यमुनाबाई वाईकर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यमुनाबाई वाईकर एक भारतीय लोक कलाकार थीं।[1] वह लावणी और तमाशा की मराठी लोक परम्पराओं में अपनी विशेषज्ञता के लिए जानी जाती हैं । [2]इन्हें यमुनाबाई विक्रम जवले के नाम से भी जाना जाता हैं। [3]सन 2012 में उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्मश्री के चौथे सर्वोच्च भारतीय नागरिक पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

जीवनी[संपादित करें]

यमुनाबाई का जन्म महाराष्ट्र के सतारा जिले में महाबलेश्वर के पास नुनकेलाम गाँव के एक कोल्हाटी परिवार में हुआ था।[4][5] यमुनाबाई पाँच बच्चों में सबसे बड़ी थीं। उनके पिता एक शराबी थे और वह घर छोड़कर चले गये थे। इसी कारण वह अपनी माँ के साथ सड़क पर नृत्य करती थीं।[6] 10 साल की उम्र में, वह एक लोक कला समूह में शामिल हो गईं जहाँ से उन्हें लावणी का पहला पाठ मिला। बाद में, जब उनके पिता ने उनका साथ दिया, तो परिवार ने अपने पिता के साथ ढोलकी बजाते हुए तमाशा मंडली बनाई, जहाँ बाई और उनके चचेरे भाई ने नृत्य किया।[6] बेहतर कमाई की तलाश में, परिवार मुंबई चला गया और यमुनाबाई ने मुंबई की सड़कों पर लावणी और फिल्मी गीत प्रस्तुत करना शुरू कर दिया। अपने स्ट्रीट शो की सफलता से उत्साहित होकर उन्होंने एक स्टेज शो किया, जिसने 1975 तक अपने मंचीय कैरियर की शुरुआत की। यमुनाबाई ने अपने भतीजों को इकट्ठा करते हुए एक बार फिर से एक नई मंडली बनाकर अपने करियर को पुनर्जीवित करने की कोशिश की, लेकिन कोशिश सफल नहीं रही।[6] यमुनाबाई ने प्रसिद्ध कथक गुरु, बिरजू महाराज के साथ मंच साझा किया है। कहा जाता है कि उन्होंने 1975 में उनके प्रदर्शन की सराहना की थी, जिसका मंचन दिल्ली में किया गया था। इस प्रदर्शन ने उनके करियर को एक बार फिर से जीवित करने में मदद की और उन्हें देश के अन्य हिस्सों जैसे कोलकाता, भोपाल, रायपुर में भी प्रदर्शन करने का अवसर मिला।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "IBN Live". IBN Live. 2014. अभिगमन तिथि 1 December 2014.
  2. "Planet Radio City". Planet Radio City. 2014. मूल से 17 मार्च 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 December 2014.
  3. "Sangit Kala Kendra". Sangit Kala Kendra. 2014. मूल से 5 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 December 2014.
  4. "बैठकीच्या लावणीतील घरंदाज भावकामाचा गौरव". marathibhaskar. 2012-03-03. अभिगमन तिथि 2016-12-19.[मृत कड़ियाँ]
  5. "बैठकीची लावणी शिकवायचं राहून गेलं! -Maharashtra Times". Maharashtra Times. 2011-09-18. अभिगमन तिथि 2016-12-19.
  6. "TOI". Times of India. 11 February 2002. मूल से 18 मार्च 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 December 2014.