रानी कीड़ा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रानी कीड़ा
Red velvet mites
Trombidium.spec.1706.jpg
रानी कीड़ा
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: Animalia
संघ: Arthropoda
उपसंघ: Chelicerata
वर्ग: Arachnida
उपवर्ग: Acari
गण: Trombidiformes
उपगण: Prostigmata
अधिकुल: Trombidioidea
कुल: Trombidiidae
छत्तीसगढ़ के बाजार में सूखे हुए रानी कीड़े

रानी कीड़ा (Red velvet mites) जमीन में पाये जाने वाले कीट हैं जो अपने चमकीले लाल रंग से पहचाने जाते हैं। कुछ लोग इन्हें मकड़ी समझने की भूल कर बैठते हैं। इन्हें छत्तीसगढ़ में 'रानी कीड़ा' , ओडीशा में 'साधव बाव', उत्तर भारत के अनेक भागों में 'भगवान की बुढ़िया', तेलुगु में 'अरुद्र', तमिल में 'पट्टु पापाती' कहते हैं।

भारत में इसे दवा के रूप में प्रयोग किया जाता है।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]