महेन्द्र सिंह रंधावा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(मोहिंदर सिंह रणधावा से अनुप्रेषित)
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
महेन्द्र सिंह रंधावा
Chandigarh, India rose garden bust of Dr Randhawa 5.jpg
चण्डीगढ़ के गुलाब उद्यान में डॉ महेन्द्र सिंह की मूर्ति
जन्म ०२ फ़रवरी १९०९
जीरा, पंजाब, भारत
मृत्यु 3 मार्च 1986(1986-03-03) (उम्र 77)
खरर, पंजाब, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
शिक्षा प्राप्त की पंजाब विश्वविद्यालय
व्यवसाय
  • सिविल सेवक
  • उद्यानशास्त्री
  • पुनर्वास महानिदेशक
जीवनसाथी इकबाल कौर रंधावा
बच्चे जतिन्दर सिंह रंधावा

महेन्द्र सिंह रंधावा (फरवरी, 1909 -- 3 मार्च, 1986) भारतीय इतिहासकार, वनस्पतिशास्त्री, सिविल सेवक, लेखक और कला व संस्कृति के प्रवर्तक थे। विस्तृत अनुभव के आधार पर उन्होंने अपनी पुस्तकों में भारत के वनों, उपवनों, उद्यानों और देहाती क्षेत्रों की वनस्पति से संबंधित वैज्ञानिक ज्ञान और अनुभूतियों को काव्यमय शैली में इस प्रकार प्रस्तुत किया है कि ये पुस्तकें साहित्य और विज्ञान की अमूल्य निधि बन गयी है। उनकी पुस्तक "ब्यूटीफुल गार्डन्स" का देवकीनंदन पालीवाल द्वारा किया गया हिन्दी रूपांतर 'सुहावने उद्यान' शीर्षक से बहुत लोकप्रिय हुआ।

महिंदर सिंह रंधावा ने भारत में कृषि अनुसंधान की स्थापना में प्रमुख योगदान दिया था। भारत के विभाजन के फलस्वरूप पाकिस्तान से निर्वासित लोगों को पुनर्स्थापित करने में भी उन्होने पुनर्वास के महानिदेशक के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने चण्डीगढ़ शहर की स्थापना और पंजाब की कला, भारत में कृषि के इतिहास का दस्तावेजीकरण करने में महती सक्रियता दिखाई। उन्होंने 1 नवम्बर, 1966 से 31 अक्टूबर, 1968 तक चंडीगढ़ के मुख्य कमिश्नर का पद भी सम्भाला।

महेन्द्र सिंह रन्धावा को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

प्रकाशित कृतियाँ[संपादित करें]

रंधावा बहुत लिखते थे। फफूँद (algae) पर अनेक शोधपत्रों के अतिरिक्त उन्होंने कला, इतिहास, संस्कृति और कृषि पर भी अनेकों पुस्तकों की रचना की। १९८५ में पंजाबी में उनकी आत्मकथा प्रकाशित हुई जिसका नाम है - "आप बीती"। उनकी अन्य कृतियाँ निम्नलिखित हैं-