राज बहादुर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

राज बहादुर (1912 -1990) वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता थे, जो राजस्थान राज्य से भारत की संविधान सभा का सदस्य चुने गए थे। स्वतंत्रता के बाद, वह भारत के प्रथम पर्यटन मंत्री बने।

जीवन परिचय[संपादित करें]

राज बहादुर का जन्म 21 अगस्त 1912 को भरतपुर में हुआ था। उन्होंने St.जॉन कालेज, महाराजा महाविद्यालय, जयपुर से शिक्षा प्राप्त की। स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान वह कांग्रेस पार्टी में शामिल हों गए। संविधान निमार्ण के दौरान उन्हें भारत की संविधान सभा का सदस्य चुना गया।

(7 दिसंबर 1956 - 17 अप्रैल 1957) तक उन्होंने संचार मंत्री के रूप में पदभार संभाला। 1957, 1962, 1971 के संसदीय चुनावों में वह भरतपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से तीन बार सांसद चुने गए। लेकिन 1967,1977 के चुनावों में उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

(31 जुलाई 1965 - 24 जनवरी 1966) तक उन्होंने भारत के पहले पयर्टन मंत्री के रूप में तथा नागरिक उड्डयन मंत्री के रूप में कार्य किया। वह (1968 - 71) तक नेपाल के राजदूत नियुक्त किए गए।

(8 नवम्बर 1973 - 11 जनवरी 1974) तक उन्होंने दूसरी बार संचार मंत्री का पदभार संभाला और (9 नवम्बर 1973 - 22 दिसंबर 1976) तक दूसरी बार पर्यटन मंत्री तथा नागरिक उड्डयन मंत्री का पदभार संभाला।

1977 के संसदीय चुनाव हार जाने के बाद उन्होंने राजस्थान असेम्बली में दांव अज़माया। 1980 में वह भरतपुर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से राजस्थान असेम्बली के सदस्य निर्वाचित हुए। 1985 में राजनीति से सेवानिवृत्त लेने पर वह साधारण जीवन व्यतीत करने लगे, और 22 सितंबर 1990 को दिल्ली में उनका निधन हो गया।