मोटेश्वर महादेव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मोटेश्वर महादेव
Moteshwar Mahadev temple, Kashipur.jpg
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताहिंदू धर्म
डिस्ट्रिक्टउधम सिंह नगर
देवताभीमाशंकर (शिव)
त्यौहारमहाशिवरात्रि
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिकाशीपुर
राज्यउत्तराखण्ड
देशभारत
मोटेश्वर महादेव की उत्तराखण्ड के मानचित्र पर अवस्थिति
मोटेश्वर महादेव
उत्तराखण्ड में स्थान
भौगोलिक निर्देशांक29°07′12″N 78°34′12″E / 29.12000°N 78.57000°E / 29.12000; 78.57000निर्देशांक: 29°07′12″N 78°34′12″E / 29.12000°N 78.57000°E / 29.12000; 78.57000
मंदिर संख्या०१

मोटेश्वर महादेव मंदिर भारत के उत्तरी राज्य उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर जिले के काशीपुर तहसील में स्थित एक मन्दिर है। यहां के चैती मैदान में महादेव नगर के किनारे चैती मंदिर स्थित यह मंदिर महाभारत कालीन बताया जाता है और इसका शिवलिंग बारहवां उप ज्योतिर्लिंग माना जाता है। शिवलिंग की मोटाई अधिक होने के कारण यह मोटेश्वर महादेव मंदिर के नाम से विख्यात है। स्कंद पुराण के अनुसार भगवान शिव ने कहा कि जो भक्त कांवड़ कंधे पर रखकर हरिद्वार से गंगा जल लाकर यहां चढ़ाएगा, उसे मोक्ष मिलेगा। इसी मान्यता के कारण लोग अपनी मन्नत पूरी होने पर यहा लोग कांवड़ चढ़ाते हैं। मोटेश्वर महादेव मंदिर दूसरी मंजिल पर है। इस शिवलिंग के चारों ओर तांबे का फर्श बना है और इसे जागेश्वर के एक कारीगर ने बनाया था। शिवलिंग की मोटाई अधिक होने के कारण इसे कोई अपने दोनों हाथों से घेर नहीं पाता है।

उत्सव[संपादित करें]

यहां रोजाना सैकड़ों श्रद्धालु पूजा करने आते हैं। हर साल महाशिवरात्रि पर्व पर यहां भव्य मेला लगता है जिसमें उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद, रामपुर, बिजनौर, ठाकुरद्वारा से कई श्रद्धालु यहां हर साल कांवड़ चढ़ाने आते हैं। इस अवसर पर एक दिन पहले से मंदिर में भक्तों की लाइन लग जाती है और आधी रात से कांवड़ चढ़नी शुरू हो जाती है।

मन्दिर[संपादित करें]

श्री भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग (मोटेश्वर महादेव) विग्रह।

मान्यतानुसार यह शिवलिंग स्थापित नहीं है बल्कि जमीन से टिका है। इसे बारहवां उप ज्योतिर्लिंग माना जाता है।[1] कहते हैं कि यह मूल रूप से महाराष्ट्र स्थित भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग का ही रूप है।[2] कई लोगों ने इसकी गहराई नापने की कोशिश की लेकिन नहीं नाप सके। लोगों का अनुमान है कि शिवलिंग की गहराई लगभग ३० फुट है। पहले इसका भूतल खुला था किन्तु १९४२-४३ में मंदिर के भूतल में भगदड़ मचने से तीन-चार लोगों की मृत्यु हो गई थी अतः सुरक्षा की दृष्टि से तब से भूतल बंद कर दिया गया। अब ऊपरी मंजिल पर मंदिर है।[2] कहते हैं पहले मंदिर का फर्श शुद्ध पीतल का था। तब एक श्रद्धालु ने उसके स्थान पर जयपुर से बैलगाड़ियों पर संगमर्मर का पत्थर मंगाकर लगवाया और ने पीतल को गलाकर उसका घंटा बनवा कर लगवा दिया। मंदिर की अन्दरूनी दीवारें कई कोणों में बनी हैं। बहुत से श्रद्धालुओं ने कई बार मंदिर का जीर्णोद्धार किया। १९८० में सेठ मूलप्रकाश की मन्नत पूरी होने पर उन्होंने संपूर्ण मंदिर का जीर्णोद्धार कराया।

यहां के पुजारी के अनुसार यह मंदिर द्वापरयुगीन हैं। मान्यता है कि गुरु द्रोणाचार्य गोविषाण में कौरव-पांडवों को शिक्षा दे रहे थे, तभी द्रोणाचार्य को शिवलिंग दिखाई दिया। तब भीम ने वहां पर मंदिर बनाकर द्रोणाचार्य को गुरुदक्षिणा में दिया।[1] किसी समय इस मंदिर को घेरे हुए १२० शिव मंदिर थे।[2] एक गुजराती नागर ब्राह्मण परिवार नौ पीढ़ियों से मंदिर की सेवा कर रहा हैं। उन्हीं के अनुसार बुक्शा जनजाति के लोगों के कुल देवता महादेव हैं। यह भी मान्यता है कि यह शिवलिंग भगवाण राम के जन्म से भी पहले का है और यहां माता सीता ने भी तपस्या, अर्चना की थी।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "पांडवों ने की थी मोटेश्वर महादेव मंदिर की स्थापना". दैनिक जागरण. अभिगमन तिथि 2018-05-14.
  2. "अद्भुत है मोटेश्वर महादेव मंदिर का ज्यार्तिलिंग". अमर उजाला. २३ फ़रवरी २०१७. अभिगमन तिथि १४ मई २०१८.
  3. "प्रकृति की गोद में विराजे हैं मोटेश्वर महादेव– News18 हिंदी". News18 India. अभिगमन तिथि 2018-05-14.

बाहरी सूत्र[संपादित करें]

  1. "उत्तराखंड के ऐतिहासिक शहर काशीपुर का सफऱ – दुनिया देखो". duniadekho.in. अभिगमन तिथि 2018-05-14.
  2. वीडियो यू ट्यूब पर देखें:मोटेश्वर महादेव मन्दिर

इन्हें भी देखें[संपादित करें]