राजिन्दर सच्चर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
राजिन्दर सच्चर
Rajinder sachar.jpg
जन्म २२ दिसम्बर १९२३
मृत्यु 20 अप्रैल 2018(2018-04-20) (उम्र 94)
दिल्ली, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय वकील, न्यायाधीश
प्रसिद्धि कारण नागरिक अधिकार गतिविधि

राजिन्दर सच्चर(22 दिसंबर 1923 – 20 अप्रैल 2018) दिल्ली उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश थे। वे 6 अगस्त, से 22 दिसंबर, 1985 तक दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रहे। सेवानिवृत्ति के बाद वह पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबरटीज नामक एक प्रमुख मानवाधिकार समूह के साथ जुड़ गए थे। वे भारत सरकार द्वारा वर्ष 2005 में भारत के मुस्लिम समुदाय की सामाजिक, आर्थिक व शैक्षणिक स्थिति का आकलन करने के लिए गठित सच्चर समिति के अध्यक्ष थे।[1] [2]

यह भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. चिस्ती, सीमा (21 अप्रैल). "Rajindar Sachar (1923-2018): Man of convictions, not shy of a fight for what is right" [राजिंदर सच्चर (1923-2018): दृढ़ निश्चयी व्यक्ति, सच्चाई के लिए लड़ी गयी एक लड़ाई में शर्मिंदा नहीं]. दी इंडियन एक्स्प्रेस (अंग्रेज़ी में). मूल से 25 अप्रैल 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 अप्रैल 2018. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. सच्चर, राजिन्दर (31 अगस्त 1978). "Committee Report of the High-Powered Committee on Companies and MRTP Acts, 1978" [कंपनी एवं एमआरटीपी अधिनियम, 1978 पर उच्चस्तरीय समिति की रिपोर्ट] (PDF) (अंग्रेज़ी में). कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय. मूल (PDF) से 3 अगस्त 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 अप्रैल 2018.