राजपूत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(राजपूत राजवंश से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
राजपूत

Rajpoots 2.png

इलस्ट्रेटेड लंदन न्यूज़ से ली गयी, दिल्ली के राजपूतों की नक्काशी
धर्म हिन्दू, इस्लाम और सिख[1][2][3][4]
भाषा हिन्दी, हरियाणवी, मारवाड़ी, मेवाड़ी, भोजपुरी,[5] गुजराती, सिन्धी,[6] सिन्धी, पंजाबी, उर्दू, बुंदेली, मराठी, छत्तीसगढ़ी, ओड़िया, डोगरी और पहाड़ी
क्षेत्र राजस्थान, हरियाणा, गुजरात, उत्तर प्रदेश, पूर्वी पंजाब, पश्चिमी पंजाब, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, जम्मू और कश्मीर, आज़ाद कश्मीर, बिहार, ओडिशा, झारखण्ड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र,[7] और सिंध

राजपूत (संस्कृत से राजा-पुत्र, "राजा का पुत्र" अथवा "जागिरदार अथवा क्षत्रिय प्रमुख की संतान)[8][9][10][11][12] भारतीय उपमहाद्वीप से उत्पत्ति वाले वंशों की वंशावली है जिसमें विचारधारा और सामाजिक स्थिति के साथ स्थानीय समूह और जातियों की विशाल बहुघटकी समूह शामिल हैं। राजपूत शब्द में योद्धाओं से सम्बंधित विभिन्न पितृवंशात्मक गोत्र शामिल हैं: विभिन्न गोत्र स्वयं के राजपूत होने का दावा करती हैं यद्यपि सभी को सार्वभौमिक रूप से स्वीकृत नहीं किया जाता।[13][14][15][16]

मूल शब्द राजपुत्र ( "एक राजा का पुत्र") पहली बार कई प्राचीन ग्रंथों, वेदों, में दिखाई देता है, जिसमें राजा, शाही अधिकारियों और अरस्तू के लिए शाही पदनाम हैं। [17] [18]

हर्षवर्धन के उपरान्त भारत में भारत में बस एक ही शक्तिशाली वंश पैदा हुआ था जिसने पूरे भारत पर राज किया हो और वह वंश था, गुर्जर-प्रतिहार राजवंश के समाप्त होने के बाद, इस युग में भारत अनेक छोटे बड़े राज्यों में विभाजित हो गया जो आपस मे लड़ते रहते थे। इनके राजा 'राजपूत'(राजपुत्र का भ्रष्ट शब्द) कहलाते थे तथा सातवीं से बारहवीं शताब्दी के इस युग को 'राजपूत युग' कहा गया है।

11वीं सदी में, "राजपुत्र" शब्द को शाही आधिकारिकों के लिए गैर-वंशानुगत पदनाम के रूप में सामने आया। धीरे-धीरे राजपूत शब्द विभिन्न संजातियता और भौगोलिक पृष्ठभूमि वाले लोगों का सामाजिक समूह बन गया। 16वीं और 17वीं सदी में यह समूह बड़े स्तर पर वंशानुगत हो गया, यद्यपि राजपूत होने के नये दावे बाद की सदियों में भी जारी रहे। विभिन्न राजपूत-शाषित राज्यों ने 20वीं सदी तक उत्तर और मध्य भारत के विभिन्न क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई।

राजपूत जनसंख्या और पूर्व राजपूत राज्य उत्तर, पश्चिमी, मध्य और पूर्वी भारत के साथ दक्षिणी और पूर्वी पाकिस्तान में पाये जाते हैं। इन क्षेत्रों में राजस्थान, हरियाणा, गुजरात, पूर्वी पंजाब, पश्चिमी पंजाब, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, जम्मू, उत्तराखण्ड, बिहार, मध्य प्रदेश और सिंध,महाराष्ट्र,मध्य प्रदेश,छत्तीसगढ़ शामिल हैं।

इतिहास

राजपूतों की उत्पत्ति

हर्षवर्धन के उपरान्त भारत में कोई भी ऐसा शक्तिशाली राजा नहीं हुआ जिसने भारत के वृहद भाग पर एकछत्र राज्य किया हो। इस युग में भारत अनेक छोटे बड़े राज्यों में विभाजित हो गया जो आपस मे लड़ते रहते थे। इनके राजा 'राजपूत' कहलाते थे तथा सातवीं से बारहवीं शताब्दी के इस युग को 'राजपूत युग' कहा गया है।[19] राजपूतों की उत्पत्ति के सम्बन्ध मे इतिहास में कई मत प्रचलित हैं।

विदेशी उत्पत्ति

इसे मानने वाले राजपूतों की उत्पत्ति अग्निकुंड से उत्पन्न बताते हैं। यह अनुश्रति पृथ्वीराजरासो (चंदरबरदाई कृत) के वर्णन पर आधारित है। चंदबरदाई लिखते हैं कि परशुराम द्वारा क्षत्रियों के सम्पूर्ण विनाश के बाद ब्राह्मणों ने आबू पर्वत पर यज्ञ किया व यज्ञ कि अग्नि से चौहान, परमार, गुर्जर प्रतिहारसोलंकी राजपूत वंश उत्पन्न हुए।[20] पृथ्वीराजरासो के अतिरिक्त 'नवसाहसांक' चरित, 'हम्मीररासो', 'वंश भास्कर' एवं 'सिसाणा' अभिलेख में भी इस अनुश्रति का वर्णन मिलता है। कथा का संक्षिप्त रूप इस प्रकार है- 'जब पृथ्वी दैत्यों के आतंक से आक्रान्त हो गयी, तब महर्षि वशिष्ठ ने दैत्यों के विनाश के लिए आबू पर्वत पर एक अग्निकुण्ड का निर्माण कर यज्ञ किया। इस यज्ञ की अग्नि से चार योद्धाओं- प्रतिहार, परमार, चौहान एवं चालुक्य की उत्पत्ति हुई। भारत में अन्य राजपूत वंश इन्हीं की सन्तान हैं।

विदेशी उत्पत्ति के समर्थकों में महत्त्वपूर्ण स्थान कर्नल जेम्स टॉड का है। इनके अनुसार राजपूत वह विदेशी जातियाँ है जिन्होंने भारत पर आक्रमण किया था। अग्निवंशी को हूण को क्षत्रिय का दर्जा देने के लिए गढ़ा गया था वे राजपूतों को विदेशी सीथियन जाति की सन्तान मानते हैं।कुछ इतिहासकार विदेशियों के हिंदू समाज में विलय हेतु यज्ञ द्वारा शुद्धिकरण की पारम्परिक घटना के रूप मे देखते हैं।[21][22] तर्क के समर्थन में टॉड ने दोनों जातियों (राजपूत एवं सीथियन) की सामाजिक एवं धार्मिक स्थिति की समानता की बात कही है। उनके अनुसार दोनों में रहन-सहन, वेश-भूषा की समानता, मांसाहार का प्रचलन, रथ के द्वारा युद्ध को संचालित करना, याज्ञिक अनुष्ठानों का प्रचलन, अस्त्र-शस्त्र की पूजा का प्रचलन आदि से यह प्रतीत होता है कि राजपूत सीथियन के ही वंशज थे।[23]

विलियम क्रुक ने 'कर्नल जेम्स टॉड' के मत का समर्थन किया है। 'वी.ए. स्मिथ' के अनुसार शक तथा कुषाण जैसी विदेशी जातियां भारत आकर यहां के समाज में पूर्णतः घुल-मिल गयीं। इन देशी एवं विदेशी जातियों के मिश्रण से ही राजपूतों की उत्पत्ति हुई। भारतीय इतिहासकारों में 'ईश्वरी प्रसाद' एवं 'डी.आर. भंडारकर' ने भारतीय समाज में विदेशी मूल के लोगों के सम्मिलित होने को ही राजपूतों की उत्पत्ति का कारण माना है। भण्डारकर तथा कनिंघम के अनुसार राजपूत विदेशी थे।[24]

स्थानीय उत्पत्ति

इसके विपरीत, चिन्ता राम विनायक वैद्य ने यह साबित करने का प्रयास किया कि राजपूत प्राचीन भारत के क्षत्रियों के समान थे।ओझा भी मानते थे कि राजपूत प्राचीन काल के क्षत्रियों के वंशज थे।[25][26] ओझा का मानना ​​था कि मनुस्मृति में  कई विदेशी समूह क्षत्रिय थे, लेकिन ब्राह्मणों को संरक्षण नहीं देने और ब्राह्मणों से दूर  रहने के है  के कारण शूद्र बन गए दशरथ शर्मा, डॉ. गौरी शंकर ओझा एवं चिन्तामण विनायक वैद्य अग्निवंश को मात्र काल्पनिक मानते हैं। अग्निवंश सिंधुराज के दरबारी कवि द्वारा गढ़ा गया था [27] राजपूत   प्राचीन क्षत्रिय के वंशज हैं  । राजपूत बिना किसी हिचकिचाहट के पारंपरिक वंशावली को अपनी विरासत  के हिस्से के रूप में स्वीकार करते हैं, और जो  उनके समारोहों (चारणों, बारहठों, बदवाओं, भाटों आदि) द्वारा उन्हें औपचारिक अवसरों पर मिलती है ।[28]

स्थानीय उत्पत्ति के समर्थक राजतरंगिणी का उद्धरण भी देते हैं जिसमें 36 क्षत्रिय कुलों का वर्णन मिलता है।[29]

मूल भारतीय उत्पत्ति

हाल के शोध से पता चलता है कि राजपूत विभिन्न जातीय और भौगोलिक पृष्ठभूमि के साथ-साथ शूद्रों सहित वर्णों से आए थे। .[30] मूल शब्द "राजपुत्र" (शाब्दिक रूप से "एक राजा का पुत्र") पहली बार 11 वीं शताब्दी के संस्कृत शिलालेखों में शाही अधिकारियों के पदनाम के रूप में दिखाई देता है। कुछ विद्वानों के अनुसार, यह एक राजा के तत्काल रिश्तेदारों के लिए आरक्षित था; अन्य लोगों का मानना ​​है कि इसका उपयोग उच्च श्रेणी के पुरुषों के एक बड़े समूह द्वारा किया गया था। व्युत्पन्न शब्द "राजपूत" का अर्थ 15 वीं शताब्दी से पहले 'घुड़सवार', 'टुकड़ी', 'एक गांव का मुखिया' या 'अधीनस्थ प्रमुख' था। जिन व्यक्तियों के साथ 15 वीं शताब्दी से पहले "राजपूत" शब्द जुड़ा हुआ था, उन्हें वर्ण-जाति ("मिश्रित जाति का मूल") और क्षत्रिय से हीन माना जाता था। समय के साथ, "राजपूत" शब्द एक वंशानुगत राजनीतिक स्थिति को निरूपित करने के लिए आया था, जो जरूरी नहीं कि बहुत उच्च था: यह पद रैंक-धारकों की एक विस्तृत श्रृंखला को निरूपित कर सकता है, जो राजा के वास्तविक पुत्र से लेकर सबसे कम-भूमि वाले भू-स्वामी तक होता है।[31][32][33][34]अत:, राजपूत पहचान एक साझा वंश का परिणाम नहीं है। बल्कि, यह तब सामने आया जब मध्ययुगीन भारत के विभिन्न सामाजिक समूहों ने क्षत्रिय स्थिति का दावा करके अपनी नई अधिग्रहीत राजनीतिक शक्ति को वैध बनाने की मांग की। इन समूहों ने अलग-अलग समय पर, अलग-अलग तरीकों से राजपूत के रूप में पहचान शुरू की। इस प्रकार, आधुनिक विद्वानों ने संक्षेप में कहा कि राजपूत आठवीं शताब्दी के बाद से "एक खुली स्थिति का समूह" थे, जो ज्यादातर अनपढ़ योद्धा थे जो प्राचीन भारतीय क्षत्रियों के पुनर्जन्म का दावा करते थे - एक ऐसा दावा जिसका कोई ऐतिहासिक आधार नहीं था। [35][36]

एक समुदाय के रूप में उभरता

मूल शब्द राजपुत्र ( "एक राजा का पुत्र") पहली बार कई प्राचीन ग्रंथों, वेदों, में दिखाई देता है, जिसमें राजा, शाही अधिकारियों और अरस्तू के लिए शाही पदनाम  हैं। [37] [18] 

हर्षवर्धन के उपरान्त भारत में कोई भी ऐसा शक्तिशाली राजा नहीं हुआ जिसने भारत के वृहद भाग पर एकछत्र राज्य किया हो। इस युग में भारत अनेक छोटे बड़े राज्यों में विभाजित हो गया जो आपस मे लड़ते रहते थे। इनके राजा 'राजपूत'(राजपुत्र का भ्रष्ट शब्द) कहलाते थे तथा सातवीं से बारहवीं शताब्दी के इस युग को 'राजपूत युग' कहा गया है।[19] विद्वानों के अलग-अलग मत हैं  बारे में की कब  'राजपूत' शब्द ने वंशानुगत वंशावली आधारित स्थिति प्राप्त कर ली थी इतिहासकार ब्रजदुल चट्टोपाध्याय, शिलालेखों के विश्लेषण के आधार पर (मुख्य रूप से राजस्थान से), मान ते है कि 12 वीं शताब्दी तक, "राजपुत्र" शब्द किलेबंद बस्तियों, परिजनों पर आधारित भूमि से जुड़े हुए थे, और अन्य विशेषताएं जो बाद में राजपूत स्थिति का सूचक बन गईं। चट्टोपाध्याय के अनुसार, राजपुत्र शब्द 1300ad से वंशानुगत हो जाता है।  पश्चिमी और मध्य भारत से 11 वीं -14 वीं सदी के शिलालेखों का बाद का अध्ययनके अनुसार ,  इस अवधि के दौरान "राजपुत्र", "ठाकुर" और "रुटा" जैसे पदनाम जरूरी नहि की वंशानुगत नहीं थे।

हालांकि, 16 वीं शताब्दी के अंत तक, यह रक्त की शुद्धता के विचारों के आधार पर आनुवंशिक रूप से कठोर हो गया था। राजपूत वर्ग की सदस्यता अब सैन्य उपलब्धियों के माध्यम से प्राप्त होने के बजाय काफी हद तक विरासत में मिली थी। इस विकास के पीछे एक प्रमुख कारक मुगल साम्राज्य का समेकन था, जिसके शासकों की वंशावली में बहुत रुचि थी। जैसे-जैसे विभिन्न राजपूत प्रमुख मुगल साम्राज्य का हिस्सा बनें  बन गए, वे एक-दूसरे के साथ बड़े संघर्षों में नहीं लगे। इससे सैन्य कार्रवाई के माध्यम से प्रतिष्ठा प्राप्त करने की संभावना कम हो गई, और वंशानुगत प्रतिष्ठा को और अधिक महत्वपूर्ण बना दिया[38]

राजपूत राज्य एवं प्रशासित क्षेत्र

चित्तौड़गढ़ दुर्ग भारत के सबसे बड़े दुर्गों में से है। इसे सिसोदिया वंश के राजपूतों ने बनवाया था
सिन्ध में स्थित अमरकोट, जिसे राणा अमरसिंह ने बनवाया था।
भारतीय गनतंत्र दिवस पर परेड में भाग लेते हुए भारतीय सेना के राजपूत रेजिमेन्ट के सैनिक

नीचे भारतीय उपमहाद्वीप की कुछ राजपूत वंशों के नाम और उनका प्राप्ति-क्षेत्र दिया गया है।


इन्हें भी देखें

सन्दर्भ

  1. सिंह, के॰एस॰ (प्रधान संपादक) (1998). People of India [भारत के लोग] (अंग्रेज़ी में). एंथ्रोपोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया. पपृ॰ 489, 880, 656. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788171547661. अभिगमन तिथि 5 मार्च 2021.
  2. कॉहेन, स्टीफेन फ़िलिप (2006). The idea of Pakistan [पाकिस्तान का विचार] (अंग्रेज़ी में) (Rev. संस्करण). वांशिंगटन, डी॰सी॰: ब्रूकिंग्स इंस्टिट्यूशन प्रेस. पपृ॰ 35–36. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0815715030. अभिगमन तिथि 5 मार्च 2021.
  3. लियेवेन, अन्तोल (2011). Pakistan a hard country [पाकिस्तान एक कठिन देश] (अंग्रेज़ी में) (1st संस्करण). न्यूयॉर्क: पब्लिक अफेयर्स. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781610390231. अभिगमन तिथि 5 मार्च 2021.
  4. बिंगले, ए॰एच॰ (1984). The Sikhs [सिख] (अंग्रेज़ी में). अटलांटिक पब्लिसर्स & डिस्ट्रिब्युटर्स. पपृ॰ 49–51. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789351285885. अभिगमन तिथि 5 मार्च 2021.
  5. "Folk-lore, Volume 21" [लोक-साहित्य, खंड २१] (अंग्रेज़ी में). 1980. पृ॰ 79. अभिगमन तिथि 5 मार्च 2021.
  6. रॉय, रामाश्रय (1 जनवरी 2003). Samaskaras in Indian Tradition and Culture [भारतीय परंपरा और सभ्यता में संस्कार] (अंग्रेज़ी में). पृ॰ 195. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788175411401. अभिगमन तिथि 5 मार्च 2021.
  7. राजेन्द्र वोरा (2009). क्रिस्टोफ़ जाफ़रलॉट; संजय कुमार (संपा॰). Rise of the Plebeians?: The Changing Face of the Indian Legislative Assemblies (Exploring the Political in South Asia) [निम्न वर्ग का उत्थान?: भारतीय विधानसभाओं का बदलता चेहरा (दक्षिण एशिया में राजनैतिक खोज)] (अंग्रेज़ी में). रूटलेज इंडिया. पृ॰ 217. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781136516627. [In Maharashtra]The Lingayats, the Gujjars and the Rajputs are three other important castes which belong to the intermediate category. The lingayats who hail from north Karnataka are found primarily in south Maharashtra and Marthwada while Gujjars and Rajputs who migrated centuries ago from north India have settled in north Maharashtra districts.
  8. "History of the rise of the Mahomedan power in India, till the year A.D. 1612: to which is added an account of the conquest, by the kings of Hydrabad, of those parts of the Madras provinces denominated the Ceded districts and northern Circars : with copious notes, Volume 1". Spottiswoode, 1829. पृ॰ xiv. अभिगमन तिथि 29 Sep 2009.
  9. Mahomed Kasim Ferishta (2013). History of the Rise of the Mahomedan Power in India, Till the Year AD 1612. Briggs, John द्वारा अनूदित. Cambridge University Press. पपृ॰ 64–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-108-05554-3.
  10. महाजन, विद्याधर (1965). Early History of India [प्रारम्भिक भारत का इतिहास] (अंग्रेज़ी में). एस॰ चांद, 1965. पृ॰ 351. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780842613712.
  11. महाजन, विद्याधर (1965). Ancient India [प्राचीन भारत] (अंग्रेज़ी में). एस॰ चांद, 1965. पृ॰ 512.
  12. सिंह, सुबोध कुमार (2007). The Return of the Mauryas [मौर्यों की वापसी] (अंग्रेज़ी में). बबिता सिंह, 2007. पृ॰ 24. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789937200493.
  13. यूजेनिया वनीना 2012, पृष्ठ 140 "Regarding the initial stages of this history and the origin of the Rajput feudal elite, modern research shows that its claims to direct blood links with epic heroes and ancient kshatriyas in general has no historic substantiation. No adequate number of the successors of these epically acclaimed warriors could have been available by the period of seventh–eights centuries AD when the first references to the Rajput clans and their chieftains were made. [...] Almost all Rajput clans originated from the semi-nomadic pastoralists of the Indian north and north-west.
  14. डैनियल गोल्ड (1 जनवरी 1995). डेविड एन॰ लॉरेंज़ेन (संपा॰). Bhakti Religion in North India: Community Identity and Political Action [उत्तर भारत में भक्ति धर्म: सामुदायिक पहचान और राजनैतिक कार्रवाही] (अंग्रेज़ी में). स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ़ न्यूयॉर्क प्रेस. पृ॰ 122. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-7914-2025-6. Paid employment in military service as Dirk H. A. Kolff has recently demonstrated, was an important means of livelihood for the peasants of certain areas of late medieval north India... In earlier centuries, says Kolff, "Rajput" was a more ascriptive term, referring to all kinds of Hindus who lived the life of the adventuring warrior, of whom most were of peasant origins.
  15. डोरिस मेरियोन क्लिंग (1993). The Emergence of Jaipur State: Rajput Response to Mughal Rule, 1562–1743 [जयपुर राज्य की उत्पत्ति: राजपूतों का मुग़ल साम्राज्य को उत्तर, १५६२–१७४३] (अंग्रेज़ी में). यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेंसिल्वेनिया. पृ॰ 30. Rajput: Pastoral, mobile warrior groups who achieved landed status in the medieval period claimed to be Kshatriyas and called themselves Rajputs.
  16. आंद्रे विंक (1991). Al-Hind the Making of the Indo-Islamic World: The Slave Kings and the Islamic Conquest : 11Th-13th Centuries [अल-हिंद इंडो-इस्लामिक दुनिया का निर्माण: ग़ुलाम राजा और इस्लामी अधीनता: ११वीं से १३वीं सताप्दी] (अंग्रेज़ी में). ब्रिल्ल पब्लिसर्स. पृ॰ 171. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 90-04-10236-1. ...and it is very probable that the other fire-born Rajput clans like the Caulukyas, Paramaras, Cahamanas, as well as the Tomaras and others who in the eighth and ninth centuries were subordinate to the Gurjara-Pratiharas, were of similar pastoral origin, that is, that they originally belonged to the mobile, nomadic groups...
  17. A history of Rajasthan Rima Hooja pg-272
  18. Cynthia Talbot 2015, पृ॰ 119.
  19. वेदलंकार, हरिदत्त (2009). भारतीय संकृति का संक्षिप्त इतिहास. ए॰ आर॰ एस॰ पब्लिशर्स ए॰ डिस॰. पृ॰ 87. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 8183460054. मूल से 5 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 जनवरी 2016.
  20. Barbara N. Ramusack 2004, p. 13.
  21. Singh, Upinder (2008). A History of Ancient and Early Medieval India: From the Stone Age to the 12th Century. New Delhi: Pearson Education. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-317-1677-9.
  22. Alf Hiltebeitel 1999, pp. 439–440.
  23. Tod, James (1832). Annals and Antiquities of Rajasthan or the Central and Western Rajpoot States of India, Volume 2. Archived 2019-04-28 at the Wayback Machine London: Smith, Elder.
  24. Alf Hiltebeitel 1999, pp. 439–440.
  25. a History of Rajasthan Rima Hooja pg-268
  26. G.H.Ojha RajputanekaItihas,Vol.I,pp.49.
  27. Bhartiya Sanskriti Ka Sankshipt Itihas Archived 2017-07-09 at the Wayback Machine (पृष्ठ ८७)
  28. A History of Rajasthan Rima Hooja pg-268-270
  29. a History of Rajasthan Rima Hooja Pg -271
  30. Satish Chandra (2008). Social Change and Development in Medieval Indian History. Har-Anand Publications. पृ॰ 44. Modern historians are more or less agreed that the Rajputs consisted of miscellaneous groups including shudras and tribals
  31. Satish Chandra 1982, पृ॰ 92.
  32. Norman Ziegler 1976, पृ॰ 141:...individuals or groups with which the word was associated were generally considered to owe their origin to miscegenation or varna-samkara("the mixing of castes") and were thus inferior in rank to Ksatriyas.[...]What I perceive from the above data is a rather widespread change in the subjective perception and the attribution of rank to groups and individuals who emerged in Rajasthan and North India as local chiefs and rulers in the period after the muslim invasions(extending roughly from the thirteenth to the fifteenth centuries). These groups were no longer considered kshatriyas and though they filled roles previously held by kshatriyas and were attributed similar functions of sustaining society and upholding the moral order, they were either groups whose original integrity were seen to have been altered or who had emerged from the lower ranks of the caste system. This change is supported by material from the Rajput chronicles themselves...
  33. Parita Mukta (1994). Upholding the Common Life: The Community of Mirabai. Oxford University Press. पृ॰ 51. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-563115-9. The term 'Rajput' before the fifteenth century meant 'horse soldier', 'trooper', 'headman of a village' or 'subordinate chief'. Moreover, individuals with whom the word was associated were generally considered to be products of varna-samkara of mixed caste origin, and thus inferior in rank to Kshatriyas.
  34. Burton Stein (2004). David N. Lorenzen (संपा॰). Religious Movements in South Asia, 600–1800. Oxford University Press. पृ॰ 82. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-566448-5. When the rank of persons was in theory rigorously ascribed according to the purity of the birth-group, the political units of India were probably ruled most often by men of very low birth. This generalization applies to south indian warriors and may be equally applicable for many clans of Rajputs in northern India. The capacity of both ancient and medieval Indian society to ascribe to its actual rulers, frequently men of low social origins, a "clean" or "Kshatriya" rank may afford one of the explanations for the durability and longevity of the unique civilization of India.
  35. André Wink (2002). Al-Hind, the Making of the Indo-Islamic World: Early Medieval India and the Expansion of Islam 7Th-11th Centuries. BRILL. पृ॰ 282. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-391-04173-8. In short, a process of development occurred which after several centuries culminated in the formation of new groups with the identity of 'Rajputs'. The predecessors of the Rajputs, from about the eighth century, rose to politico-military prominence as an open status group or estate of largely illiterate warriors who wished to consider themselves as the reincarnates of the ancient Indian Kshatriyas. The claim of Kshatriyas was, of course, historically completely unfounded. The Rajputs as well as other autochthonous Indian gentry groups who claimed Kshatriya status by way of putative Rajput descent, differed widely from the classical varna of Kshatriyas which, as depicted in literature, was made of aristocratic, urbanite and educated clans...
  36. Norman Ziegler 1976, पृ॰ 150: Rajputs were, with some exceptions, almost totally illiterate as a caste group
  37. A history of Rajasthan Rima Hooja pg-272
  38. Prithviraj chauhan the last hindu emperor Cynthia Talbot 2015, p. 111-123
  39. John F. Richards (1995). The Mughal Empire. Cambridge University Press. पृ॰ 275. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-56603-2. मूल से 11 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 अप्रैल 2020.
  40. Trudy Ring; Noelle Watson; Paul Schellinger (12 November 2012). Asia and Oceania: International Dictionary of Historic Places. Routledge. पृ॰ 392. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-136-63979-1. मूल से 25 दिसंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 अप्रैल 2020.
  41. Amir Ahmad (2005–2006). "The Bundela Revolts During The Mughal Period: A Dynastic Affair". Proceedings of the Indian History Congress. 66: 438–445. JSTOR 44145860.
  42. P. Pathak (1983). "Origin of the Gandhavaria Rajputs of Mithila". The Journal Of The Bihar Puravid Parisad. Vii And Viii: 406–420.
  43. McLeod, John (1999). Sovereignty, Power, Control: Politics in the States of Western India, 1916-1947 (अंग्रेज़ी में). BRILL. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789004113435.
  44. dynasty of Himchal
  45. Tahir Hussain Ansari (20 June 2019). Mughal Administration and the Zamindars of Bihar. Taylor & Francis. पपृ॰ 355–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-00-065152-2.
  46. Jeffrey Witsoe (5 November 2013). Democracy against Development: Lower-Caste Politics and Political Modernity in Postcolonial India. University of Chicago Press. पपृ॰ 142–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-226-06350-8.
  47. The History of India by Kenneth Pletcher
  48. "Himotsav | Uniting Culture". himotsav.co.in. मूल से 11 May 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-08-11.
  49. B Virottam (1984). "Aspects of Economic Transformation of the Medieval Chotanagpur Tribes". Proceedings of the Indian History Congress. 45: 384–390. JSTOR 44140219.
  50. Sunita Zaidi (2003). "Notes on Demography of the Ruling Rajput Families of Rajasthan (16th - 18th century)". Proceedings of the Indian History Congress. 64: 591–595. JSTOR 44145493.
  51. Studies In Indian History: Rajasthan
  52. Joanna Williams, Kaz Tsuruta, संपा॰ (2007). Kingdom of the sun. Asian Art Museum - Chong-Moon Lee Center for Asian Art and Culture. पपृ॰ 15–16. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780939117390. मूल से 11 अक्तूबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 अप्रैल 2020.
  53. Historical Dictionary of Medieval India by Iqtidar Alam Khan
  54. "Naukar, Rajput, and Sepoy: The Ethnohistory of the Military Labour Market in Hindustan 1450-1850". पृ॰ 181. मूल से 16 जनवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 January 2017.

ग्रंथ सूची