मौलाना आजाद पुस्तकालय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मौलाना आजाद लाइब्रेरी (हिन्दी: मौलाना आज़ाद किताब ख़ाना, उर्दू: مولانا آزاد کِتاب خانہ Maulānā Azād Kitāb Kh āna) अलीगढ़, भारत में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का पुस्तकालय है। इस  केंद्रीय पुस्तकालय मे 80 से अधिक महाविद्यालय और विभागीय पुस्तकालय हैं। इन पुस्तकालयों को स्नातकोत्तर और व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के छात्रों  की जरूरत है। यह  एशिया का दूसरा सबसे बड़ा पुस्तकालय भी है।

इतिहास[संपादित करें]

केंद्रीय पुस्तकालय 1875 में स्थापित किया गया था जब विश्वविद्यालय मदरसतुल ऊलूम नामक एक मदरसे के रूप में स्थापित हुआ। 1877 में, मोहमदन एंग्लो-ओरिएंटल कॉलेज मदरसा बना। रॉबर्ट रोजर्स, भारत के वायसराय ने  आधारशिला रखी और पुस्तकालय को उनके नाम से लाईट्न लाइब्रेरी के रूप में नामित किया गया था। कई प्रसिद्ध विद्वानों ने उनके शिक्षण जिम्मेदारियों के साथ-साथ मानद पुस्तकाद्धयक्ष के रूप में कार्य किया।

पुस्तकालय को 1960 में मौलाना आजाद पुस्तकालय से नामित किया गया था, जब प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने इसकी वर्तमान इमारत का उद्घाटन किया।

निर्माण[संपादित करें]

इस इमारत में सात मंज़िलें  हैं। यह मैदान और उद्यानों की ज़मीन से घिरा हुआ है। 4.75 एकड़ (19,200 मी2)  == ==