राणा कपूर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
राणा कपूर
Rana Kapoor, CEO of Yes bank, at the World Economic Forum on India 2012.jpg
2012 में राणा कपूर
जन्म 9 सितम्बर 1957 (1957-09-09) (आयु 65)[1]
नई दिल्ली, भारत
आवास मुंबई, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
शिक्षा प्राप्त की दिल्ली विश्वविद्यालय
रटगर्स यूनिवर्सिटी
पदवी सह-संस्थापक, येस बैंक
जीवनसाथी बिन्दू कपूर
बच्चे 3 पुत्रियाँ

राणा कपूर (जन्म 9 सितंबर 1957) एक भारतीय बैंकर tha। वह येस बैंक के संस्थापक और पूर्व प्रबंध निदेशक और सीईओ हैं। जिसका पंजीकृत कार्यालय मुंबई में स्थित है,

1980 में, कपूर एक प्रबंधन प्रशिक्षु के रूप में बैंक ऑफ अमेरिका (BoA) में शामिल हो गए। 1996 में, कपूर महाप्रबंधक और देश के प्रमुख के रूप में एएनजी ग्राइंडलेस इनवेस्टमेंट बैंक (ANZIB) में शामिल हुए।[2] 1998 तक उन्होंने दो साल तक वहां काम किया।

फरवरी 1995 में, रबोबैंक की एक टीम नये अवसरों के तलाश में भारत पहुंची। कपूर, उनके बहनोई अशोक कपूर और हरकीरत सिंह ने दो संयुक्त उपक्रमों के लिए मेहमान टीम के सामने प्रस्ताव रखा: एक गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी और एक बैंक। अगले वर्ष के दौरान, कपूर ने भारत, सिंगापुर और नीदरलैंड में रबोबैंक के अधिकारियों के साथ कई बैठकें कीं। एनबीएफसी की स्थापना 1997 में की गई थी, जिसमें तीन भारतीय साझेदारों ने 9 करोड़ की इक्विटी पूंजी के साथ निवेश किया था। 2003 में, तीनों ने 10 मिलियन डॉलर में अपनी हिस्सेदारी बेची, जिससे बैंक के लिए बीज कोष तैयार हुआ। 2003 में, भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा येस बैंक की स्थापना के लिए टीम को बैंकिंग लाइसेंस प्रदान किया गया था। उन्होंने 2015 तक "भारत में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाले बैंक का निर्माण" की दृष्टि से यस बैंक की स्थापना की। राणा कपूर के पास यस बैंक में 26%, अशोक कपूर के पास 11% और राबोबैंक इंटरनेशनल के पास 20% हिस्सेदारी है।[3] 2008 में मुंबई में 26/11 हमले में अशोक कपूर की मृत्यु हो गई।[4]

2005 में, कपूर को "अर्न्स्ट एंड यंग का स्टार्ट-अप एंटरप्रेन्योर ऑफ द ईयर" नामित किया गया था।[5]

जनवरी 2017 में, ब्लूमबर्ग के अनुसार येस बैंक के बढ़ते शेयर मूल्य के साथ, कपूर एक अरबपति बन गए थे।[6]

सितंबर 2018 में, यस बैंक ने घोषणा की कि उन्होंने जनवरी 2019 में कपूर को अपने सीईओ के पद से हटने का आदेश दिया है। जुलाई 2019 में, टाइम्स ऑफ इंडिया ने बताया कि अगस्त 2018 से यस बैंक के शेयर की कीमत में 78% की गिरावट के साथ, कपूर का नेट मूल्य एक अरब डॉलर से अधिक 377 मिलियन तक गिर गया था।

8 मार्च 2020 को, प्रवर्तन निदेशालय ने उनके खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया और उन्हें इसके लिए गिरफ्तार कर लिया गया।[7]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Geoff Hiscock (2007). India's global wealth club (illustrated संस्करण). John Wiley and Sons. पृ॰ 255. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-470-82238-8.
  2. "Lunch with BS: Rana Kapoor". Business Standard. 8 March 2005. मूल से 5 अक्तूबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-06-20.
  3. "Rana Kapoor to exit Rabo, take up Yes Bank reins". Rediff.com. 2003-11-06. मूल से 4 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-06-20.
  4. "Late Ashok Kapur". Times Of India. 28 Nov 2008. मूल से 3 जनवरी 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 August 2012.
  5. "'The harder you work, the luckier you get'". Rediff.com. 2010-03-15. मूल से 11 अगस्त 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-06-20.
  6. Sterling Wong. "India Just Got a New Billionaire Thanks to Soaring Bank Shares". Bloomberg. मूल से 27 अप्रैल 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-01-28.
  7. "यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को ED ने किया गिरफ्तार, DHFL को दिया था 3000 करोड़ का 'बैड' लोन!". NDTVIndia. अभिगमन तिथि 8 मार्च 2020.