रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय, जबलपुर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय

स्थापित1956
प्रकार:सार्वजनिक
कुलाधिपति:मध्य प्रदेश के राज्यपाल
कुलपति:कपिल देव मिश्र[1]
अवस्थिति:जबलपुर, मध्य प्रदेश, भारत
परिसर:नगरीय
अन्य नाम:जबलपुर विश्‍वविद्यालय
सम्बन्धन:यूजीसी
जालपृष्ठ:www.rdunijbpin.org


रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में स्थित है। विगत दो वर्षों में यहां हुए भ्रष्टाचार और आर्थिक अनियमितताओं के कारण इस विश्वविद्यालय की गिनती देश के भ्रष्टतम विश्वविद्यालयों में होती है।[1] राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) ने इस विश्वविद्यालय को बी ग्रेड की श्रेणी में रखा है। वर्तमान में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. कपिल देव मिश्रा है।[2]

इतिहास[संपादित करें]

रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में स्थित है। सन 1983 में मध्य प्रदेश सरकार ने जबलपुर विश्वविद्यालय का नाम बदलकर रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय कर दिया। रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय की स्थापना 12 जून 1956 को हुई थी। यह यूनिवर्सिटी मध्य प्रदेश की सबसे पुरानी यूनिवर्सिटी है। इस यूनिवर्सिटी में कम्प्यूटर सेंटर, हॉस्टल, गेस्ट हाऊस, लाइब्रेरी, हेल्थ केयर सेंटर आदि सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय (आरडीवीवी) अपने विद्यार्थियों को प्लेसमेंट का मौका भी देती है। रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय से जबलपुर मध्य प्रदेश के बहुत से महाविद्यालयों को मान्यता प्राप्त है।[3]

रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय देश की सबसे पिछड़ी यूनिवर्सिर्टी की लिस्ट में शामिल हो गई है। वर्ष 2019 में नेशनल इंस्टीट्यूशन रैंकिंग फ्रेमवर्क (NIRF) ने रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय को सभी श्रेणी से बाहर कर दिया है। नैक (NAAC) की नजरों में भी यूनिवर्सिटी की साख गिरी है। नैक ग्रेडिंग में यूनिवर्सिटी का स्कोर बी ग्रेड है। विगत वर्षों में यहां हुए भ्रष्टाचार के कारण यूनिवर्सिटी का फ्यूचर प्लान बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।[4]

कैंपस[संपादित करें]

विश्वविद्यालय परिसर में एक प्रशासनिक ब्लॉक, कला संकाय भवन, भौतिकी, रसायन विज्ञान, गणित, जैव विज्ञान, प्रणाली विज्ञान और शारीरिक शिक्षा विभागों के शिक्षण और अनुसंधान भवन आदि स्थित है। इसमें एक केंद्रीय पुस्तकालय, कंप्यूटर सेंटर, यूएसआईसी, प्रबंधन संस्थान विश्वविद्यालय, विधि विभाग विश्वविद्यालय और अन्य सुविधाएं जैसे लड़को और लडिकियों के हॉस्टल, यूनिवर्सिटी हेल्थ सेंटर, यूनिवर्सिटी गेस्ट हाउस, कैंटीन और आवासीय क्वार्टर बने हुए हैं। कैंपस में पोस्ट ऑफिस, बैंक और प्रिंटिंग प्रेस जैसी अन्य सुविधाएं भी हैं।

उल्लेखनीय शिक्षक और शिक्षाविद[संपादित करें]

  • कुन्जी लाल दुबे - जो बाद में म.प्र. के विधानसभा स्पीकर बने, विश्वविद्यालय के पहले कुलपति थे।
  • रहीस बिहारी द्विवेदी - संस्कृत विभाग के पूर्व प्रमुख, उन्हें वर्ष 2012 में संस्कृत में राष्ट्रपति के सम्मान पत्र से सम्मानित किया गया था।[2]

संबद्ध संस्थान[संपादित करें]

निम्न उल्लेखनीय संस्थान जो विश्वविद्यालय मे शामिल हैं:[3]

  • सेंट एलॉयसियस कॉलेज
  • माता गुजरी महिला महाविद्यालय
  • नवयुग कॉलेज
  • खालसा कॉलेज

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Officers and Heads of Department-Rani Durgavati Vishwavidyalaya, Jabalpur M.P." www.rdunijbpin.org (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 26 November 2017.
  2. "President Patil gives away awards to Sanskrit, Persian, Arabic, Pali Prakrit scholars". WebIndia123. 20 June 2012. अभिगमन तिथि 18 October 2012.
  3. "List of colleges affiliated with RDVV" (PDF). rdunijbpin.org (Hindi में). अभिगमन तिथि 2 January 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]