रामचन्द्र दत्तात्रेय रानडे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रामचन्द्र दत्तात्रेय रानडे
Downloadrdranade.jpg
जन्म 1886 ई.
जमखंडी, बगलकोट जिला, कर्नाटक (भारत)
मृत्यु 1957 A.D.
कर्नाटक के बीजापुर के निकट निम्बालदल्लि
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय अध्यापन, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के दर्शनशास्त्र विभागाध्यक्ष के पद से सेवानिवृत हुए; इलाहाबाद विश्वविद्यालय के उपकुलपति भी रहे।
प्रसिद्धि कारण अ कॉन्स्ट्रक्टिव सर्वे ऑफ उपनिषदिक फिलॉसफी

डॉ॰ रामचन्द्र दत्तात्रेय रानडे (३ जुलाई १८८६ - ६ जून १९५७) संस्कृत के विद्वान एवं दर्शनशास्त्री थे।

परिचय[संपादित करें]

उनका जन्म ३ जुलाई १८८६ को जमखंडी नामक स्थान में हुआ। इनके पिता दत्तात्रेय रानाडे रामदुर्ग छोड़कर जमखंडी में आ बसे थे। रामचन्द्र रानडे १९०३ में डेकन कॉलेज में प्रविष्ट हुए। १९०७ में वे बी. ए. द्वितीय श्रेणीय में पास हुए। फिर प्रो॰ वुडहाऊस के सम्पर्क में आकर वे पारमार्थिक क्षेत्र में दर्शनशास्त्र का अध्ययन करते रहे। सन् १९११ में फर्ग्युसन कॉलेज में अंग्रेजी के ट्यूटर का काम स्वीकार किया। दर्शनशास्त्र लेकर सन् १९१४ में एस. ए. में प्रथम श्रेणी में प्रथम आकर उन्होंने चान्सलर का स्वर्णपदक प्राप्त किया। अब वे तत्वज्ञान के प्राध्यापक के रूप में फर्ग्युसन कॉलेज में नियुक्त हुए। सन् १९२१ में उनका स्वास्थ्य बहुत बिगड़ गया, इसलिए डी. ई. सोसायटी के सांगली कॉलेज में उनकी नियुक्ति हुई। दर्शनशास्त्र विषय में उनकी बड़ी गहरी पैठ थी तथा वे स्वयं भी एक बड़े तत्वज्ञ थे। सन् १९२४ में डी. ई. सोसायटी से उन्होंने त्यागपत्र दे दिया। 'उपनिषदों का तत्वज्ञान' नामक ग्रंथ की रचना का कार्य वे अपने पुणे में स्थित 'अध्यात्म भवन' में करते रहे।

इसी समय उन्होंने अध्यात्म विद्यापीठ की स्थापना की। इसकी परामर्शदात्री समिति में डॉ॰ जयकर, डॉ॰ राधाकृष्णन, डॉ॰ बेलवेलकर, न्यायमूर्ति भवानीशंकर नियोगी आदि थे। भारतीय दर्शन का एक विस्तृत कोशनुमा इतिहास प्रकाशित करने की १६ खण्डों की योजना बनाई गई। इसके तीन खंड प्रकाशित हो चुके हैं, जिनके नाम ये हैं-

(1) A Constructive Survey of Upanishadic Philosophy 1926.
(2) History of Indian Philosophy : Creative Period 1927.
(3) Philosophical and Other Essays, part I. 1956.

उनके अन्य ग्रंथ जो प्रकाशित हुए हें ये हैं-

1. Carlyle's Signs of Times & Characteristics 1916.
2. Mysticism in Maharashtra, 1933.
3. Path way to God in Hindi literature, 1954.
4. परमार्थ सोपान, १९५४।
5. The Conception of Spirtual life in Mahatama Gandhi & Hindu Saints, 1956

तथा मराठी में लिखे ग्रंथ-

६. ज्ञानेश्वर वचनामृत
७. संतवचनामृत
८. तुकाराम वचनामृत
९. रामदासवचनामृत
१०. एकनाथ वचनामृत
11. Mysticims in Karnataka,
12. The Bhagvadgita as a philosophy of God realisation,
13. The Vedenta as culmination of Indian Philosophical Thought, (१९२९ में कलकत्ता विश्वविद्यालय में दिए गए बसु-मलिक व्याख्यानमाला के व्याख्यानों के रूप में है)।

इसके सिवा दर्जनों स्फुट लेख और निबन्ध पत्रपत्रिकाओं में दार्शनिक विचारों पर प्रकाशित हुए हैं। १९२२ से १९२७ तक निंवाद में रहकर अनेक दार्शनिक ग्रंथों का उन्होंने निर्माण किया। निंबाद में उन्होंने अध्यात्म विद्यापीठ स्थापित किया था।

१ दिसम्बर, १९२७ को दर्शन विभाग के अध्यक्ष तथा प्रोफेसर के रूप में इलाहाबाद विश्वविद्यालय में नियुक्त हुए। बीस साल तक इस पद को उन्होंने विभूषित किया। बाद में वे वाइसचांसलर भी बने। निवृत्त हो जाने पर २६ अक्टूबर १९४७ में सांगली में अध्यात्म विद्यामंदिर की स्थापना की। ६ जून १९५७ को उनका स्वर्गवास हो गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]