रामायण (2008 टीवी धारावाहिक)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रामायण एक भारतीय टेलीविजन ऐतिहासिक श्रृंखला है जो राम की कहानी को दर्शाती है और क्लासिक भारतीय साहित्य की कहानियों पर आधारित है। 2008 की रिलीज़ उसी नाम की 1987 की रामायण टेलीविजन श्रृंखला पर आधारित एक रीमेक है।[1][2][3] यह कथा वाल्मीकि के रामायण, तुलसीदास के रामचरितमानस और चकबस्ता के उर्दू रामायण से लेकर अन्य रचनाओं से जुड़ी है। टेलीविज़न सीरीज़ सागर आर्ट्स द्वारा निर्मित और NDTV इमेजिन पर प्रसारित की गई थी।[4][5]


रामायण (2008 टीवी धारावाहिक)
शैली धार्मिक
महाकाव्य
सर्जक आनंद सागर
लेखक उमेश चंद्र उपाध्याय
निर्देशक आनंद सागर
सितारे गुरमीत चौधरी
देबिना बनर्जी
अंकित अरोरा
अखिलेन्द्र मिश्रा
शुरुआत 'थीम' सुरेश वाडकर और कविता कृष्णमुर्थी द्वारा जय श्री राम
संगीत निर्देशक रविन्द्र जैन
निर्माण का देश भारत
मूल भाषा(एं) हिंदी
सत्र संख्या
प्रकरणों की संख्या ३००
निर्माण
कार्यकारी निर्माता राकेश जैन
निर्माता सुभास सागर
प्रेम सागर
मोती सागर
संपादक पप्पू त्रिवेदी
प्रसारण अवधि 20 minutes
निर्माण कंपनी सागर फ़िल्मस
प्रसारण
मूल चैनल इमेजिन टीवी
छवि प्रारूप
मूल प्रसारण जनवरी २१, २००७ – जून २६, २००९
कालक्रम
संबंधित कार्यक्रम रामायण (टीवी धारावाहिक)
बाह्य सूत्र
निर्माण जालस्थल

संक्षेप कथा[संपादित करें]

रामायण, अयोध्या के राजा दशरथ के सबसे बड़े पुत्र राम की कहानी कहती है। राम अपने पिता की सेवानिवृत्ति के बाद राजा बनने के अधिकारी हैं, लेकिन उनकी सौतेली माँ, कैकेयी चाहती हैं कि उनका बेटा भरत सिंहासन ग्रहण करे।

जैसा कि राजा दशरथ ने पहले उनके लिए कोई दो इच्छाएं पूरी करने का वादा किया था, कैकेयी मांग करती है कि राम को चौदह साल के लिए जंगल में भेज दिया जाए और भरत को राजा के रूप में ताज पहनाया जाए। दशरथ अपनी वचन पुरा करते है । राम ने वनवास स्वीकार किया और उनकी पत्नी माता सीता और छोटे भाई लक्ष्मण के साथ वन गये । जब भरत को पता चलता है कि राम के वनवास के लिए उसकी माँ जिम्मेदार है तो वह उसका त्याग कर देते है और राम को अयोध्या लौटने के लिए मनाने का प्रयास करते है। राम ने मना कर देते है । भरत, राम के पादुका को एक प्रतीक के रूप में सिंहासन पर बिठाते हैं कि राम सच्चे राजा हैं ।

भरत ने अगले चौदह वर्षों तक अयोध्या में राजगद्दी पर राम की चरण पादुका रखकर सेवा की। रावण, लंका का दुष्ट राजा, माता सीता का अपहरण कर लेता है, जिससे राम, लक्ष्मण, हनुमान और वानरों की वानर सेना लेकर उनको बचाने के लिए जताए है और राम को रावण का वध करते है ।

सीज़न 2 निर्वासन से लौटने के बाद राम-सीता के जीवन पर केंद्रित है, लव-कुश का जन्म और शाही परिवार के साथ उनका पुनर्मिलन और पृथ्वी से सीता और राम का अंतिम प्रस्थान।

कलाकार[संपादित करें]

अभिनेता/अभिनेत्री पात्र
गुरमीत चौधरी श्रीराम
देबिना बनर्जी सीता
अंकित अरोड़ा लक्ष्मण
विजे भाटिया भरत
ललित नेगी शत्रुघ्न
विक्रम शर्मा हनुमान
पंकज कालरा दशरथ
रजनी चंद्रा कौशल्या
संगीत कपुरे सुमित्रा
हेमाक्षी उज्जैन कैकयी
अमित पचौरी शिव
अखिलेद्र मिश्रा रावण
प्रफुल्ल पांडेय इन्द्रजीत
मीनाक्षी आर्य उर्मीला
जया ओझा मंदोदरी
विनोद कपूर विभीषण
अशोक वन्ठीया विश्वामित्र
राकेश दीवाना कुम्भकरण

संगीत[संपादित करें]

रविंद्र जैन, जिन्होंने १९७० के दशक की श्रृंखला के लिए संगीत तैयार किया था । वह एक संगीतकार के रूप में वापस लौटे । प्लेबैक गायकों में कविता सुब्रमण्यम और सुरेश वाडकर शामिल थे। श्रृंखला के 17 भजनों के साथ एक ऑडियो सीडी 2009 में जैन द्वारा गीत / संगीत के साथ और गायक सुरेश वाडकर, कविता सुब्रमण्यम, साधना सरगम, सतीश देहरा, पम्मी जैन, रवि त्रिपाठी, अमया दाते, रेखा राव, प्रेम प्रकाश, कुलदीप, सुभाष श्रीवास्तव, संचित की आवाज़ में जारी किया गया था ।[6][7]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "After success of 'Ramayan', Gurmeet & Debina's 2008 show from same makers to return;". Republic World. अभिगमन तिथि 29 जून 2020.
  2. "Ramayan के सेट पर हुए हादसे में जब बाल-बाल बची थीं सीता, आग में झुलसने से इस शख्स ने बचाया". दैनिक जागरण. मूल से 2 जून 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 जून 2020.
  3. "टीवी पर दिखी रामायण कई बार, कौन रहा हिट, कौन रहा फ्लॉप?". आज तक. मूल से 4 अप्रैल 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 जून 2020.
  4. "Ramayan 2008 Starting once again on Dangal TV". Free Dish. मूल से 12 जून 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 जून 2020.
  5. "Ramayan' to premiere on NDTV Imagine from Jan 21". वन इंडिया. अभिगमन तिथि 29 जून 2020.
  6. "अनुराधा पौडवाल से लेकर कुमार सानू तक, रामायण के लिए इन सिंगर्स ने दी आवाज". आज तक. मूल से 16 जून 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 जून 2020.
  7. "Bhajj Mann Hari Ka Naam". इण्डियन एक्सप्रेस. अभिगमन तिथि 29 जून 2020.