मुहम्मद इक़बाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(मोहम्मद इकबाल से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मुहमद इक़बाल
محمد اقبال
Iqbal.jpg
जन्म 9 नवम्बर 1877
सियालकोट, पंजाब, ब्रितानी भारत
मृत्यु 21 अप्रैल 1938(1938-04-21) (उम्र 60)
लाहौर, पंजाब, भारत
अन्य नाम अल्लमा इक़बाल
जातीयता पंजाबी समुदाय
बच्चे Javid Iqbal[*]
माता-पिता Sheikh Noor Muhammad[*]
जालस्थल अल्लमा इक़बाल
युग २०वीं सदी के दार्शनिक
क्षेत्र ब्रितानी भारत
Main interests
शायरी, फ़ारसी कवितायें
Notable ideas
दो-क़ौमी नज़रिया, पाकिस्तान की अवधारणा

सर मुहम्मद इक़बाल (उर्दू: محمد اقبال)   (जीवन: 9 नवम्बर 1877 – 21 अप्रैल 1938) अविभाजित भारत के प्रसिद्ध कवि, नेता और दार्शनिक थे। उर्दू और फ़ारसी में इनकी शायरी को आधुनिक काल की सर्वश्रेष्ठ शायरी में गिना जाता है।
इकबाल के दादा सहज सप्रू हिंदू कश्मीरी पंडित थे जो बाद में सिआलकोट आ गए।[1] इनकी प्रमुख रचनाएं हैं: असरार-ए-ख़ुदी, रुमुज़-ए-बेख़ुदी और बंग-ए-दारा, जिसमें देशभक्तिपूर्ण तराना-ए-हिन्द (सारे जहाँ से अच्छा) शामिल है। फ़ारसी में लिखी इनकी शायरी ईरान और अफ़ग़ानिस्तान में बहुत प्रसिद्ध है, जहाँ इन्हें इक़बाल-ए-लाहौर कहा जाता है। इन्होंने इस्लाम के धार्मिक और राजनैतिक दर्शन पर काफ़ी लिखा है।

भारत के विभाजन और पाकिस्तान की स्थापना का विचार सबसे पहले इक़बाल ने ही उठाया था। 1930 में इन्हीं के नेतृत्व में मुस्लिम लीग ने सबसे पहले भारत के विभाजन की माँग उठाई। इसके बाद इन्होंने जिन्ना को भी मुस्लिम लीग में शामिल होने के लिए प्रेरित किया और उनके साथ पाकिस्तान की स्थापना के लिए काम किया। इन्हें पाकिस्तान में राष्ट्रकवि माना जाता है। इन्हें अलामा इक़बाल (विद्वान इक़बाल), मुफ्फकिर-ए-पाकिस्तान (पाकिस्तान का विचारक), शायर-ए-मशरीक़ (पूरब का शायर) और हकीम-उल-उम्मत (उम्मा का विद्वान) भी कहा जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]