रामायण आरती

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित रामायण आरती वह संगीतमय प्रार्थना है जो रामचरितमानस के किसी अंश या संपूर्ण पाठ के पूरे होने पर की जाती है। इसमें रामचरितमानस की महिमा का गुणगान किया गया है।


आरती श्री रामायण जी की । कीरति कलित ललित सिय पी की ॥

गावत ब्रहमादिक मुनि नारद । बालमीकि बिग्यान बिसारद ॥ शुक सनकादि शेष अरु शारद । बरनि पवनसुत कीरति नीकी ॥1॥

आरती श्री रामायण जी की........॥

गावत बेद पुरान अष्टदस । छओं शास्त्र सब ग्रंथन को रस ॥ मुनि जन धन संतान को सरबस । सार अंश सम्मत सब ही की ॥2॥

आरती श्री रामायण जी की........॥

गावत संतत शंभु भवानी । अरु घटसंभव मुनि बिग्यानी ॥ ब्यास आदि कबिबर्ज बखानी । कागभुशुंडि गरुड़ के ही की ॥3॥

आरती श्री रामायण जी की........॥

कलिमल हरनि बिषय रस फीकी । सुभग सिंगार भगति जुबती की ॥ दलनि रोग भव मूरि अमी की । तात मातु सब बिधि तुलसी की ॥4॥

आरती श्री रामायण जी की........॥

संबंधित कड़ियाँ[संपादित करें]

बाहरी कडियाँ[संपादित करें]