यमुना एक्सप्रेसवे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यमुना द्रुतगामी मार्ग एक द्रुतगामी मार्ग है जो १६५ किलोमीटर लम्बा है। वैसे तो यमुना द्रुतगामी मार्ग को बनाने का ऐलान साल 2001 में किया गया था। लेकिन सरकार बदली और बदलने के साथ ही साल 2003 में इस पर काम बंद हो गया। साल 2007 में इसे दोबारा शुरू किया गया। लेकिन अब यमुना द्रुतगामी मार्ग इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट अथॉरिटी ने इस हाइवे को हरी झंडी दे दी है। दिल्ली आगरा मार्ग पर बढ़ रहे परिवहन दबाव को इस द्रुतगामी मार्ग से कम किया गया है। साथ ही इस द्रुतगामी मार्ग को नए इंटरनेशनल एयरपोर्ट यानी ताज एविएशन हब से भी जोड़ा गया है। [1]

गतिसीमा[संपादित करें]

इस यमुना द्रुतगामी मार्ग पर हल्के वाहनों के लिए कम से कम गति सीमा 100 किलोमीटर प्रति घंटा है। जबकि भारी वाहनों को 60 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार है यानी इससे कम स्पीड पर चलने वाले वाहनों की प्रवेश यमुना द्रुतगामी मार्ग पर नहीं होगा। तेज़ रफ़्तार से चलने के कारण यहाँ सबसे ज्यादा सड़क हादसे होते है। [2] दुर्गघटनाओं से बचने के लिये यमुना एक्सप्रेसवे प्राधिकरण ने योगी आदित्यानाथ सरकार के आदेश से यहाँ पर चालकों की आँखों और वाहनों के पहियों की गुणवत्ता की जांच के बाद ही इसपर वाहनों को चलाने की अनुमति देने की व्यवस्था की है।[3]

आपसी बदलाव[संपादित करें]

एक्सप्रेस वे को 6 से 8 लेन किया जा सकता है। कंक्रीट से बने इस यमुना द्रुतगामी मार्ग पर 7 इंटरचेंज, 35 अंडरपास, एक रेल ओवर ब्रिज, एक बड़ा पुल और 45 छोटे पुल, 68 ट्रैक क्रासिंग हैं। टोल एकत्र करने के लिए इस द्रुतगामी मार्ग पर 3 मुख्य टोल प्लाजा और इंटरचेंज लूप पर 7 टोल प्लाजा बनाए गए हैं।

अन्य सुविधाएं[संपादित करें]

यहा तीन टोल प्लाजा हैं जिनपे ग्राहक सुविधा केंद है जहाँ यात्री जा कर अपना फास्ट टैग बनवा सकते है। प्राथमिक चिकित्सा केंद्र भी है जहाँ आप फ्री में प्राथमिक चिकित्सा ले सकते है। सभी टोल प्लाजा से 500 मीटर की दूरी पे जन सुविधा केंद्र है जहाँ यात्री अपने खाने की वस्तुएं खरीद सकते है औऱ कुछ समय के लिए आराम कर सकते है। और यहाँ निशुल्क शौचालय और मूत्रालय की भी सुविधा है। नोएडा में यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे दो प्राइवेट इंडस्ट्रियल पार्क बनाने की तैयारी भी है।[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 19 अप्रैल 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 अप्रैल 2018.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 19 अप्रैल 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 अप्रैल 2018.
  3. सक्सेना, विनय (२२ जनवरी २०२१). "यमुना एक्‍सप्रेसवे पर कमजोर आंख वाले नहीं चला पाएंगे वाहन, टायरों की भी होगी जांच". वन इंडिया. अभिगमन तिथि १६ नवंबर २०२१.
  4. तिवारी, कपिल (३ अगस्त २०२१). "नोएडा में यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे बनेंगे दो प्राइवेट इंडस्ट्रियल पार्क, मिलेंगी ये सुविधाएं". वन इंडिया.