शिक्षा सोसायटी[संपादित करें]

  • परमाणु ऊर्जा केंद्रीय विद्यालय नं. 2 (कक्षा प्रेप से 10वीं सी.बी.एस.ई)
  • परमाणु ऊर्जा केन्द्रीय विद्यालय नं. 3 (कक्षाएं 1 से 12वीं कला और वाणिज्य सी.बी.एस.ई)
  • परमाणु ऊर्जा केंद्रीय विद्यालय नं. 4 (कक्षा प्री-प्रेप से 12वीं सी.बी.एस.ई)

लेकिन ये स्कूल उन छात्रों को स्वीकार करते हैं जिनके माता-पिता परमाणु ऊर्जा विभाग और अन्य केन्द्रीय सरकार के विभागों में हैं।

अन्य विद्यालय[संपादित करें]

  • श्री गुरु तेग बहादुर शिक्षा संस्थान
  • मॉडर्न पब्लिक वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय
  • न्यू डाईमेंशन पब्लिक स्कूल
  • राणा प्रताप वरिष्ठ विद्यालय
  • श्री राम बाल विद्या मंदिर
  • सेंट पॉल माध्यमिक विद्यालय
  • रॉयल पब्लिक स्कूल
  • आदर्श विद्या मंदिर विद्यालय
  • अल्फा माध्यमिक विद्यालय
  • ब्राइटवे पब्लिक विद्यालय
  • ऑक्सफ़ोर्ड अकादमी माध्यमिक विद्यालय
  • सुभम चिल्ड्रन शिक्षा संस्थान
  • स्वामी विवेकानंद पब्लिक विद्यालय
  • सिनर्जी पब्लिक विद्यालय
  • सागर पब्लिक मिडिल विद्यालय
  • माता पन्नाद्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय
  • स्मार्ट किड्स अंग्रेजी प्राइमरी स्कूल
  • नई आदर्श विद्या निकेतन
  • महावीर शिशु मंदिर
  • शबद प्रताप मिडिल स्कूल
  • मदरसा सिराजल इस्लाम
  • मदरसा ख़वाज़ा गरिब नवाज

सरकारी विद्यालय[संपादित करें]

दो (1 लड़के और 1 लड़कियाँ) राज्य सरकार के वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, 2 माध्यमिक विद्यालय, 2 उच्च प्राथमिक लड़के, 5 प्राथमिक विद्यालय और 1 संस्कृत माध्यमिक विद्यालय हैं।

कॉलेज[संपादित करें]

  • सरकारी कॉलेज (बी.ए बी.कॉम और बीएससी)
  • सरकारी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (फिटर वेल्डर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स)
  • श्राद्धलय जनजांति बीएड कॉलेज (बी.एड एंड एसटीसी)
  • श्री विश्वकर्मा आईटी केंद्र (फिटर और इलेक्ट्रीशियन)
  • शिखर निजी आईटीआई

चिकित्सालय[संपादित करें]

आर.ए.पी.पी के अस्पताल में एईसी, एनपीसीएल, एचडब्ल्यूपी, बी.ए.आर.सी रैपकोफ और अन्य डीएआई इकाइयां के कर्मचारियों के लिए 100 बिस्तरों का एक अस्पताल है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सरकार ने पास के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के प्रति प्रतिबद्धता के रूप में राज्य सरकार को एक 100 बिस्तरों वाला अस्पताल समर्पित किया है। इसके आलावा विमला अस्पताल,सरकारी आयुर्वेद अस्पताल, आरआरवीनएल अस्पताल, लाहोटी अस्पताल, श्री जीवाजी क्लिनी, विकस नर्सिंग होम,आदि चिकित्सालय है

पोस्ट ऑफिस[संपादित करें]

रावतभाटा में तीन पोस्ट ऑफिस विक्रम नगर,अणु किरण और बाज़ार और एक पोस्ट ऑफिस की शाखा नए बाजार में है

धार्मिक स्थान[संपादित करें]

  • श्री चारभुजा नाथ मंदिर
  • मुक्तेश्वर महादेव मंदिर
  • श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर
  • साईं बाबा मंदिर
  • राम मंदिर
  • मानव मंदिर
  • हनुमान मंदिर
  • सार्वजनिक गणेश मंजीर
  • आशा पुरा मंदिर
  • दुर्गा माता मंदिर
  • बाबा राम देव जी मंदिर
  • शिव मंदिर
  • गणेश मंदिर
  • पंच मुखी हनुमान मंदिर
  • बरोली मंदिर
  • ब्रह्मा मंदिर
  • शनि देव मंदिर
  • दिगंबर जैन मंदिर
  • श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर
  • जैन स्वातेम्बर मंदिर
  • जामा मस्जिद
  • मदीना मस्जिद
  • यूनाइटेड चर्च
  • गुरुद्वारा

दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

बारोली मंदिर परिसर[संपादित करें]

बारोली मंदिर परिसर

बारौली मंदिर परिसर, बाड़ोली मंदिर के नाम से भी जाना जाता है, जो राजस्थान, भारत में चित्तौड़गढ़ जिले में रावतभाटा शहर के बाड़ौली गांव में स्थित है.आठ मंदिरों की जटिलता एक दीवारों के भीतर स्थित है; एक अतिरिक्त मंदिर लगभग 1 किलोमीटर (0.62 मील) दूर है। ये दसवीं शताब्दी के ई. डी. में स्थित मंदिर वास्तुकला की गुर्जर प्रतिहार शैली में बने हैं। सभी नौ मंदिर संरक्षण और संरक्षण के लिए भारत के पुरातात्विक सर्वेक्षण विभाग के अधीन हैं।

यद्यपि बरौली मंदिरों का इतिहास बहुत स्पष्ट नहीं है, लेकिन यह बताया गया है कि वे 10 वीं से 11 वीं शताब्दी के गुरूजल प्रतिहार साम्राज्य के दौरान बनाए गए हैं. राजस्थान के सबसे पुराने मंदिर परिसरों में से एक है भगवान नटराज की एक नक्काशीदार पत्थर की मूर्ति 1998 में बारली मंदिर परिसर से चोरी की गई थी.यह लंदन में एक निजी कलेक्टर का पता लगाया गया है।हालांकि, मूर्ति अभी तक बरामद नहीं हुई है।

10 वीं शताब्दी के बारोली मंदिर महान वास्तुकलात्मक रूचि के हैं, जिसमें गुरुजल प्रतिहार वास्तुशिल्प शैली में मंदिर का निर्माण किया गया है, जिसमें नक्काशीदार पत्थर का निर्माण किया गया है.वे एक अर्ध-नष्ट राज्य में कुछ के साथ, रखरखाव के विभिन्न चरणों में हैं.

बारोली परिसर में 8 प्रमुख मंदिर हैं और नवीं मील में एक किलोमीटर दूर हैं। चार मंदिर शिव को समर्पित हैं (जिसमें घतेश्वर महादेव मंदिर सहित), दो से दुर्गा और एक-एक शिव-त्रिमूर्ति, विष्णुनंद गणेश है।

इन मंदिरों में तराशे गए नटराज (नैतेशा) की मूर्तियां अपराजमाला में देखने वालों के समान हैं। मूर्तिकला में 16 हथियार हैं और उसका पता लगाया गया है। खोपड़ी के ऊपर केंद्र में एक बड़ी संख्या में फैली हुई है, जिसे "बेड़ले हुए झूलों से सजाया जाता है."चेहरे की विशेषताएं बहुत बढ़िया हैं, उच्च कृत्रिम भौंक और पूर्ण मुंह के साथ।

राणा प्रताप सागर बाँध[संपादित करें]

राणा प्रताप सागर बाँध

चंबल नदी पर स्थित राणा प्रताप सागर बांध शहर के निकट स्थित है। बांध में बिजली उत्पादन की क्षमता 172 मेगावाट है यह रावतभाटा को पास के कस्बे विक्रमनगर से जोड़ने वाली सड़क का समर्थन करता है, जो एक छोटी पहाड़ी पर स्थित होता है। पहाड़ी की चोटी पर महाराणा प्रताप की एक विशाल प्रतिमा है, जो शहर के ऊपर एक दृष्टिकोण है।

राणा प्रताप सागर बांध या आरपीएस बांध के रूप में इसे कहा जाता है चंबल नदी पर बने चार पुराने बांधों में से एक है यानी गाँधी सागर बांध,राणा प्रताप सागर बाँध,जवाहर सागर बांध एवं कोटा बैराज पूर्व 3 में बिजली उत्पादन की क्षमता है जबकि कोटा बैराज की सीमा सिंचाई के उद्देश्य से है।

राणा प्रताप सागर बाँध अपने आसपास के गांवों में मछली पकड़ने की गतिविधियों की सुविधा प्रदान करते हैं और बिजली पैदा करने के लिए राजस्थान परमाणु बिजली संयंत्र को पानी देने के लिए भी जिम्मेदार हैं।

बांध का सीधा लाभ यह है कि बांध का जल विद्युत उत्पादन 172 मेगावॉट (43 मेगावाट क्षमता वाले 4 इकाई) में हो सकता है, बांध की पाउन्ट को रोकने के लिए, जो कि गांधी सागर बांध से प्राप्त विमुक्त हो गया है और साथ ही साथ फैले हुए जलग्रहण क्षेत्र के द्वारा बांध के अतिरिक्त विद्युत का निर्माण किया जा सकता है। इस बाँध से सिंचाई के लिए हाडौती और आसपास के किसानों को पानी भी दिया जाता है इसके चालू होने के बाद से अधिक वर्षों में 473.0 gwh की अनुमानित उत्पादन संभवता अधिक हो गई है। राणा प्रताप सागर एवं पावर स्टेशन को आधिकारिक तौर पर 9 फरवरी, 1970 को भारत की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने राष्ट्र को समर्पित किया था। राजस्थान के योद्धा महाराज राणा प्रताप के नाम पर बांध और बिजली संयंत्र का नाम रखा गया है।

भेंसरोडगढ वन्यजीव अभयारण्य[संपादित करें]

वन्यजीव अभयारण्य वन्य जीवन के लिए अति सुंदर निवास स्थान है, जो 1983 में एक अभयारण्य के रूप में घोषित किया गया था। यह अभयारण्य एक छोटे से गांव में स्थित है जो चंबल और ब्राह्मणी नदियों के मिलन स्थल पर स्थित है। गांव एक प्राचीन किला में संलग्न है इसकी एक वन्यजीव अभयारण्य है जो सैडल बांध रावतभाटा चित्तौरगढ़ में है। यह अभ्यारण 229.14 वर्ग क्षेत्र में है। इस क्षेत्र में आप जंगली जानवरों और प्राकृतिक परिवेश को देखते हैं प्रमुख प्रजातियां हैं: ढोकरा और खैरे। अन्य प्रजातियों में बाबुल, बेर, सलर, खीरनी आदि शामिल हैं। इसमें पाए जाते हैं: पेंथर,जंगली सूअर, चिंकारा, लोमड़ी, चार सींग वाले मृग, सिवेट हाइना, सांभर, चिंकारा, गीदड़, मगरमच्छ आदि। वनस्पति हैं ढोक, सालर, चुरेल, बूटा। मौसम के दौरान अनेक प्रवासी पक्षी भी देखे जा सकते हैं।

पाड़ाझर झरना[संपादित करें]

पाड़ाझर झरना

पाड़ाझर एक पास का झरना है। गुफाओं की गुफा में भूमिगत जल मूर्तियों और मूर्तियों को बनाए हुए है।कई लोगों की झरने के पास दुर्घटनाओं की वजह से मौत हो गई है यह पाड़ाझर नामक गांव के पास है। यह जगह भगवान शिव के ऐतिहासिक गुफा मंदिर के लिए भी जाना जाता है।महाशिवरात्रि के दौरान यहां एक बड़े त्योहार का आयोजन किया जाता है।पानी के नीचे और आसपास के हरे रंग लोगों के लिए आकर्षण है।

राजस्थान परमाणु ऊर्जा केंद्र[संपादित करें]

राजस्थान परमाणु ऊर्जा केन्द्र

राजस्थान परमाणु शक्ति परियोजना (आरपीपी) राजस्थान के उत्तर भारतीय राज्य में रावतभाटा में स्थित है।इसमें वर्तमान में 1,180 मेगावाट की कुल संस्थापित क्षमता के साथ परिचालन में छह दबाव वाले भारी जल रिएक्टर (पीएचआरआर) इकाइयां हैं।

भारत का परमाणु ऊर्जा निगम (एनपीसीआईएल), संयंत्र का संचालक, संयंत्र की मौजूदा क्षमता में वृद्धि कर रहा है, जिसे 7 और 8 इकाइयों के रूप में जाना जाता है (2x700 = 1400mw)"इन दोनों रिएक्टरों से संयंत्र की वर्तमान क्षमता 1, 400 मेगावाट तक बढ़ जाएगी.

जुलाई 2011 में 700 मेगावाट क्षमता की इकाई-7 रिएक्टर के लिए फर्स्ट पोर ऑफ़ कंक्रीट प्राप्त किया गया (एफपीसी) रिएक्टर 2021 में पूरा होने के लिए निर्धारित है

एक यूनिट-8 रिऐक्टर, जो कि 700 मेगावॉट क्षमता का है, वर्ष 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है। इस संयंत्र के दो मुक्त रिएक्टरों में संयंत्र की वर्तमान क्षमता 1400 मेगावाट क्षमता में वृद्धि होगी, जिसमें से राजस्थान राज्य के लिए 700 मेगावाट का आवंटित होगा।

पहला रिएक्टर दिसंबर 1973 में 100 मेगावाट की स्थापित क्षमता के साथ शुरू किया गया था। 200 मेगावाट क्षमता का दूसरा रिएक्टर अप्रैल,1981 में ग्रिड के साथ सिंक्रोनाइज़ किया गया था. 220 मेगावाट क्षमता वाले तीसरे और चौथे रिएक्टरों में क्रमशः जून 2000 और दिसंबर 2000 में वाणिज्यिक परिचालन आरम्भ हुआ।

पाँचवें रिएक्टर ने नवम्बर 2009 में पहली बार क्रिटिकलिटी हासिल की और फरवरी 2010 में वाणिज्यिक परिचालन आरम्भ किया. इसमें 220 मेगावॉट की स्थापित क्षमता भी है।

वर्ष 2010 में 220 मेगावाट क्षमता की छठी इकाई पहली बार क्रिटिकल हुई थी और मार्च 2010 में एक महीने बाद वाणिज्यिक परिचालन आरम्भ हुई थी।

भारी पानी संयंत्र[संपादित करें]

भारी पानी सयंत्र(भारी जल बोर्ड के अन्तर्गत), रावतभाटा में स्थित परमाणु ऊर्जा विभाग, स्वदेशी का निर्माण होता है और वह द्विताप एच2ओ-एच2एस विनिमय प्रक्रिया पर आधारित होता है।यह संयंत्र कोटा रेलवे स्टेशन से 65 किलो मीटर की दूरी पर स्थित है, जो राजस्थान परमाणु ऊर्जा संयंत्र (आरएपीपी) से जुड़ा है।भारी जल संयंत्र को बिजली और भाप की आपूर्ति के लिए आरएपीपी के साथ एकीकृत किया गया है। पास के राणा प्रताप सागर झील से पानी, निलंबित और घुली हुई अशुद्धियों की शुद्धता, प्रक्रिया को डी2ओ के साथ संसाधित करता है।

नाभिकीय ईंधन सयंत्र[संपादित करें]

परमाणु ईंधन जटिल परियोजना के नाभिकीय ईंधन संकुल (परमाणु ऊर्जा विभाग), राजस्थान परमाणु ऊर्जा परिसर के बारे में राजस्थान, हैदराबाद में एक हरित गृह परियोजना (NFC-rawatbhata) की स्थापना कर रहा है रावतभाटा, जिला-चित्तौरगढ़, राजस्थान में। इस संयंत्र से रावतभाटा, राजस्थान और काकरपारा, गुजरात में बनाई गई 700 मेगावाट की पी.एच.डब्लू. रिएक्टरों की ईंधन आवश्यकताओं की पूर्ति होगी। यहां आने वाले परमाणु ईंधन के परिसर 190 हेक्टेयर तक फैला हुआ हैं, जो कि एच. पी. पी. इस संयंत्र का निर्माण प्रति वर्ष 500-100 टन फ्यूल ईंधन बंडलों का उत्पादन करने के लिए किया गया है। इस परियोजना को जनवरी 2014 के महीने में पर्यावरण और वन मंत्रालय से पर्यावरण मंजूरी प्राप्त हुई है और मार्च 2014 के माह में केंद्रीय कैबिनेट मिशन से वित्तीय मंजूरी दे दी गई है और मई 2014 में ए.ई.आर.बी से ₹2,400 करोड़ आवंटित राशि से इसकी मंजूरी मिली है।और निर्माण 2017 में शुरू हो चूका है।

कलाखेत और आर.ए.पी.पी/भा.पा सयंत्र कॉलोनिया[संपादित करें]

रावतभाटा शहर अरावली की गोद में स्थित है। यहा चारो तरफ जंगल से घिरा हुआ है आर.ए.पी.पी/भा.पा सयंत्र कालोनियो अर्थात् विक्रम नगर टाउनशिप,अणु आशा,अणु भाग्य,अणु छाया,अणु किरण,अणु प्रताप,अणु दिप,अणु तारा,सेंटाब कोलोनी आदि में विभाजित किया गया है इन कॉलोनीयो को बहुत अच्छी प्लानिंग और तमाम सुख सुविधाओं के साथ विकसित किया गया है यहाँ पर पक्की सड़के,नालिया,स्ट्रीट लाइटे,बिजली,पानी,पार्क,कम्युनिटी सेंटर,स्कूल,हॉस्टल,शॉपिंग कॉम्प्लेक्स,स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स,प्लेग्राउंड,पोस्ट ऑफिस,बैंक,डिस्पेंसरी,सिविल और इलेक्ट्रिकल मेंटिनैंस ऑफिस आदि तमाम सुविधाए है रावतभाटा से 35 मिनट की दुरी पर एक निजी फार्म हाउस कालाखेत है यहाँ पर उचित इजाजत लेकर जाया जा सकता है कालाखेत एक बहुत बड़ा फार्म हाउस है यहाँ पर कई गार्डन झूले और मनोरंजन के स्थान है यहा पर कई तरह के पेड़ पौधे भी है यहाँ पर कई तरह की खेती भी की जाती है आपको चारो तरफ कई तरह की सब्जिया,फल के खेत है यहाँ पर एक बड़ा सा स्वामींग पुल भी है जहाँ तमाम तरह की सुविधाये है और यहां पर बारिश के मौसम में काफी संख्या में पर्यटन आते है

चुलिया जलप्रपात[संपादित करें]

चूलिया जलप्रपात

रावतभाटा, राजस्थान के राणा प्रताप बाँध में चंबल नदी के रास्ते में मौजूद झरना राजस्थान के मुख्य झरनो में से एक है। चंबल में कुंड पठार के माध्यम से प्रवाह होता है और राणा प्रताप सागर बांध के डाउन स्ट्रीम में 1.6.कि.मी दुरी पर है यह झरना बड़ी बड़ी चट्टानो से घिरा हुआ है और जमीन से काफी नीचे है राणा प्रताप सागर बांध से जब विद्युत उत्पादन के कारण पानी छोड़ा जाता है तो चूलिया जलप्रपात का जलस्तर बढ़ जाता है और ये पूरा जलप्रपात डूब जाता है बारिश में यहा पर काफी पर्यटक आते है

सैडल डैम[संपादित करें]

सैडल डैम

काठी बांध एक गैर गढ़वाली पत्थर और मिट्टी बांध है, जो कि कुछ गांवों से जल को निर्देशित करने के लिए है, इस बांध के क्षेत्र में काफी संख्या में मगरमच्छ और गेमर भी शामिल हैं। और चारो तरफ जंगल नदी और वन्यजीविये अभ्यारण से घिरा हुआ है सेंडल डैम एक पिकनिक स्थल जहाँ बारिश के मौसम में काफी पर्यटन आते है

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Census of India Search details". भारतीय जनगणना. अभिगमन तिथि 16 अप्रैल 2016.
  2. Falling Rain Genomics, Inc - Rawatbhata

बाहरी कड़िय[संपादित करें]

कोटा से मंदसौर तक वाया रावतभाटा सिंगोली मोरवन मनासा होते हुवे मंदसौर तक नया राष्ट्रीय राजमार्ग बनाया जाना प्रस्तावित हुआ है जिससे रावतभाटा की कनेक्टिविटी अच्छी हो जायेगी जो कि एमरजेंसी के समय रावतभाटा को खाली करने में मददगार होगी - प्रहलाद कुमावत-9462727510