याओसांग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मणिपुर में फाल्गुन मास के दिन याओसांग नामक पर्व मनाया जाता है जो होली से बहुत मिलता जुलता है। यहाँ धुलेंडी वाले दिन को 'पिचकारी' कहा जाता है। याओसांग से अभिप्राय उस नन्हीं-सी झोंपड़ी से है जो पूर्णिमा के अपरा काल में प्रत्येक नगर-ग्राम में नदी अथवा सरोवर के तट पर बनाई जाती है। इसमें चैतन्य महाप्रभु की प्रतिमा स्थापित की जाती है और पूजन के बाद इस झोंपड़ी को होली के अलाव की भाँति जला दिया जाता है। इस झोंपड़ी में लगने वाली सामग्री ८ से १३ वर्ष तक के बच्चों द्वारा पास पड़ोस से चुरा कर लाने की परंपरा है। याओसांग की राख को लोग अपने मस्तक पर लगाते हैं और घर ले जा कर तावीज़ बनवाते हैं। 'पिचकारी' के दिन रंग-गुलाल-अबीर से वातावरण रंगीन हो उठता है। बच्चे घर-घर जा कर चावल सब्ज़ियाँ इत्यादि एकत्र करते हैं। इस सामग्री से एक बड़े सामूहिक भोज का आयोजन होता है।[1] [2]


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "YAOSANG FESTIVAL" (एचटीएमएल) (अंग्रेज़ी में). stuti.myweb.uga.edu. अभिगमन तिथि 5 मार्च 2008. |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. "देश विदेश की होली" (एचटीएम). अभिव्यक्ति. अभिगमन तिथि 5 मार्च 2008. |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)