रतन देवासी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रतन देवासी

कार्यकाल
2008 - 2013
चुनाव-क्षेत्र रानीवाड़ा , राजस्थान विधानसभा

जन्म 25 सितम्बर 1975 (1975-09-25) (आयु 46)
माउंट आबू, सिरोही
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनीतिक दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
जीवन संगी विराज देसाई (वि. 1997)

रतन देवासी उर्फ रतन देसाई एक भारतीय राजनीतिज्ञ, अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सदस्य व राजस्थान प्रदेेश कांग्रेस प्रवक्ता है। देवासी (१३वीं) विधानसभा चुनाव २००८ में रानीवाड़ा क्षेत्र सेविधायक चुनें गए तथा राजस्थान (गहलोत) सरकार में उप मुख्य सचेतक (राज्य मंत्री) रहे है। वें भारतीय आम चुनाव, 2019 में जालोर सिरोही संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस दल के लोकसभा पद प्रत्याक्षी रहे।

छात्रनेता के रूप में राजनीति की शुरुआत कर जालौरसिरोही जिले सहित प्रदेश कांग्रेस में कई पदों पर रहते हुए पार्टी द्वारा दी गयी जिम्मेदारीयों का निर्वहन मेहनत, कौशल रणनीति, राजनीति क्षमता से करते रहे, तदोपरांत मात्र 28 वर्ष की अल्पआयु में कांग्रेस पार्टी ने विधानसभा का टिकिट दिया।

देवासी ने २००३ के चुनावों में रानीवाड़ा क्षेत्र से प्रथम बारविधानसभा चुनाव लड़ा परन्तु बीजेपी के अर्जुनसिंह देवड़ा ने देवासी को शिकस्त दे दी। किन्तु हार के पश्चात भी देवासी ने ५ साल क्षेत्र में निरन्तर सक्रिय रहते हुए जनसेवा की, परिणामस्वरूप २००८ के विधानसभा चुनाव में रानीवाड़ा से ऐतिहासिक जीत दर्ज कर विधायक चुने गए और गहलोत सरकार में राज्य मंत्री (उप मुख्य सचेतक) रहे। देवासी ने रानीवाड़ा से २०१३२०१८ के दोनों विधानसभा चुनाव लड़े किन्तु क्रमशः दोनों चुनावों में बीजेपी के नारायण सिंह देवल विजयी रहे।

वर्तमान में पश्चिमी राजस्थान के जालोर तथा सिरोही जिले मेंकांग्रेस पार्टी के लोकप्रिय, सक्रिय एवं कद्दावर नेता है।

व्यक्तिगत प्रारंभिक जीवन और पृष्ठभूमि[संपादित करें]

रतन देवासी का जन्म 25 सितंबर 1975 को राजस्थान के सिरोही जिले में माउंट आबू में हुआ था। इनके पिता का नाम शंकरलाल देवासी तथा पत्नी का नाम विराज देवासी है। देवासी बचपन से ही मेधावी छात्र रहे है। वे डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट डिग्रीधारक है। देवासी छात्र जीवन से ही तेज-तर्रार एवं मृदुभाषी है।

छात्र जीवन से राजनीति[संपादित करें]

देवासी ने सर्वप्रथम राजनीति की शुरुआत छात्र नेता के रुप में कांग्रेस पार्टी की छात्र राजनैतिक (इकाई) संगठन नेशनल स्टूडेंट यूनियन ऑफ इंडिया से जुड़कर की। वे सदैव छात्रहितों हेतु तत्पर रहे। गरीब-पिछड़े छात्रों की समस्याओं के निराकरण हेतु समय समय पर प्रशासन के खिलाफ विरोध, धरना प्रदर्शन में हमेशा अग्रणी रहे। और उनकी कुशल नेतृत्व क्षमता एवं युवा जोश को देखते हुए आलाकमान ने 1997 में सिरोही जिला एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी। उसके बाद देवासी ने निरन्तर अधिकतम चुनाव में अपनी क्षमता, लगन व मेहनत से पार्टी के उम्मीदवारों को विजयी दिलाई एवं जिले भर में संघठन को पुनः मजबूत किया।

पद एवं जिम्मेदारी[संपादित करें]

विधानसभा चुनाव[संपादित करें]

विधानसभा चुनाव 2003[संपादित करें]

राजस्थान विधानसभा चुनाव, २००३ का परिणाम ४ दिसम्बर २००३ को घोषित हुआ जिसमे सतारूढ़ पार्टी कांग्रेस को भाजपा ने हरा दिया। विस् चुनाव, 2003 में कांग्रेस पार्टी ने कद्दावर किसान नेता एवं रानीवाड़ा क्षेत्र से चार बार विधायक रह चुके रतनाराम चौधरी का टिकट काटकर उनकी जगह रतन देवासी को चुनाव मैदान में उतारा था। कांग्रेस से नए प्रत्याक्षी रतन देवासी के लिए यह प्रथम चुनाव था और उनके सामने भाजपा के दिग्गज अर्जुनसिंह देवड़ा चुनावी रण में थे। पहले चुनाव में रतन देवासी को हार का सामना करना पड़ा और अर्जुन सिंह देवड़ा फिर से विधायक बने। इस चुनाव में देवड़ा को 50445 व देवासी को 38650 वोट मिले।

विधानसभा चुनाव 2008[संपादित करें]

विधानसभा चुनाव, २००८ में कांग्रेस प्रत्याशी देवासी के सामने भाजपा से नए उम्मीदवार नारायणसिंह देवल एवं निर्दलीय अर्जुन सिंह देवड़ा चुनाव मैदान में थे। रानीवाड़ा क्षेत्र से 3 बार विधायक व भाजपा सरकार में मंत्री रहे अर्जुनसिंह देवड़ा का टिकिट काटकर भाजपा ने देवल को प्रत्याशी बनाया जिससे खफा देवड़ा ने बागी होकर निर्दलीय मैदान में ताल ठोक चुनाव को अति रोमांचक बना दिया। इस चुनाव में देवासी को 46716 जबकि देवल को 26914 वोट मिले । इस त्रिकोणीय चुनाव में रतन देवासी ने 20 हजार मतो के अंतर से ऐतिहासिक विजय दर्ज की।

विधानसभा चुनाव 2013[संपादित करें]

२०१३ के विधानसभा चुनाव में रानीवाड़ा क्षेत्र से कांग्रेस के रतन देवासी को 61582 जबकि भाजपा उम्मीदवार नारायण सिंह देवल को 94234 वोट मिलें थे। इस चुनाव में नारायण सिंह देवल ने रतन देवासी को 32652 मतों के अंतर से हराया था। अब तक रानीवाड़ा क्षेत्र में हुए सभी विधानसभा चुनावों में देवल द्वारा दर्ज की गई इस जीत का अंतर सर्वाधिक रहा है।

विधानसभा चुनाव 2018[संपादित करें]

राजस्थान विधानसभा चुनाव, २०१८ में देवासी को 85482 मत हासिल हुए जबकि प्रतिद्वंद्वी देवल को 88887 वोट मिले थे। यह चुनाव देवासी महज 3000 वोटों के कम अंतराल से हार गए।

लोक सभा चुनाव 2019[संपादित करें]

लोक सभा आम चुनाव 2019 में जालोर सिरोही निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार रतन देवासी के सामने भाजपा ने 2 बार सांसद रहे देवजी पटेल को प्रत्याक्षी बनाकर चुनावी रण में उतारा था। चुनाव परिणाम में पटेल 7 लाख 72 हजार 833 मतो के साथ प्रथम तथा 5 लाख 11 हजार 723 वोट पाकर देवासी दूसरे स्थान पर रहे। मोदी फैक्टर के कारण भाजपा के पटेल ने कांग्रेस के देवासी को 2 लाख से अधिक मतो से शिकस्त दी। लेकिन इस हार के बाबजूद रतन देवासी ने कांग्रेस के खाते में अब तक हुए चुनावों में इस बार सर्वाधिक (वोट शेयर) वोट लाने का रिकॉर्ड बनाया।

विशेष उपलब्धियां[संपादित करें]

१. नर्मदा नहर पेयजल परियोजना (एफ आर, डी आर क्लस्टर)- इस योजना में हर गांव, घर तक पानी पहुचाना है।

२. राजकीय देवनारायण आवासीय विद्यालय, चांडपुरा (स्वीकृति / निर्माण )

३. मॉडल स्कूल सेवड़िया (स्वीकृति / निर्माण )

५. नवीन टैक्सी स्टेण्ड निर्माण।

४. नवीन कार्यालय, डिप्टी पुलिस।(स्वीकृति / निर्माण) ६. दोनों फाटकों के बीच फुटपाथ निर्माण।

७. मालवाड़ा में खेल मैदान हेतु स्वीकृति।

८. राजकीय विद्यालय (खेल मैदान) समतलीकरण।

९. शहर में हाई मास्क लाइट एवं मुख्य मार्ग पर बिजली पोल

१०. भीनमाल रोड (महाराणा प्रताप चौक) धोरा समतलीकरण

११. नवीन सब्जी मंडी निर्माण।

१२. किसानों के लिए नई कृषि उपज मंडी, जालेरा का निर्माण.

१३. प्रत्येक ग्राम स्तर पर स्टेण्ड निर्माण।

१५. पूरे विधानसभा में सड़क जाल नवीनीकरण कार्य ।

सन्दर्भ[संपादित करें]