रामखेलावन मिश्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रामखेलावन मिश्र
जन्म मार्च 25, 1909
इंजुवारामपुर कानपुर
मृत्यु सितम्बर 02,1982
इंजुवारामपुर कानपुर
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय शिक्षक ,सामाजिक कार्यकर्ता
प्रसिद्धि कारण प्रधान ,सामाजिक कार्यकर्ता
जीवनसाथी रेणुका देवी
बच्चे तीन पुत्र

रामखेलावन मिश्र (जन्म मार्च 25.1909--मृत्यु सितम्बर ०2,1982) जन्म से क्रन्तिकारी विचारों के थे। इनका जन्म ब्रिटिश साम्राज्य भारत के यूनाइटेड प्रोविंस (उत्तर प्रदेश ) के कानपुर जिले के ग्राम इंजुवारामपुर (इन्जुआरामपुर)[1] में मार्च २५ ,१९०९ को हुआ।

जीवन परिचय[संपादित करें]

इनके पिता नाम नन्हा था। वर्ष 1926 में इन्होने मिडिल स्कूल डेरापुर , कानपुर वर्तमान में डेरापुर, कानपुर देहात से वर्नाक्यूलर फाइनल परीक्षा उत्तीर्ण की। वर्ष १९२७ में रेणुका देवी से विवाह हुआ। इसी वर्ष प्राइमरी स्कूलमें शिक्षक बने।

क्रांतिकारी[संपादित करें]

चूँकि यह बचपन से ही क्रांतिकारी विचारों के थे इसलिए शिक्षण कार्य में मन नहीं लगा और शिक्षण कार्य से त्याग पत्र देकर भारत में चल रही आजादी की लड़ाई में कूद पड़े। वर्ष १९४२ में ब्रिटिश साम्राज्य के विरुद्ध इनका जन जागरण अभियान बहुत उग्र था। गांव के समीप से जाने वाली उत्तरी रेलवे के किनारे टेलीफोन लाइन का लगभग २०० मीटर तार काट कर भूमिगत हो गए। इसी बीच जुरिया के शिवराम पाण्डेय ,बड़ागांव भिक्खी के शम्भू दयाल चतुर्वेदी और बहिरी उमरी के शिशुपाल सिंह और कठारा के जंग बहादुर सिंह आजादी के इस अभियान में कूद कर ब्रिटिश सरकार को ललकारा और रेलवे की संचार व्यवस्था ठप्प कर दी।

समकालीन क्रांतिकारी[संपादित करें]

  1. शिवराम पाण्‍डे  : भारत के स्वतंत्र होने पर डेरापुर विधान सभा क्षेत्र से प्रथम विधायक निर्वाचित हुए।[2] [3]
  2. जंग बहादुर सिंह :भारत के स्वतंत्र होने पर कानपुर जिला बोर्ड के प्रथम चेयरमैन निर्वाचित हुए।
  3. राम खिलावन मिश्र ::भारत के स्वतंत्र होने पर ग्राम के प्रथम प्रधान बने।
  4. शम्भू दयाल चतुर्वेदी : ग्राम के प्रधान एवं डेरापुर ब्लॉक के प्रथम ब्लॉक प्रमुख बने।
  5. शिशुपाल सिंह कुशवाह : कानपुर जिला बोर्ड के सदस्य बने।

समाज सेवा[संपादित करें]

भारत के स्वतंत्र होने पर ग्रामवासियों ने उन्हें सर्व सम्मति से प्रधान चुन लिया। दूसरी बार भी ग्रामवासियों ने प्रधान बनाना चाहा परन्तु इन्होने अस्वीकार कर दिया।

मृत्यु[संपादित करें]

जनता की सेवा करते हुए २ सितम्बर १९८२ को उनका देहांत हो गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://kanpurdehat.nic.in/villagelist.htm
  2. http://uplegisassembly.gov.in/Assemblywise_members_hindi.aspx?AssNo=1
  3. "Statistical Report on General Election, 1951 to the Legislative Assembly of Uttar Pradesh" (PDF). Election Commission of India. Archived (PDF) from the original on 7 October 2010.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]