रामललानहछू

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रामललानहछू कवि तुलसीदास की एक रचना है। यह अपेक्षाकृत रूप से एक लघु रचना है जिसमें श्रीराम के 'नहछू', अर्थात पैर के नाखून काटे जाने का पारंपरिक संस्कार, का वर्णन है। इसे तुलसीदास ने लोक शैली सोहर और अवधी भाषा में लिखा है। कुछ विद्वान इसे खंड काव्य का दर्जा देते हैं।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. विजय नारायण सिन्हा (1979). तुलसी के रामकथा काव्य: तुलनात्मक और विश्लेषणात्मक अध्ययन. Sanjaya Prakasana. पृ॰ 140.