राजू बन गया जेंटलमैन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
राजू बन गया जेंटलमैन
राजू बन गया जेंटलमैन.jpg
राजू बन गया जेंटलमैन का पोस्टर
निर्देशक अज़ीज़ मिर्ज़ा
निर्माता जी॰ पी॰ सिप्पी
विवेक बासवानी
लेखक मनोज लालवानी
अज़ीज़ मिर्ज़ा
अभिनेता शाहरुख़ ख़ान,
अमृता सिंह,
जूही चावला,
नाना पाटेकर,
संगीतकार जतिन-ललित
प्रदर्शन तिथि(याँ) 13 नवम्बर, 1992
देश भारत
भाषा हिन्दी

राजू बन गया जेंटलमैन 1992 में बनी हिन्दी भाषा की हास्य प्रेमकहानी फिल्म है। शाहरुख खान, जूही चावला, नाना पाटेकर और अमृता सिंह अभिनीत इस फिल्म के अधिकार शाहरुख की रेड चिलीज़ एंटरटेनमेंट के स्वामित्व में हैं।

संक्षेप[संपादित करें]

राज माथुर (शाहरुख खान) युवा व्यक्ति है जिसने दार्जिलिंग से इंजीनियरिंग की है और एक बड़ा इंजीनियर बनने के लिए बम्बई आता है। बम्बई में, वह एक दूर के रिश्तेदार की तलाश में निचले मध्यम वर्ग के इलाके में आता है। पता चलता है कि उस रिश्तेदार ने कई साल पहले ही जगह छोड़ दी है। वह रात एक मंदिर में बिताता है, जहां वह सड़क पर प्रस्तुति देने वाले जय (नाना पाटेकर) से मिलता है, जो एक करीबी दोस्त बन जाता है और उसे रहने के लिए एक जगह देता है।

बिना किसी संपर्क और अनुभव के, उसे शहर में नौकरी पाने में कठिनाई होती है। एक सुंदर लड़की रेणु (जूही चावला), उसे निर्माण कंपनी के साथ प्रशिक्षु के रूप में नौकरी दिलाती है। जहां वह छाबड़िया (नवीन निश्चल) के सचिव के रूप में काम करती है। वे अंततः एक-दूसरे के साथ प्यार में पड़ जाते हैं।

जैसे ही वह सफल हो जाता है, वह छाबड़िया की बेटी सपना (अमृता सिंह) के ध्यान में आता है। वे एक साथ अधिक से अधिक समय बिताते हैं और जल्द ही वह अमीरों की और ग्लैमरस जीवनशैली में आ जाता है। सपना राजू के साथ प्यार में पड़ जाती है, लेकिन जब उसे पता चला कि वह रेणु से प्यार करता है, तो उसका दिल टूट जाता है।

इस बीच, राजू के दुश्मन उसके खिलाफ साजिश कर रहे थे और वे राजू की देखरेख वाले एक पुल को गिरा देते हैं। उसे दोष मिल जाता है और उसे जल्द ही यह महसूस होता है कि अमीरों की ग्लैमरस दुनिया वह नहीं चाहता है। वह और रेणु आखिरकार फिर से मिल जाते हैं।

फिल्म की कहानी राज कपूर की श्री 420 पर आधारित है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

इस एल्बम का संगीत "लवेरिया हुआ", "दिल है मेरा दीवाना" और "सीने में दिल है" जैसे गीतों के साथ हिट रहा था।

सभी जतिन-ललित द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."दिल है मेरा दीवाना"देव कोहलीकुमार सानु6:11
2."कहती है दिल की लगी"विनोद महेन्द्रकुमार सानु, अलका याज्ञनिक6:47
3."क्या हुआ (लवेरिया हुआ)"विनोद महेन्द्रकुमार सानु, जॉली मुखर्जी, अलका याज्ञनिक5:28
4."राजू बन गया जेंटलमैन"देव कोहलीकुमार सानु, जॉली मुखर्जी, सुदेश भोंसले, साधना सरगम5:33
5."राजू बन गया जेंटलमैन" (दुखद संस्करण)देव कोहलीसाधना सरगम2:05
6."सीने में दिल है"मदन पालकुमार सानु, अलका याज्ञनिक6:12
7."ठम ठम ठम"मनोज दर्पणअलका याज्ञनिक, कुमार सानु4:35
8."तू मेरे साथ साथ"महेन्द्र देहलवीअलका याज्ञनिक, कुमार सानु4:40

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

प्राप्तकर्ता और नामांकित व्यक्ति पुरस्कार वितरण समारोह श्रेणी परिणाम
मनोज लालवानी, अज़ीज़ मिर्ज़ा फिल्मफेयर पुरस्कार फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पटकथा पुरस्कार जीत
नाना पाटेकर फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार नामित

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]