मोहन सिंह (राजनीतिज्ञ)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मोहन सिंह

सांसद
चुनाव-क्षेत्र देवरिया

जन्म 4 मार्च 1945 (1945-03-04) (आयु 74)
देवरिया, उत्तर प्रदेश
मृत्यु सितम्बर 22, 2013(2013-09-22) (उम्र 68)
एम्स, दिल्ली
राजनीतिक दल सपा
जीवन संगी उर्मिला सिंह
बच्चे 2 पुत्रियाँ
निवास देवरिया
धर्म हिन्दू क्षेत्रिय
As of 17 सितम्बर, 2006
Source: [पुरालेख जिसका मूल लेख यहाँ पर था।]

मोहन सिंह (4 मार्च 1945 - 22 सितम्बर 2013) समाजवादी पार्टी के एक भारतीय राजनीतिज्ञ थे।[1] वो उत्तर प्रदेश के देवरिया लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र से तीन बार सांसद निर्वाचित हुए। वो समाजवादी पार्टी के महासचिव थे। २२ सितम्बर २०१३ को रक्त कैंसर से दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया। अंगूठाकार|समाजवादी पार्टी

राजनैतिक जीवन[संपादित करें]

मोहन सिंह के पिता का नाम महेन्द्र प्रताप सिंह था, उनका जन्म १९४५ में देवरिया के गाँव जयनगर में हुआ था।[2] डॉक्टर राम मनोहर लोहिया के विचारों से प्रभावित हुए और उनके सानिध्य में इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष भी रहे। उन्होंने छात्रों एवं युवा आंदोलनों का भी नेतृत्व किया तथा आपातकाल के खिलाफ आवाज उठाने के कारण 1975-76 में जेल भी गए।[3][4] 1991 के आम चुनाव में देवरिया लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से वो जनता दल के टिकट पर सांसद चुने गये। यहाँ पर उन्होंने काग्रेस की शशि शर्मा और तत्कालीन केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री राजमंगल पांडेय को हराया था लेकिन 1996 के आम चुनाव के लिए उन्हें सांसद होते हुए भी इस निर्वाचन क्षेत्र से टिकट नहीं मिली। उसके बाद उन्होंने समाजवादी पार्टी को चुना और अपने अन्तिम क्षणों तक उसके कार्यकर्ता रहे।[5] २२ सितम्बर २०१३ को रक्त कैंसर से दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. PTI (2012-01-06). "Samajwadi Party leader Mohan Singh no more". द हिन्दू. अभिगमन तिथि 2013-10-18.
  2. "मोहन सिंह पंचतत्व में विलीन, मुलायम ने दिया अर्थी को कंधा". दैनिक जागरण. 24 सितम्बर 2013. अभिगमन तिथि 18 अक्टूबर 2013.
  3. "समाजवादी पार्टी नेता मोहन सिंह का एम्स में निधन". नवभारत टाइम्स. २२ सितम्बर २०१३. अभिगमन तिथि 18 अक्टूबर 2013.
  4. "सपा नेता और राज्यसभा सांसद मोहन सिंह नहीं रहे". ज़ी न्यूज़. २२ सितम्बर २०१३. अभिगमन तिथि 18 अक्टूबर 2013.
  5. संजय मिश्र (२२ सितम्बर २०१३). "निराश हुए पर कभी हौसला नहीं खोया मोहन सिंह ने". दैनिक जागरण. अभिगमन तिथि 18 अक्टूबर 2013.