रामचन्द्रसूरि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रामचन्द्र सूरि एक जैन आचार्य थे जिन्होंने संस्कृत मे नाटकों की रचना की थी।

समय[संपादित करें]

रामचन्द्र सुरि का जन्म संवत १११० और मृत्यु संवत ११७३ को हुए थीं। सिद्धराज जयसिंह से इनकी मुलाकात संवत ११३५ में धाराविजय के समय हुई थी।

राज्याश्रय[संपादित करें]

रामचन्द्र सुरि को सिद्धराज जयसिंह और कुमारपाल का राज्याश्रय प्राप्त था। रामचन्द्र सुरि के के गुरु जैन आचार्य हेमचंद्र थे।

रुपक[संपादित करें]

  • सत्यहरिश्चन्द्र नाटक - पुराणों आधारित इस नाटक में हरिश्चन्द्र की कथा दी गई है।
  • नलविलास नाटक - महाभारत आधारित इस कथा में दमयंती विवाह से नल को पुनः राज्यप्राप्ति का वर्णन मिलता है।
  • रघुविलास नाटक - राम वनवास से रावण वध की कथा दी गई है।
  • राघवाभ्युदय नाटक - इसमें सीता स्वयंवर से रावण वध की कथा दी गई है।
  • यादवाभ्युदय नाटक - इसमें कंसवघ , जरासंघ वघ और कृष्ण के अभिषेक की कथा दी गई है।
  • यदुविलास नाटक - यह नाटक अप्राप्य है।
  • कौमुदीमित्रानंद प्रकरण - कौमुदी और मित्रानंद के विवाह की कथा इसमे दी गयी हैं।
  • रौहिणीमृगांक प्रकरण - यह नाटक अप्राप्य है।
  • मल्लिकामकरंद प्रकरण - कथासरित्सागर के कथानक अनुसार इस नाटक में मल्लिका और मकरंद का विवाह होता है।
  • निर्भयभीम व्यायोग - इसमें भीम द्वारा वनवास में बकासुर को मारने की कथा है।
  • वनमाला नाटिका - यह नाटक अप्राप्य है।

काव्य[संपादित करें]

  • सुधाकलश - १३०० श्लोक का सुभाषित ग्रंथ
  • कुमारविहार शतक - राजा कुमारपाल की प्रशस्ति।

शास्त्र[संपादित करें]

  • नाट्यदर्पण (गुणभद्र के साथ) - ४ विवेक और २३९ कारिका का नाट्य विषयक ग्रंथ।
  • द्रव्यालंकार - जैन न्याय विषयक ग्रंथ।
  • हेमबृहत्वृत्तिन्यास - व्याकरण विषयक ग्रंथ।

मृत्यु[संपादित करें]

अजयपाल राज्य प्राप्ति हेतु कुमारपाल और आचार्य हेमचंद्र को विष देकर मार डाला और अजयपाल ने सिंहासन हेतु संवत ११७३ को रामचन्द्र को मार डाला।